बिहार शराब कांडः मरने वालों का आंकड़ा 38 तक पहुंचा, विपक्ष का निशाना, नीतीश फिर से शुरू करेंगे जागरूकता अभियान

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जहरीली शराब से हुई मौत को लेकर कहा कि छठ पर्व के बाद हम शराबबंदी को लेकर समीक्षा करेंगे। शराबबंदी को लेकर व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।

बिहार में जहरीली शराब से अब तक करीब 38 लोगों की मौत हो चुकी है। (फोटो: पीटीआई)

जहरीली शराब पीने की वजह से बिहार में मरने वालों की संख्या करीब 38 हो चुकी है। इनमें से 15 मौतें बेतिया में, 11 मौतें गोपालगंज में और बाकी मौतें हाजीपुर और मुजफ्फरपुर में हुई है। पुलिस ने जहरीली शराब से हुई मौत के मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया है और साथ ही कई अधिकारियों को भी निलंबित किया गया है। राजद सहित तमाम विपक्षी दलों ने जहरीली शराब कांड को लेकर बिहार सरकार पर निशाना साधा है। वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि अब बिहार में फिर से जागरूकता अभियान शुरू किया जाएगा।

हालांकि पश्चिमी चंपारण और गोपालगंज जिलों के अधिकारियों ने जहरीली शराब की वजह से केवल 25 मौतों की पुष्टि की है। चंपारण रेंज के डीआईजी प्रणव कुमार प्रवीण ने कहा है कि बेतिया के सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में कुछ लोगों का इलाज चल रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि जहरीली शराब कांड में पश्चिमी चंपारण के नौतन पुलिस स्टेशन के प्रभारी मनीष शर्मा और गांव के एक चौकीदार को निलंबित कर दिया गया है। इस मामले के एक आरोपी शराब विक्रेता की मौत हो चुकी है और दूसरे की खोजबीन की जा रही हैं।

वहीं गोपालगंज जिले में केवल 17 मौतों की पुष्टि हुई है। जिले के डीएम के अनुसार सिर्फ 11 लोगों की मौत जहरीली शराब पीने की वजह से हुई है। बाकी 3 लोगों के शव का दाह संस्कार पोस्टमार्टम करने से पहले ही कर दिया गया। जबकि 3 लोगों के परिजनों ने प्राकृतिक मौत कहकर पोस्टमार्टम कराने से इनकार दिया। पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने बताया कि मोहम्मदपुर थाने के प्रभारी रंजन कुमार और एक चौकीदार को लापरवाही के कारण निलंबित कर दिया गया है। इस मामले में तीन शराब विक्रेताओं को गिरफ्तार किया गया है और छापेमारी में 100 लीटर जहरीली शराब भी बरामद की गई है।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार में जहरीली शराब से हुई मौतों को लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधा। राजद नेता ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का वीडियो शेयर करते हुए निशाना साधा। जिसमें वे कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि अगर गड़बड़ चीज पीजियेगा तो आप चले जाइयेगा। नीतीश कुमार के इस वीडियो को ट्वीट करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि शराबबंदी पर बड़बड़ करने वालों के राज में विगत 3 दिनों में ही जहरीली शराब से 50 से अधिक मौतें हो चुकी है। मुख्यमंत्री स्वयं, प्रशासन, माफिया और तस्कर पुलिस पर कार्रवाई की बजाय पीने वालों को कड़ा सबक सिखाने की धमकी देते रहते हैं। 

एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा कि मुख्यमंत्री गड़बड़ पर जब बड़बड़ प्रवचन दे रहे है तो इनके बगल में जो भाजपाई मंत्री खड़े है ना, उनके स्कूल के अंदर से दो ट्रक शराब बरामद हुई थी। पुलिस FIR में इसका ज़िक्र भी है। मंत्री के नामजद भाई को आज तक बिहार पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी है। यह इनकी कथित शराबबंदी की सच्चाई है। 

वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि छठ पर्व के बाद हम शराबबंदी को लेकर समीक्षा करेंगे। शराबबंदी को लेकर व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। जहां भी शराब चल रहा है वहां ये सब गड़बड़ होता रहता है। गलत चीज लेने पर ही ऐसी नौबत होती है।   

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
दलित हत्या कांड: पीड़ित पक्ष की सभी मांगें सरकार ने मानी, अंतिम संस्कार के लिए परिवार राजीFaridabad, dalit, dalit killing, faridabad latest news, Rahul Gandhi, Rahul Gandhi latest news,news in hindi, hindi news, sunperh, dalit home on fire, dalit family fire, ballabhgarh, haryana, haryana news, dalit family, india news, Dalit family, dalit family set on fire, Sunped village, Ballabhgarh, फरीदाबाद, दलित परिवार, दलित, दलित हत्या, राहुल गांधी, फरीदाबाद, राजनाथ सिंह, दलित परिवार को जलाया, सुनपेड़ गांव, पुलिसकर्मी सस्‍पेंड
अपडेट