गर्म मिजाज तेज प्रताप यादव ने बनाया नया संगठन, प्रमुख बन कहा- यह अलग तरीके से चलेगा; BJP ने लालू को घेरा

तेज प्रताप के मुताबिक, “राजद को सशक्त करने के लिए यह नया सामाजिक संगठन बनाया गया है। यह शिक्षा, स्वास्थ्य, कानून और बेरोजगारी सरीखे अहम मुद्दों को उठाने का काम करेगा।”

Tej Pratap Yadav, RJD, India News
बिहार के पूर्व कबीना मंत्री तेज प्रताप यादव ने अपने फेसबुक अकाउंट पर रविवार को छात्रों और युवाओं के साथ बैठक के दौरान का फोटो साझा किया।

बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने एक नया संगठन बना लिया है। रविवार (पांच सितंबर, 2021) को शिक्षक दिवस पर राजधानी पटना में अपने घर पर एक कार्यक्रम में उन्होंने इस बारे में बताया। कहा कि उन्होंने इसका नाम छात्र जन शक्ति परिषद (Chhatra Janshakti Parishad) रखा है, जबकि खुद इसके प्रमुख बने हैं। तेज के मुताबिक, इसका गठन छात्रों के मुद्दों को लेकर संघर्ष करने के लिए किया गया है।

गर्म मिजाज वाले सूबे के पूर्व कबीना मंत्री ने इस दौरान पत्रकारों को बताया, “राजद को सशक्त करने के लिए यह नया सामाजिक संगठन बनाया गया है। यह शिक्षा, स्वास्थ्य, कानून और बेरोजगारी सरीखे अहम मुद्दों को उठाने का काम करेगा।” बकौल तेज, “हम इसके जरिए बिहार में नए आंदोलन की शुरुआत करेंगे, जो कि दूसरे राज्यों तक भी पहुंचेगा। छात्र राजद अलग काम करेगा, जबकि यह दूसरी तरह से चलेगा। यह अलग काम करेगा। हमने इसे पंजीकृत कराया है।”

रोचक बात है कि तेज प्रताप ने यह संगठन ऐसे वक्त पर गठित किया है, जब प्रदेश राजद प्रमुख जगदानंद सिंह से उनके संबंध ठीक नहीं हैं। कुछ रोज पहले ही दोनों के बीच सियासी खटपट खुलकर सामने आ गई थी। वैसे, लालू के बड़े बेटे की ओर से साफ किया गया है कि उनका यह छात्र संगठन अलग नहीं है। यह राजद का ही अभिन्न हिस्सा होगा और इसका मुख्य उद्देश्य पार्टी को मजबूत करते हुए उसमें नई जान फूंकना होगा।

इसी बीच, बीजेपी ने इस छात्र संगठन को लेकर लालू पर जुबानी हमला बोल दिया। पार्टी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि लालू सामाजिक न्याय के मसीहा थे, पर उन्होंने अपने परिवार के साथ कोई न्याय नहीं किया। उन्होंने आगे आरोप लगाया कि राजद सुप्रीमो ने इस बात पर विचार ही नहीं किया कि परिवार में कौन बड़ा है। उन्होंने बड़ी बेटी मीसा भारती और बड़े बेटे तेज को परिवार और सियासत से बाहर रखा, जबकि छोटे बेटे तेजस्वी को राजनीतिक विरासत सौंप दी।

बकौल आनंद, “परिवार में जिसके साथ अन्याय हुआ है वह अपने वजूद के लिए लड़ेगा। तेज प्रताप बार-बार इस कुंठा को व्यक्त करते नजर आ रहे हैं। उन्होंने अब छात्रों के नाम पर अपना नया संगठन बना लिया है, लेकिन दुर्भाग्य से उन्होंने खुद अच्छी शिक्षा ठीक से नहीं ली है। क्या अब यह फर्जी छात्र (तेज) चलाएगा छात्रों का संगठन?”

दरअसल, तेज कुछ दिनों से अपनी पार्टी से खफा माने जा रहे हैं। जिस छोटे भाई के लिए वह “कृष्ण” की भूमिका निभा चुके हैं, उसी “अर्जुन” से उनकी ट्यूनिंग कुछ रोज पहले लड़खड़ाती दिखी थी। छात्र राजद के प्रदेश प्रमुख को हटाकर नया मुखिया बनाने और प्रदेश पार्टी चीफ पर ऐक्शन को लेकर वह बिफरे बताए जा रहे हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।