ताज़ा खबर
 

Birthday Special: पटना यूनिवर्सिटी में पिता थे वीसी… प्रोफेसर पत्नी भी रह चुकी हैं एबीवीपी की सदस्य…जानें नड्डा के परिवार के बारे में खास बातें

नड्डा ने लोगों से एहतियात बरतने का आग्रह किया ताकि संक्रमण से बचा जा सके। सोशल मीडिया पर संदेश जारी कर बीजेपी ने कहा कि समर्थक और सदस्य नड्डा के आवास या कार्यालय के बाहर भीड़ एकत्रित न करें।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: December 2, 2020 10:18 AM
JP Nadda in hindi, JP Nadda Biography in hindi, JP Nadda Family in hindi, JP Nadda New President BJP in hindi, JP Nadda Political Journey, JP Nadda Political career in hindi, JP NaddaWho is JP Nadda in hindi, JP Nadda contact number, JP Nadda home town, JP Nadda wife in hindi, JP Nadda RSS, JP Naddaजगत प्रकाश नड्डा का आज 60वां जन्म दिन है। (file)

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा का आज 60वां जन्म दिन है। 2 दिसंबर, 1960 को बिहार की राजधानी पटना में जन्मे इस साल अपना जन्मदिन नहीं मनाएंगे। कोरोना महामारी के चलते वे अपना जन्मदिन नहीं मनाएंगे। नड्डा ने लोगों से एहतियात बरतने का आग्रह किया ताकि संक्रमण से बचा जा सके। सोशल मीडिया पर संदेश जारी कर बीजेपी ने कहा कि समर्थक और सदस्य नड्डा के आवास या कार्यालय के बाहर भीड़ एकत्रित न करें।

नड्डा राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से पहले पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव थे। वे हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा सांसद भी थे। ब्राह्मण परिवार में जन्मे नड्डा का विवाह 1991 में डॉ. मल्लिका से हुआ और उनके दो बच्चे हैं। जेपी नड्डा की सास श्रीमती जयश्री बनर्जी मध्य प्रदेश के जबलपुर से लोकसभा सांसद रेह चुकी हैं। वहीं उनकी पत्नी भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) की सदस्य थी। मल्लिका 1988 से 1999 तक एबीवीपी की राष्ट्रीय महासचिव भी थे। वे हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में इतिहास की प्रोफेसर हैं।

1975 में जेपी नड्डा जयप्रकाश नारायण (जेपी) आंदोलन का हिस्सा बने और अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की। उन्होंने एबीवीपी में शामिल होकर छात्र राजनीति में प्रवेश किया। तब उनके पिता पटना विश्वविद्यालय के वाइस-चान्सेलर थे। 1977 में, एबीवीपी के टिकट पर, उन्होंने पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के सचिव के रूप में चुनाव जीता। वह एबीवीपी के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में शामिल हो गए और विभिन्न पदों पर काम किया।

1987 में सरकार विरोधी अभियान चलाने के लिए नड्डा 45 दिनों के लिए जेल भी गए। उन दिनों उन्होंने राष्ट्रीय कांग्रेस मोर्चा की स्थापना की थी। 1989 के लोकसभा चुनाव के दौरान, उन्हें भाजपा की युवा शाखा के चुनाव प्रभारी के रूप में एक बड़ी जिम्मेदारी प्रदान की गई और 1991 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष बने।

नड्डा ने हिमाचल प्रदेश से लोकसभा का चुनाव लड़ा और तीन बार जीत हासिल की। इस दौरान वे हिमाचल प्रदेश में कैबिनेट मंत्री भी रहे। 2012 में उन्होंने राज्यसभा चुनाव लड़ा और परिवहन, पर्यटन और संस्कृति समितियों के सदस्य बने। 2014 की नरेंद्र मोदी सरकार में वह स्वास्थ्य मंत्री बने और 2019 तक सेवा की।

नड्डा को जून 2019 में भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में भी नियुक्त किया गया था तब अमित शाह भाजपा प्रमुख थे। 20 जनवरी, 2020 को उन्हें भारतीय जनता पार्टी का 11वां राष्ट्रिय अध्यक्ष चुना गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘यूपी और उत्तराखंड के किसानों को सरकार ने दिया धोखा, सिर्फ कानून हाथ में लेने वालों से करती है बात – सरदार वीएम सिंह
2 किसान भाइयों से वादा करता हूं रिपब्लिक उन्हें न्याय दिलाकर रहेगा- सुशांत केस छोड़ किसान आंदोलन पर बोले अर्नब गोस्वामी
3 दिल्ली में कोरोना से 24 घंटे में 86 मौत
ये पढ़ा क्या?
X