ताज़ा खबर
 

संगठन में बदलाव: जमीनी कार्यकर्ताओं से बात कर बनेगी दिल्ली भाजपा की टीम

पार्टी चाहती है कि संगठन की टीम में सिफारिशी चेहरे ना नजर आए बल्कि जमीन पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं को भी तवज्जो दी जाए। मजबूत टीम ही निगम व राज्य चुनाव का बड़ा आधार तैयार कर सकती है। बीते 20 साल से भी अधिक समय से पार्टी दिल्ली सत्ता से बाहर है।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा। दिल्ली प्रदेश में पार्टी पिछले 20 वर्षों से सत्ता से बाहर है। इस बार संगठन को मजबूत करने की कवायद चल रही है।

नए अध्यक्ष की तैनाती के साथ ही दिल्ली भाजपा की नई टीम गठन प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस टीम में ऐसे चेहरे तलाशे जा रहे हैं जो युवा हो और आने वाले चुनाव में पार्टी के कामकाज का बीड़ा उठा सकें। इसके लिए केंद्रीय नेतृत्व ने एक विशेष टीम तैनात की है जो जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से फीडबैक लेकर प्रदेश संगठन की टीम तैयार करेगी। जिला व मंडल गठन से इस कार्य की शुरुआत होगी।

दिल्ली के जिला व मंडल तैयार होने के बाद दिल्ली प्रदेश से जुड़े विभिन्न प्रकोष्ठ, सेल समेत अन्य टीमों को तैयार किया जाएगा। इससे कई पुराने चेहरों की जगह नए व युवा नेताओं को मिल सकेगी। पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय नेतृत्व ने इस बार स्पष्ट आदेश हैं कि एक ऐसी टीम का गठन हो, जो देश के अन्य राज्यों के लिए भी एक रोल मॉडल का काम करे।

इसका जिम्मा केंद्रीय नेतृत्व के नेताओं पर छोड़ा गया है। ये नेता ही स्थानीय नेताओं से विस्तृत चर्चा करेंगे और एक माह के अंदर इस टीम के गठन का खाका तैयार करके पार्टी आलाकमान को देंगे। दिल्ली में अब सबसे 2021 में निगम के चुनाव होंगे। इसी चुनाव को केंद्रीत करके इस टीम को तैयार किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक इस प्रक्रिया से केंद्रीय नेतृत्व ने केंद्र की टीम को दिल्ली की मदद के लिए लगाया है। इसमें राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह व राष्ट्रीय महिला मोर्चा अध्यक्ष विजय राहटकर शामिल है। ये सीधे तौर पर केंद्र व राज्य के बीच तालमेल के लिए काम कर रहे हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि पार्टी चाहती है कि संगठन की टीम में सिफारिशी चेहरे ना नजर आए बल्कि जमीन पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं को भी तवज्जो दी जाए। मजबूत टीम ही निगम व राज्य चुनाव का बड़ा आधार तैयार कर सकती है। बीते 20 साल से भी अधिक समय से पार्टी दिल्ली सत्ता से बाहर है।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की जिम्मेदारी भी बढ़ाने की तैयारी इस बार पार्टी कर रही है। यही वजह है कि हाल ही में उड़ीसा राज्य के चुनाव एक उदाहरण भी सामने रखकर बड़े नेताओं को जिम्मेदारी देने के संकेत दिए गए है। बताया गया है कि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता, विधायक व मंत्री ने खुद ही पार्टी से जिला स्तर की जिम्मेदारी ली थी।

अपनी यह जिम्मेदारी नेता ने बखूबी निभाई और पार्टी वहां अधिक सीट जीतने में कामयाब रही। ऐसे उदाहरण के साथ पार्टी के अन्य नेताओं को आगे बढ़कर जिम्मेदारी लेने के संकेत देने की कोशिश की गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विशेष: उसने आखिर कहा क्या था!
2 विशेष: प्रेम अब भी एक संभावना
3 विशेष: प्रेम का त्यागपत्र
IPL 2020 LIVE
X