ताज़ा खबर
 

Bihar: चुनाव से पहले RJD में उठे विरोधी सुर, लालू को रघुवंश प्रसाद सिंह ने लिखा ‘लेटर’

महागठबंधन का सीएम कौन बनेगा इस पर सभी सहयोगियों के साथ बैठक कर चर्चा होना चाहिए। आरजेडी के पास 81 विधायक हैं और तेजस्वी आरजेडी के नेता हैं। हमें एनडीए से लड़ने के लिए सभी भाजपा विरोधी ताकतों को एक साथ लाने की जरूरत है।

रघुवंश सिंह प्रसाद (फोटो सोर्स: ANI)

बिहार में इस साल के अंत में विधानसभा के चुनाव होना है लेकिन विपक्षी पार्टियों के बीच सब कुछ ठीक नहीं है। राज्य की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) में आंतरिक कलह सामने आ रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को पत्र लिखकर पार्टी के सुस्त रवैए पर सवाल खड़े किए है। बता दें कि राज्य में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

कार्यकर्ताओं को एकजुट करने का प्रयास नहीं कर रही: पूर्व केंद्रीय मंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा ‘मैं जयकारा लगाने वाली टीम का हिस्सा नहीं हूं कि मैं पार्टी के हर कार्रवाई का समर्थन करूंगा और अपनी भावनाओं का जिक्र नहीं करूंगा। अक्टूबर माह में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी तैयार नहीं दिख रही है और ना ही सीएए, एनआरसी, और बेरोजगारी जैसे ज्वलंत मुद्दों के खिलाफ कार्यकर्ताओं को एकजुट करने का प्रयास कर रही है।’

Hindi News Live Updates 13 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

नीतीश कुमार को हराने के लिए सबको साथ आना होगा: बता दें कि रघुवंश सिंह ने तेजस्वी यादव को सीएम का चेहरा बनाए जाने पर प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह की आलोचना करते हुए कहा कि “महागठबंधन का सीएम कौन बनेगा इस पर सभी सहयोगियों के साथ बैठक कर चर्चा होना चाहिए। आरजेडी के पास 81 विधायक हैं और तेजस्वी आरजेडी के नेता हैं। हमें एनडीए से लड़ने के लिए सभी भाजपा विरोधी ताकतों को एक साथ लाने की जरूरत है, जो होता नहीं दिख रहा है।” बिहार में विपक्षी महागठबंधन में आरजेडी, कांग्रेस, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM), राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) और अन्य शामिल हैं।

पत्र लिखकर कराया अवगत: पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव को पत्र लिखकर उन्हें अवगत कराया है कि पार्टी को अपनी शालीनता से बाहर आने की जरूरत है और यह भी सवाल उठ रहे हैं कि क्यों पार्टी की राज्य इकाई ब्लॉक स्तर की समिति बनाने में विफल रही है। इसके साथ विभिन्न संगठनों का पुनर्गठन भी नहीं करने की बात कही है।

पार्टी आरोपों का सामना क्यों नहीं कर रही: सिंह ने पत्र में पूछा है कि “हर दिन भाजपा या जद (यू) के नेता आरजेडी के खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं, लेकिन हमारी पार्टी उनके आरोपों का सामना करने के लिए कुछ नहीं कर रही है। हम क्या कर रहे हैं?

ऐसे पत्रों को महत्व नहीं देता: जगदानंद सिंह ने मीडियाकर्मियों से कहा कि वह ऐसे पत्रों को बहुत ज्यादा महत्व नहीं देते है। लोग सलाह देते रहते है यह एक आंतरिक मामला है। वहीं कांग्रेस के एमएलसी प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि रघुवंश सिंह ने जो कहा है वह उनका आंतरिक मामला है जल्द ही ठीक हो जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 योगी सरकार अब बदलेगी घाघरी नदी का नाम, कैबिनेट में पास हुआ प्रस्ताव, ये होगा नया नाम
2 MP: सीएए के विरोध में बीजेपी अल्पसंख्यक के 48 कार्यकर्ताओं ने छोड़ी पार्टी, सदस्यों पर लगाया भेदभाव का आरोप
3 JNU छात्रसंघ ने VC समेत प्रशासन पर लगाया बड़ा आरोप, कहा ‘फर्जी प्रॉक्टर जांच’ के जरिए 300 छात्रों का रोका गया रजिस्ट्रेशन