ताज़ा खबर
 

बिहार में जंगलराज? नीतीश की पूर्व मंत्री और MLA के पति को डेढ़ घंटे में थाने से जबरन ले गए JDU समर्थक

पूर्व मंत्री और रुपौली से विधायक बीमा भारती के पति अवधेश मंडल चंचल पासवान हत्‍याकांड में मुख्‍य आरोपी है। मंडल ने पासवान की पत्‍नी और बेटे को गवाही नहीं देने को धमकाया था।

Author January 18, 2016 8:36 PM
कैबिनेट ने औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नियमावली 2016 को मंजूरी दे दी

कानून व्‍यवस्‍था की हालत को लेकर विपक्ष के हमले झेल रही बिहार की नीतीश कुमार सरकार के लिए एक और मुसीबत खड़ी हो गई है। पूर्व मंत्री और रुपौली से विधायक बीमा भारती के पति को जेडीयू समर्थक जेल से छुड़ा ले गए। विधायक के पति अवधेश मंडल को हत्‍या के मामले में गवाहों को धमकाने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पूर्णिया पुलिस ने थानाधिकारी को सस्‍पेंड कर दिया है और सदर सब डिवीजन पुलिस ऑफिसर को कारण बताओ नोटिस भेजा है।

पुलिस ने बताया कि अवधेश मंडल कुख्‍यात अपराधी और रुपौली विधायक बीमा भारती का पति है। अवधेश चंचल पासवान हत्‍याकांड में मुख्‍य आरोपी है। उसने मारंगा थाने के न्‍यू सिपाहपुरा में रहने वाली चंचल की पत्‍नी सोनिया और उसके बेटे विजय पासवान को इस मामले में गवाही नहीं देने की धमकी दी। उसे पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों के दौरान पूर्णिया से बाहर निकाल दिया गया था। सो‍निया और विजय को धमकी देने के बाद मारंगा पुलिस ने मंडल और उसके कुछ साथियों को गिरफ्तार कर लिया।

Read Also: गले में सांप लपेटे बिहार के शिक्षा मंत्री की फोटोज हुईं वायरल, बीजेपी बोली-अंधविश्‍वास को बढ़ावा दे रहे मंत्री

मंडल की गिरफ्तारी के लगभग डेढ़ घंटे बाद ही लगभग 20 जेडीयू समर्थक थाने आए और थाना इंचार्ज शिवशंकर कुमार से बहस करने लगे। जेडीयू समर्थकों ने मंडल के खिलाफ एफआईआर लिखने पर नाराजगी जताई। बाद में मंडल के समर्थक पुलिस पर भारी पड़े और मंडल को छुड़ा लिया। पूर्णिया एसपी निशांत तिवारी ने इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि, यह पुलिस ढिलाई का मामला है। स्‍थानीय पुलिस को बताना होगा कि एक व्‍यक्ति को गिरफ्तार किए जाने के बाद कैसे छोड़ दिया गया। अवधेश मंडल के आपराधिक इतिहास के बारे में सबको पता है। पुलिस को अतिरिक्‍त सतर्कता बरतनी चाहिए थी।

Read Also: बिहार के जंगलराज में दिनदहाड़े हो रहीं हत्याएं, कहां गया नीतीश का जनता से किया वादा ‘मैं हूं ना’

इस बारे में भाजपा नेता और पूर्व डिप्‍टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि, क्‍या पुलिस से जबरदस्‍ती अपराधी को छुड़ा लेना कानून का राज है। लगता है अपराधियों को फ्री लाइसेंस मिल गया है। क्‍या इसी तरह से सीएम नीतीश कुमार राज्‍य में कानून व्‍यवस्‍था का राज लाना चाहते हैं। राजनीतिक दबाव के चलते पुलिस का उत्‍साह कमजोर पड़ गया है।

Read Also: नीतीश सरकार ने समोसा-कचौरी को माना लग्‍जरी आइटम, लगाया टैक्‍स

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App