ताज़ा खबर
 

कांग्रेस न दे असहिष्णुता पर उपदेश: मोदी

नरेंद्र मोदी ने सोनिया गांधी को निशाने पर लिया और कहा कि कांग्रेस को असहिष्णुता पर राजग को भाषण देने की बजाय 1984 के सिख विरोधी दंगों में हुए हजारों के जनसंहार के लिए अपना सिर शर्म से झुका लेना चाहिए..

Author पूर्णिया | November 3, 2015 01:28 am
बिहार की एक चुनावी सभा में भाषण देते नरेंद्र मोदी।

देश में कथित तौर पर बढ़ती असहिष्णुता पर विपक्ष समेत विभिन्न वर्गो की आलोचनाओं के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि 1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद कांग्रेस को असहिष्णुता पर हमें उपदेश देने का कोई अधिकार नहीं है, वे इस विषय पर ड्रामा कर रहे हैं जबकि उनका सिर शर्म से झुक जाना चाहिए था।

प्रधानमंत्री ने जद (एकी) और राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश और लालू ने किस मजबूरी में 1984 के सिख विरोधी दंगों के आरोप का सामना करने वाली कांग्रेस के साथ गठबंधन किया। और ऐसे लोग हमें असहिष्णुता का उपदेश दे रहे हैं। मोदी ने यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘आज दो नवंबर है। 1984 के दो नवंबर को याद करें। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में नवंबर की दो तारीख, तीन तारीख, चार तारीख को दिल्ली में सिखों का कत्लेआम किया जा रहा था। कांग्रेस और उसके नेताओं पर आरोप लग रहे थे। आज वे हमें टालरेंस (असहिष्णुता) का उपदेश दे रहे हैं। वे ड्रामा कर रहे हैं, हमें सहिष्णुता का उपदेश दे रहे हैं। डूब मरो, डूब मरो।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें 1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद हमेंं ऐसे उपदेश देने का अधिकार नहीं है। सिख पीड़ितों की आंखों के आंसू अभी सूखे नहीं हैं। उनके घाव अभी भरे नहीं हैं और आप दो नवंबर को ड्रामेबाजी कर रहे हैं। नीतीश, लालू पर प्रहार करते हुए मोदी ने कहा कि लालूजी, नीतीशजी आपने तो कांग्रेस के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी लेकिन आप पता नहीं किस मजबूरी में कांग्रेस के साथ आ गए?

मोदी ने कहा, ‘लेकिन मैं कांग्रेस के साथ जाने के लिए लालू, नीतीश का धन्यवाद करना चाहता हूं। धन्यवाद इसलिए करना चाहता हूं क्योंकि इन्होंने कांग्रेस को 40 सीटें दे दीं। और चुनाव से पहले ही हमें, राजग को सोने की थाली में 40 सीटें परोस कर दे दीं।’ उन्होंने कहा, ‘चुनाव से पहले ही 40 सीटें परोस कर देने के लिए नीतीश, लालू का धन्यवाद। शेष सीटों के लिए बिहार की जनता को धन्यवाद। हमें चुनाव में दो तिहाई सीटें मिलने जा रही हैं।

फारबिसगंज में मोदी ने बिहार में विकास और बदलाव का वादा करते हुए प्रदेश के लोगों को लालू प्रसाद के ‘जंगलराज’ और नीतीश कुमार के ‘जंतर मंतर’ से सावधान किया और कहा कि दोनों मिलकर राज्य को अंधकार में ले जाएंगे। बिहार में अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार करते हुए उन्होंने कहा, ‘बिहार ने जंगलराज के दंश को झेला है। जंगलराज और ‘जंतर मंतर’ साथ आ गए हैं। जंगलराज और जंतर मंतर को नहीं आने दीजिए, अन्यथा यह गठजोड़ बिहार और राज्य के लोगों को अंधकार में ले जाएगा।’ उन्होंने मुख्यमंत्री पर यह चुटकी हाल में उनके एक तांत्रिक के पास जाने से संबंधित वीडियो सामने आने पर ली है।

लालू की सरकार के दौरान कथित जंगलराज के कायम रहने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जब जंगलराज होगा तो अपराध होगा और तब सबसे अधिक परेशानी महिलाआेंं को होती, इसलिए महिलाओं का गुस्सा जंगलराज के खिलाफ स्पष्ट है। उन्होंने कहा कि शांति, सुरक्षा, बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए माताएं, बहनें बिहार में अच्छी सरकार चाहती हैं। माताएं, बहनें चाहती हैं कि उनके बच्चों का भविष्य संवरे, वे बुढ़ापे का सहारा बनें। मैं आपके सपनों को पूरा करने आया हूं।

नीतीश, लालू पर प्रहार जारी रखते हुए मोदी ने कहा कि चुनाव के समय जो सरकार में बैठे होते हैं, उनकी जिम्मेदारी होती है कि वे अपने कामकाज का हिसाब दें। लालूजी ने 15 साल शासन किया, नीतीश बाबू ने 10 साल शासन किया। दोनों भाई 25 साल सत्ता में रहे लेकिन 25 साल का हिसाब देने को तैयार नहीं। ‘मेरी सरकार के तो अभी 25 महीने भी नहीं हुए लेकिन मुझसे हिसाब मांगा जा रहा है।’

उन्होंने कहा कि नीतीश, लालू यह बताने को तैयार नहीं है कि बिहार के लिए क्या योजना है, नौजवानों के लिए क्या सोचा है, माताओं, बहनों के लिए क्या करना है, बिजली की कैसी व्यवस्था करनी है, यह नहीं बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश ने बिजली नहीं होने पर वोट नहीं मांगने की बात कही थी। लेकिन वो वोट मांगने आए। धोखा किया। जो जनता से धोखा कर सकते हैं, उन पर कोई भरोसा नहीं कर सकता है। अब बिहार आप पर भरोसा नहीं कर सकता।

उन्होंने कहा कि आज मैंने आपका कच्चा चिठ्ठा रख दिया तो परेशान हो गए। आज बिहार का हर बच्चा, माताएं, बहनें हिसाब मांग रही हैं। ‘आप लोगों ने मोदी का डर दिखाया था। यह खेल वर्षो से चला रहे थे, लेकिन बिहार की जनता के आर्शीवाद से दिल्ली में बैठा हूं।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि आज बिहार में सड़क, पानी, रोजगार, शिक्षा, बीमारों के लिए दवाई, सलामती, सुरक्षा, चैन की जिंदगी नहीं हैं। यह बड़े भाई, छोटे भाई के शासन का परिणाम हैं।

उन्होंने उम्मीद जताई कि युवा राज्य की तस्वीर बदलेंगे और वे उनके सपनों को साकार करने को प्रतिबद्ध हैं। नीतीश, लालू और कांग्रेस पर बिहार को बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा कि बिहार को उनकी मुश्किलों से उबारने के लिए दो इंजनों की जरूरत है। ‘एक इंजन केंद्र सरकार है और दूसरा इंजन बिहार में राजग सरकार बनेगा और दोनों मिलकर राज्य को तीव्र विकास और प्रगति के मार्ग पर आगे बढ़ाएंगे।’

उन्होंने कहा कि बिहार के लिए छह सूत्री एजंडा तैयार किया है जिसके केंद्र में पढ़ाई, कमाई और दवाई है। उन्होंने कहा कि अमीर अपने बच्चों को पढ़ाता है तो अच्छे से अच्छे शिक्षक घर आकर पढ़ाते हैं लेकिन गरीबों को बच्चों को पढाना होता है तब स्कूल में शिक्षक का इंतजार करना होता है। गरीब को पटना जाना होता है तब बस का इंतजार करना पड़ता है, दवाई के लिए दर दर ठोकर खानी पड़ती है। पिछले 25 वर्षो में लालू, नीतीश की सरकार ने इसकी चिंता नहीं की।

मोदी ने कहा आठ तरीख को चुनाव के नतीजे आ जाएंगे। देश में चारों तरफ दिवाली मन रही होगी और बिहार में दो दिवाली मनायी जाएंगी। अब नीतीश, लालू के लिए छह दिन ही शेष बचे हैं। प्रधानमंत्री ने बिहार के लिए सवा लाख करोड़ रुपए के विशेष पैकेज और पूर्व की योजनाओं के लिए 40 हजार करोड़ रुपए के अतिरिक्त पैकेज का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि 1.65 लाख करोड़ रुपए का पैकेज बिहार के भाग्य को बदलने वाला है।

मोदी ने कहा कि वे विकास के मुद्दे से हटना नहीं चाहते थे लेकिन जब आरक्षण के मुद्दे पर झूठ बोला जाने लगा तब मुझे बोलना पड़ा। कच्चा चिठ्ठा खोलना पड़ा। उन्होंने कहा कि ‘ये लोग बाबा साहब आंबेडकर के आरक्षण के बारे में झूठ फैला रहे हैं और हमारे ऊपर आरोप लगा रहे हैं। जब मैंने बताया कि आरक्षण के बारे ये कैसे खेल खेल रहे हैं, तो तिलमिला गए हैं। आंबेडकर, नेहरू, सरदार पटेल, राजेंद्र प्रसाद ने धर्म के आधार पर आरक्षण का कभी पक्ष नहीं लिया था। उन्होंने कहा कि नीतीश बाबू, लालूजी ने कहा था कि आरक्षण की समीक्षा हो, आरक्षण में बदलाव हो। दोनों ने दलितों के आरक्षण, पिछड़ों के आरक्षण, अति पिछड़ों के आरक्षण में से पांच फीसद निकालकर धर्म के आधार पर देने की बात कही थी। जब यह बात सामने रखी तो अब दोनों से जवाब देते नहीं बन रहा है।

Read Also : मोदी ने लालू से पूछा: नेपा विपक्ष कौन होगा, लालू का बेटा या नीतीश बाबू?

Read Also : आसाराम के साथ मोदी का VIDEO: JDU ने पूछा- बलात्‍कारी बाबा के पास क्‍यों गए थे PM?

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App