ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: सपा-राकांपा सहित छह दलों का ‘समाजवादी धर्मनिरपेक्ष मोर्चा’

बिहार विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) और राष्ट्रवादी कांग्र्रेस पार्टी (राकांपा) ने चार अन्य दलों के साथ मिलकर शनिवार को बिहार में ‘समाजवादी धर्मनिरपेक्ष मोर्चा..

Author पटना | September 20, 2015 9:29 AM
समाजवादी धर्मनिरपेक्ष मोर्चा राष्ट्रीय महासचिव तारिक अनवर के नेतृत्व में बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेगा।

धर्मनिरेपक्ष महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद समाजवादी पार्टी (सपा) और राष्ट्रवादी कांग्र्रेस पार्टी (राकांपा) ने चार अन्य दलों के साथ मिलकर शनिवार को बिहार में ‘समाजवादी धर्मनिरपेक्ष मोर्चा’ नाम से तीसरे मोर्चे के गठन का एलान किया। इस गठबंधन में सपा व राकांपा के अलावा मधेपुरा से सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव की पार्टी जन अधिकार पार्टी, पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि की पार्टी समरस समाज पार्टी, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा सेकुलर से हाल में इस्तीफा देने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री देवेंद्र यादव की पार्टी समाजवादी जनता पार्टी और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पीए संगमा की पार्टी नेशनल पीपुल्स पार्टी भी शामिल है। इस गठबंधन ने शनिवार को सीटों के बंटवारे का भी एलान किया और कहा कि वह राकांपा के राष्ट्रीय महासचिव तारिक अनवर के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगा।

तारिक, पप्पू, नागमणि और अन्य घटक दलों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में सपा के उपाध्यक्ष और सांसद किरणमय नंदा ने यहां इस आशय का एलान करते हुए बताया कि बिहार विधानसभा चुनावों में यह मोर्चा सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के नाम पर और तारिक अनवर के नेतृत्व में लड़ेगा। उन्होंने बताया कि आपसी सहमति और तालमेल के मुताबिक बिहार विधानसभा की कुल 243 सीटों में से सपा 85 सीटों पर, जनअधिकार पार्टी 64, राकांपा 40, समरस समाज पार्टी 28, समाजवादी जनता पार्टी 23 और नेशनल पीपुल्स पार्टी तीन सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

नंदा ने बताया कि उनकी राजग और महागठबंधन में शामिल दलों को छोड़कर अन्य आठ से 10 क्षेत्रीय दलों से तालमेल को लेकर वार्ता जारी है। उन्होंने कहा कि तीसरे मोर्चे के घटक दल अपने-अपने उम्मीदवारों की सूची रविवार को जारी कर देंगे। बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में प्रदेश के 49 विधानसभा क्षेत्रों में आगामी 12 अक्तूबर को वोट पड़ेंगे। इसके लिए नामांकन की अंतिम तारीख 23 सितंबर है। यह पूछे जाने पर कि क्या चुनाव बाद तारिक इस मोर्चे के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे, नंदा ने कहा कि इस बारे में फैसला घटक दलों के निर्वाचित विधायक करेंगे।

नंदा ने बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आगामी 22 सितंबर को पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हाल से इस मोर्चे के चुनावी अभियान की शुरुआत करेंगे। इस मौके पर तारिक ने इस मोर्चे का नेतृत्व सौंपे जाने पर सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव का आभार जताया। तारिक को यह याद दिलाया गया कि पूर्व में विचारधारा अलग होने की दलील देते हुए उन्होंने ही पप्पू के साथ चुनाव में जाने की संभावना से इनकार किया था। इस पर तारिक ने इस तरह का कोई बयान देने से इनकार करते हुए बताया कि संसद के पिछले सत्र के दौरान ही उनकी साथ मिलकर चुनाव लड़ने के बाबत पप्पू जी से चर्चा हुई थी।

पप्पू ने तारिक को जद (एकी)-राजद-कांग्रेस धमनिरपेक्ष महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे नीतीश से ज्यादा अच्छी और स्वच्छ छवि वाला बताते हुए आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में अपने मोर्च को बहुमत हासिल होने का दावा किया। उन्होंने दावा किया कि इस चुनाव में भाजपा नीत राजग गठबंधन और नीतीश नीत महागठबंधन का खाता भी नहीं खुल पाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App