BJD MP Jay Panda says he will return salary proportional to time wasted in Parliament - संसद में काम ना होने से दुखी MP,किया ऐलान- सत्र के दौरान बर्बाद वक्त के बराबर सैलरी लौटा दूंगा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

संसद में काम ना होने से दुखी MP,किया ऐलान- सत्र के दौरान बर्बाद वक्त के बराबर सैलरी लौटा दूंगा

बीजू जनता दल (बीजेडी) से सांसद बेयजयंत पांडा ने ऐलान किया है कि वह संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान खराब हुए वक्त के बराबर सैलरी वापस देंगे।

सांसद बेयजयंत पांडा

बीजू जनता दल (बीजेडी) से सांसद बेयजयंत पांडा ने ऐलान किया है कि वह संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान खराब हुए वक्त के बराबर सैलरी वापस देंगे। पांडा ने यह बात ट्वीट करके कही। जिसके लिए उनकी काफी तारीफ हो रही है। पांडा लोकसभा में ओडिशा की केंद्रपारा सीट से सांसद हैं। उनके ट्वीट को दो हजार से ज्यादा बार लोग रीट्वीट कर चुके हैं। कई लोग उनके कदम को सराहनीय बता रहे हैं। वह पहले भी ऐसा करते रहे हैं। गौरतलब है कि संसद का पूरा शीतकालीन सत्र नोटबंदी के हंगामे की भेंट चढ़ गया। इतना हंगामा पिछले 15 सालों में नहीं हुआ। इस हिसाब से संसद का यह सत्र पिछले 15 सालों में सबसे कम करने वाला सत्र रहा। सत्र के दौरान लोकसभा में काम का प्रतिशत 15.75 रहा तो राज्यसभा में यह 20.61 प्रतिशत था। वहीं प्रश्न काल में लोकसभा में 11 प्रतिशत सवालों के जवाब दिए गए तो राज्यसभा में 0.6 प्रतिशत सवालों का जवाब दिया गया।

सत्र के दौरान लोकसभा में आयकर संशोधन बिल बिना किसी बहस के पास हो गया लेकिन राज्यसभा में इसे पेश ही नहीं किया गया। दोनों सदनों में सिर्फ विक्लांग व्यक्तियों के अधिकारों वाला विधेयक ही पास हो सका। दोनों सदनों में इतना कम काम होने पर लोकसभा की स्पीकर सुमित्रा महाजन और राज्यसभा के चेयरमैन हामिद अंसारी ने दुख प्रकट किया।

शीतकालीन सत्र 16 नवंबर से शुरू हुआ था। घंटों का हिसाब लगाया जाए तो लोकसभा ने हंगामे की वजह से 92 घंटे खोए और सिर्फ 19 घंटे काम किया। वहीं राज्यसभा ने 86 घंटे खोए और 22 घंटे काम किया। दूसरे शब्दों में लोकसभा ने एक घंटे काम के बदले पांच घंटे गंवाए गए वहीं राज्यसभा में एक घंटे के बदले चार घंटे का समय बर्बाद हुआ।

इस वक्त की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App