ताज़ा खबर
 

बिहार: अंग्रेजी में कोर्ट ऑर्डर नहीं समझ पाए पुलिसवाले, बिजनेसमैन को उठाकर जेल में ठूंस दिया

बिहार के जहानाबाद जिला के नीरज कुमार अपनी पत्नी को 2,500 रुपये गुजारा भत्ता नहीं दे रहे थे। कोर्ट ने नीरज की प्रॉपर्टी की जांच के लिए एक वारंट जारी किया। लेकिन, इस 'वारंट' को पुलिस ने अरेस्ट वारंट समझ उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

Author Updated: December 3, 2018 2:23 PM
इस तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

बिहार में पुलिस वालों की ख़राब अंग्रेजी का खामियाजा एक बिजनेसमैन को भुगतना पड़ा। पत्नी के साथ तलाक का केस लड़ रहे व्यापारी को पूरी रात लॉकअप में गुजारनी पड़ी। हालांकि, जैसे ही अदालत में मामला पहुंचा, गलती की जानकारी मिली और व्यापारी को छोड़ना पड़ा। दरअसल, पुलिस ने कोर्ट ऑर्डर में लिखे ‘वारंट’ को अरेस्ट वारंट समझ लिया।

यह मामला एक तलाक केस से जुड़ा हुआ है। जिसमें पति को हर महीने पत्नी को गुजारा भत्ता देना था। लेकिन, कई महीनों से जहानाबाद जिला के नीरज कुमार अपनी पत्नी को 2,500 रुपये गुजारा भत्ता नहीं दे रहे थे। कोर्ट ने नीरज के प्रॉपर्टी की जांच के लिए एक वारंट जारी किया। जिसके तहत उनके आय के श्रोत की जानकारी लेनी थी। लेकिन, इस वारंट को पुलिस ने अरेस्ट वारंट समझ उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

25 नवंबर को गिरफ्तार नीरज कुमार को पटना स्थित कोर्ट में पेश किया गया। जहां पर अदालत ने पुलिस की गलती को भांप लिया और तुरंत रिहाई के आदेश दिए। मामले में जहानाबाद के एएसपी पंकज कुमार ने माना कि डॉक्यूमेंट में कहीं भी नीरज को गिरफ्तार करने का निर्देश नहीं था। कोर्ट ने नीरज की अचल संपत्ति की जानकारी लेने के लिए निर्देश जारी किए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राधे मां की जूना अखाड़े में वापसी, खाई कसम- भक्‍तों की गोद में नहीं बैठूंगी
2 देश की 323 नदियों का पानी प्रदूषित, गंगा-यमुना के पानी में नहा तक नहीं सकते, महाराष्ट्र में सबसे अधिक प्रदूषित नदियां
3 नीरव मोदी: आयकर विभाग ने 8 महीने पहले ही तैयार कर ली थी रिपोर्ट, किसी एजंसी से नहीं की गई साझा