ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव में भाजपा की लुटिया डुबो सकती हैं सुषमा-वसुंधरा

भाजपा को वसुंधरा राजे और सुषमा स्वराज के कारण पैदा हुए विवाद की बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। दो माह बाद होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर करवाए गए...

Author June 28, 2015 9:07 AM
सुषमा स्वराज और वसुंधरा राजे के विवादों में आने की वजह से राजग के सहयोगी दल उससे अलग होकर चुनाव लड़ने पर विचार कर रहे हैं।

भाजपा को वसुंधरा राजे और सुषमा स्वराज के कारण पैदा हुए विवाद की बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। दो माह बाद होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर करवाए गए सर्वे के नतीजे बेहद चौंकाने वाले हैं। इनके मुताबिक राज्य में भाजपा को सिर्फ 47 सीटें मिलने की संभावना है। इस खबर से राजग के सहयोगी दल उससे अलग होकर चुनाव लड़ने पर विचार कर रहे हैं।

भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन चुके बिहार चुनाव उसके लिए बहुत बुरी खबर ला सकते हैं। सुषमा स्वराज और वसुंधरा राजे विवाद के बाद पार्टी की ओर से कराए गए सर्वेक्षण के नतीजे चौंकाने वाले हैं। सर्वेक्षण के मुताबिक आज के हालत में उसे विधानसभा चुनाव में केवल 47 सीटें ही मिल सकती हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में जद (एकी) के साथ चुनाव लड़ कर गठबंधन ने 247 सदस्यीय विधानसभा में 206 सीटें हासिल की थीं। लोकसभा चुनाव में भी भाजपा और उसके सहयोगी दलों ने 40 में से 31 सीटें जीत लीं। हालांकि उन्हें 31 फीसद ही वोट मिले थे।

राजग के सहयोगी दलों रामविलास पासवान की लोजपा और उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) को आशंका है कि अगले महीने होने वाले संसद के अधिवेशन में सरकार की और फजीहत होगी। यह सत्र अगस्त तक चलेगा। चुनाव आयोग कह चुका है कि सितंबर या अक्तूबर में कभी भी चुनाव कराए जा सकते हैं। ऐसी हालत में उन्हें लग रहा है कि भाजपा के साथ जाना घातक साबित हो सकता है। वैसे भी लोकसभा चुनाव के बाद दस विधानसभा उपचुनाव में भाजपा का लगभग सूपड़ा साफ हो गया था। इस कांड के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि बुरी तरह प्रभावित हुई है।

बिहार में भाजपा के सहयोगी दलों का मानना है कि अगर वे जीतन राम मांझी के साथ मिलकर अपना अलग फ्रंट बना कर चुनाव लड़ते हैं तो मुसलमान वोट भी उनकी ओर जा सकता है। पप्पू यादव के भी कुछ इलाकों में प्रभाव की अनदेखी नहीं की जा सकती।

बिहार में छह-सात फीसद कुशवाहा, 12 से 13 फीसद यादव, करीब 18 फीसद दलित और महादलित, छह फीसद भूमिहार, डेढ़ फीसद कुर्मी और करीब 14 फीसद मुसलिम वोट हैं। ऐसे में पासवान, कुशवाहा, मांझी और पप्पू यादव के साथ आने से उन्हें जीत हासिल हो सकती है। क्योंकि उस हालत में मुसलिम मतदाताओं का भी उनके प्रति स्वाभाविक झुकाव हो सकता है।

बताते हैं कि इसी रणनीति के तहत तीनों दल आपस में पहले राउंड की चर्चा कर चुके हैं। राम विलास पासवान राजग से अलग होने में हिचकिचा रहे हैं। वे इस समय केंद्र में कैबिनेट मंत्री हैं और किसी तरह का जोखिम लेने से कतरा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक उन्होंने इस विचार को पूरी तरह से खारिज नहीं किया है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक पार्टी के सवर्ण नेता भी अपने नेताओं की मनमानी से खुश नहीं हैं। ये नेता सुशील मोदी को किसी भी हालत में मुख्यमंत्री पद का दावेदार मानने को तैयार नहीं हैं। उनका मानना है कि मोदी को संरक्षण देने वाले हाईकमान के बड़े नेता सब पर उनको थोप रहे हैं।

हाल ही में जो पार्टी के बड़े नेताओं के बयान आए हैं, उसकी अनदेखी नहीं की जा सकती। इनमें कीर्ति आजाद (ब्राह्मण), आरके सिंह (ठाकुर) हैं। भूमिहार भी पार्टी से खुश नहीं हैं। भूमिहारों को मनाने के लिए ही हाल ही में शीर्ष नेतृत्व को रामधारी सिंह दिनकर याद आ गए। चुनाव के ठीक पहले जयप्रकाश नारायण की याद में स्मारक बनाया जा रहा है। बताते हैं कि कुछ समय पहले उपेंद्र कुशवाहा ने नरेंद्र मोदी से मिलकर उन्हें यह बताया था कि अगर उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट नहीं किया गया तो शायद थोक भाव में कुशवाहा वोट हासिल करने में दिक्कत आ सकती है। सहयोगी दल के एक नेता के मुताबिक चुनाव तक वहां के राजनीतिक समीकरण कभी भी बदल सकते हैं।

*पार्टी के आंतरिक सर्वेक्षण के मुताबिक केवल 47 सीटें मिलेंगी
*अलग चुनाव लड़ने की रणनीति बना रहे हैं भाजपा के सहयोगी

(विवेक सक्सेना)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App