ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: रोमांचक है सीमांचल में लड़ाई, सभी कर रहे हैं जीत के दावे

बिहार विधानसभा चुनाव में प्रदेश के सीमांचल और मिथिलांचल क्षेत्र में पांच नवंबर को होने वाले अंतिम चरण के मतदान में दो प्रमुख प्रतिद्वंद्वी गठबंधनों भाजपा नीत राजग और जद (एकी), राजद और कांग्रेस के..

Author नई दिल्ली | November 2, 2015 02:44 am

बिहार विधानसभा चुनाव में प्रदेश के सीमांचल और मिथिलांचल क्षेत्र में पांच नवंबर को होने वाले अंतिम चरण के मतदान में दो प्रमुख प्रतिद्वंद्वी गठबंधनों भाजपा नीत राजग और जद (एकी), राजद और कांग्रेस के महागठबंधन अपने बेहतर प्रदर्शन और अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं।

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी सीमांचल क्षेत्र में ‘मोदी लहर’ का असर नहीं दिखा था। भाजपा इस क्षेत्र की सभी चार लोकसभा सीटें हार गई थी। मुसलिम बहुल आबादी वाले इस क्षेत्र में हालांकि भाजपा का प्रभाव रहा है। साल 2010 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। जद (एकी)-राजद-कांग्रेस का महागठबंधन मुसलिम मतों के साथ पिछड़े वर्ग के मतदाताओं को अपने साथ जोड़ कर भाजपा नीत राजग को परास्त करने के प्रयास में है। दूसरी ओर भाजपा नीत गठबंधन का कहना है कि वह सभी जातियों के मतदाताओं को एक साथ जोड़कर बाजी पलट सकती है। हाल ही में मीडिया से बातचीत में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने अनुमान जताया था कि भारत के चुनावी राजनीति के इतिहास में सबसे रोमांचक जीत सीमांचल में होगी और राजनीतिक पंडितों को इस क्षेत्र में इसे देखने आना चाहिए।

महागठबंधन के नेता भाजपा पर आरोप लगा रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जद (एकी), राजद, कांग्रेस पर दलितों, महादलितों, पिछड़ों के आरक्षण कोटे में से पांच फीसद निकालकर एक समुदाय विशेष को देने की कोशिश करने का आरोप लगाने के बाद भाजपा नेता सांप्रदायिक आधार पर मतदाताओं का धु्रवीकरण करने का प्रयास कर रहे हैं। जद (एकी), राजद नेताओं की ओर से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर भी उनकी टिप्पणी के लिए ऐसे ही आरोप लगाए जा रहे हैं। इसमें उन्होंने कहा था कि अगर बिहार में भाजपा हारी तक पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे। भाजपा ने इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए महागठबंधन के नेताओं पर ‘तुष्टीकरण’ की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

भाजपा की ओर से जद (एकी), राजद, कांग्रेस के महागठबंधन पर पिछड़े वर्ग के आरक्षण का हिस्सा मुसलिमों को देने की संभावना और आतंकी संदिग्धों पर नरमी बरतने का आरोप लगाकर हिंदू मतदाताओं को एकजुट करने और महागठबंधन की संभावनाओं को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है। महगठबंधन को ऐसी कोई संभावना नहीं दिखती है। बिहार प्रदेश जद (एकी) प्रमुख वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा है कि भाजपा चुनाव को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रही है लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। हम अंतिम चरण में जीत दर्ज करेंगे। मिथिलांचल क्षेत्र में भाजपा का मानना है कि पप्पू यादव की भूमिका महत्त्वपूर्ण होगी। उससे भाजपा को फायदा मिलेगा। राजद से निष्कासित पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी ने अनेक सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए है। वे चुनावी समर में मुकाबले में हैं। पप्पू यादव मधेपुरा से सांसद हैं और उनकी पत्नी रंजीत रंजन सुपौल से सांसद हैं। यहां पांचवें चरण में मतदान होगा।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App