ताज़ा खबर
 

चुनावी रैली में नीतीश को दिखाई चप्पलें, लगे मोदी-मोदी के नारे

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नवादा में एक रैली के दौरान लोगों के एक समूह ने चप्पलें दिखाईं। भीड़ में मौजूद कुछ लोगों ने ‘‘मोदी, मोदी’’ नारे..

नवादा/बरबिगहा | Updated: September 29, 2015 11:12 PM
नीतीश कुमार की रैली में भाजपा समर्थकों ने काले झंडे लहराए और मोदी-मोदी के नारे लगाए। (पीटीआई फाइल फोटो)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नवादा में एक रैली के दौरान लोगों के एक समूह ने चप्पलें दिखाईं। जद(यू) उम्मीदवार प्रदीप कुमार के पक्ष में एक चुनावी रैली को संबोधित करने के दौरान वारसलीगंज में कुमार को लोगों के एक समूह ने चप्पलें दिखाई। प्रदीप कुमार वारसलीगंज से वर्तमान विधायक हैं।

प्रदर्शन से बेपरवाह कुमार ने सभा को संबोधित किया और अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। उन्होंने इस मौके पर युवाओं के लिए खासतौर पर अपनी भावी योजनाओं का खाका पेश किया। भीड़ में मौजूद कुछ लोगों ने ‘‘मोदी, मोदी’’ नारे लगाए और नीतीश विरोधी नारे भी लगाए।

बिहार में 12 अक्तूबर से पांच चरण में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। हालांकि लोगों ने नीतीश को चप्पलें किस नाराजगी में दिखाई यह मालूम नहीं हो सका, लेकिन यह सिलसिला नीतीश के भाषण के दौरान चलता रहा।

इससे पहले, कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में बरबिगहा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उनके डीएनए पर उठाए गए सवाल का मुद्दा उठाया और जनता के समक्ष बिहारी गौरव के मुद्दे को उठाया।

उन्होंने कहा, ‘‘आपका कहने का मतलब है कि लोगों ने गलत डीएनए वाले व्यक्ति को 10 साल के लिए अपना मुख्यमंत्री चुना।’’ जद (यू) के वरिष्ठ नेता ने भाजपा के ‘परिवर्तन’ के नारे पर भी सवाल खड़े किए। उन्होंने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा, ‘‘परिवर्तन से आपका आशय क्या लड़कियों को स्कूलों से वापस घर भेजने से हैं, जहां वो आज साइकिल से जा रही हैं।’’

मुख्यमंत्री कुमार ने अपने दृष्टिपत्र में शामिल सात भावी संकल्पों को दोहराया। इसपर 2.70 लाख करोड़ रुपए का खर्च आएगा। इसमें छात्रों के लिए चार लाख रुपए की ऋण सुविधा भी है। इसके लिए 2.70 लाख करोड़ रुपए कहां से आएंगे इसपर सवाल उठाने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए कहा, ‘‘मैं इसके लिए धन मांगने के लिए आपके पास कटोरा लेकर नहीं आऊंगा।’’

प्रधानमंत्री ने इससे पहले बिहार के बीमारू राज्यों की श्रेणी में रहने के उनके बयान का कुमार द्वारा विरोध जताए जाने पर उनका मजाक उड़ाया था। प्रधानमंत्री ने कहा था कि अगर बिहार उस श्रेणी में नहीं है तो क्यों कुमार और धन मांगने के लिए कटोरा लेकर दिल्ली आते हैं।

Next Stories
1 वोटरों से लैपटॉप-टीवी का वादा करने पर सुशील मोदी के खिलाफ FIR
2 FTII विवाद: छात्र और मंत्रालय में बातचीत बेनतीजा, 110 दिनों से चल रहा गतिरोध कायम
3 शीना हत्याकांड: सीबीआई ने संभाली कमान, इन्द्राणी और 2 अन्य के खिलाफ केस दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X