ताज़ा खबर
 

‘चमकी’ के खौफ से पूरा गांव खाली, आनन-फानन में पहुंचा प्रशासन तो फूटा लोगों का गुस्सा, उल्टे पांव भागीं BDO

लोगों ने अपनी इस नाराजगी के पीछे का कारण बताते हुए स्थानीय मीडिया से कहा कि आज तक गांव में कोई झांकने तक नहीं आया। लोगों की जानें जाती रहीं, पर किसी ने यहां का रुख न किया।

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से शुक्रवार (21 जून, 2019) को 124 से अधिक जानें जा चुकी हैं। वहीं के एक गांव में अपने मासूम को गंवा देने के बाद रोते-बिलखते परिजन। (फोटोः पीटीआई)

बिहार में चमकी बुखार से शुक्रवार (21 जून, 2019) शाम तक लगभग 124 से अधिक मासूमों की मौत हो गई। जिलों से लेकर गांवों तक इससे मरने वालों की संख्या और बीमारी का खौफ तेजी से बढ़ रहा है। इसी बीच, वैशाली जिले का हरिवंशपुर गांव तो लगभग खाली ही हो चुका है। जानकारी के मुताबिक, वहां अभी एक भी बच्चा नहीं है। ग्रामीण उन्हें रिश्तेदारों या फिर अन्य जगहों पर लेकर गए हुए हैं।

हाल ही में जब प्रशासनिक अमले को इसकी खबर हुई, तो वे सन्न रह गए। फौरन टीम के साथ ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर (बीडीओ) मौके पर स्थिति का जायजा लेने पहुंचीं, पर गांव वाले उन्हीं पर बरस पड़े। ग्रामीणों ने इस दौरान अमले की गाड़ी को भी बंधक बना लिया था, जबकि हालात देखते हुए बीडीओ ने भी उल्टे पांव वहां से भागने में ही भलाई समझी।

लोगों ने अपनी इस नाराजगी के पीछे का कारण बताते हुए स्थानीय मीडिया से कहा कि आज तक गांव में कोई झांकने तक नहीं आया। लोगों की जानें जाती रहीं, पर किसी ने यहां का रुख न किया। अब जब मामला बढ़ गया है, तो ये हाल जानने आए हैं। हालांकि, प्रशासनिक अमले ने गांव पहुंचने पर वॉटर एटीएम लगवाया, जगह-जगह दवाइयां बंटवाईं और बाकी चीजों को लेकर सर्वे भी कराए, मगर ग्रामीण इससे संतुष्ट न हुए।

वैसे, अधिकारियों ने गांव वालों के गुस्से को देखते हुए कई अहम वादे भी किए, जिनमें सरकारी हैंडपंप लगवाने से लेकर पानी के टैंकर मुहैया कराने की बात शामिल है। वहीं, आक्रोशित लोगों का कहना था, “अभी तक कोई नहीं आया था। इतने सारे लोगों की जान चली गई, पर किसी ने हमारी सुध न ली। ये अब क्या करने आए हैं?”

आंकड़ों के अनुसार, सरकार द्वारा संचालित श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में 101 बच्चों की मौतें हो चुकी हैं, जबकि जिले के केजरीवाल अस्पताल में 20 बच्चों की जान वेक्टर जनित बीमारियों से गई। हालांकि, सीएम ने इस बुखार से मरने वाले बच्चों के परिजन को चार-चार लाख रुपए मुआवजे का भी ऐलान किया है।

Next Stories
1 VIDEO: पत्रकारों पर आया नीतीश कुमार को गुस्सा! सुरक्षाकर्मियों ने सबको कमरे से कर दिया जबरन बाहर
2 चेन्नई में मात्र 0.19 फीसदी बचा पानी, आपका भी शहर जल संकट से ज्यादा दूर नहीं, इन समस्याओं पर नहीं किसी का ध्यान
3 ट्रिपल तलाक बिल पर हंगामा, जानिए शादी-शुदा जोड़े के अलग होने के संबंध में क्या कहता है इस्लाम
ये पढ़ा क्या?
X