ताज़ा खबर
 

Ground Report: नीतीश-सोनिया-लालू के मिलने से अनपढ़ वोटर्स कन्‍फ्यूज, जानें, इससे कैसे निपट रहे नेता

ऐसा आमतौर पर देखने को मिला जब महिला और पुरुषों ने आरजेडी, कांग्रेस, जेडीयू के कार्यकर्ताओं से पूछा, कि ''तीर'' (नीतीश कुमार की पार्टी का चुनाव चिन्‍ह) तो इस बार चुनाव लड़ नहीं है।

Author कोढ़ा (कटिहार) | Updated: October 30, 2015 8:09 PM
कोढ़ा विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ रहीं कांग्रेस उम्‍मीदवार पूनम पासवान। (फोटो-मनोज सी जी)

राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) का एक लोकल लीडर दलित-महादलितों की बस्‍ती में कांग्रेस उम्‍मीदवार पूनम पासवान को नीतीश कुमार की प्रतिनिधि बताकर लोगों से मिलवा रहा था। वह मतदाताओं को बता रहा था कि उम्‍मीदवार का चुनाव चिन्‍ह ”हाथ” है। ऐसा नहीं है कि इस क्षेत्र में कांग्रेस को कोई जानता नहीं है, लेकिन परेशानी यह है कि महागठबंधन के दलों को लेकर मतदाताओं में कई कन्‍फ्यूजन है। खासतौर से उन इलाकों में जहां अशिक्षित लोग बड़ी संख्‍या में रहते हैं।

ऐसा आमतौर पर देखने को मिला जब महिला और पुरुषों ने आरजेडी, कांग्रेस, जेडीयू के कार्यकर्ताओं से पूछा, कि ”तीर” (नीतीश कुमार की पार्टी का चुनाव चिन्‍ह) तो इस बार चुनाव लड़ नहीं रहा है। पिछली रात को कुछ लोग आए थे और कह रहे थे कि इस बार ”तीर” मैदान में नहीं है, इसलिए उन्‍हें फूल (बीजेपी के चुनाव चिन्‍ह कमल) पर वोट डालना है। कोढ़ा विधानसभा क्षेत्र (कटिहार जिला) में कुछ ऐसा ही माहौल है। यहां कांग्रेस की ओर से पूनम पासवान और बीजेपी की तरफ से महेश पासवान मैदान में हैं।

चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस उम्‍मीदवार पूनम पासवान लोगों को बताती हैं कि बीजेपी का ”कमल” और नीतीश का ”तीर” दो साल से अलग हो गए हैं। फिर वो बताती हैं कि अब नीतीश, लालू प्रसाद और सोनिया एक साथ आ गए हैं। इसके बाद वह पेम्‍फलेट में छपी तीनों की फोटो लोगों को दिखाती हैं। पूनम पासवान पॉलिटिकल साइंस से एमए हैं और युवा भी, वह ऊर्जा से भरी लगती हैं और पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रही हैं। आरजेडी जिला परिषद के सदस्‍य मतदाताओं को पूनम के बारे में बताते हैं कि उन्‍हें नीतीश ने भेजा है और चुनाव जीतने के बाद वह एससी कोटा से मंत्री भी बनेंगी। कांग्रेस के स्‍टेट जनरल सेक्रेटरी मोहम्‍मद मारुफ हुसैन समझाते हैं कि हम सभी विकास के लिए एक साथ आए हैं।

महादलित और दलितों के गांव से कुछ दूर यादव बहुल आबादी वाले इलाके में महागठबंधन के कार्यकर्ता नीतीश का नाम लेना बंद कर देते हैं। यादव और मुस्लिम बहुल इलाकों में महागठबंधन के कार्यकर्ता लालू यादव और कांग्रेस का नाम लेते हैं। पूनम पासवान बताती हैं कि इस विधानसभा क्षेत्र में ज्‍यादातर हम नीतीश के ही नाम पर वोट मांग रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X