ताज़ा खबर
 

बिहार: एंबुलेंस मामले में पप्पू यादव के खिलाफ अमनौर थाने में FIR दर्ज

मधेपुरा के पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी (JAP) नेता राजेश रंजन उर्फ ​​पप्पू यादव ने एक ऐसी जगह पर छापा मारा था जहाँ सारण लोकसभा से सांसद राजीव प्रताप रूडी की सांसद निधि से खरीदी गई दो दर्जन से अधिक एम्बुलेंस मिली थीं।

पप्पू यादव और राजीव प्रताप रूडी के बीच बहस छिड़ गई है। (पीटीआई)।

मधेपुरा के पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी (JAP) नेता राजेश रंजन उर्फ ​​पप्पू यादव के खिलाफ एंबुलेंस मामले में अमनौर थाने में FIR दर्ज की गई है। पुलिस ने बताया कि यादव के खिलाफ शनिवार को अमनौर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई। इस घटना से रूडी और यादव के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया। पूर्व केंद्रीय मंत्री और सारण से लोकसभा सदस्य रूडी ने कहा कि एंबुलेंस चालकों के उपलब्ध नहीं रहने के कारण खड़ी थीं।

​​पप्पू यादव ने एक ऐसी जगह पर छापा मारा था जहाँ सारण लोकसभा से सांसद राजीव प्रताप रूडी की सांसद निधि से खरीदी गई दो दर्जन से अधिक एम्बुलेंस मिली थीं। अब इस पर विवाद खड़ा हो गया है। एम्बुलेंस को संसद स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के फंड से रूडी ने खरीदा था। अपने समर्थकों के साथ यादव ने शुक्रवार को उस जगह का दौरा किया जहां एंबुलेंस खड़ी थीं और सुरक्षाकर्मियों के साथ झगड़ा होने के बाद अंदर गए और एंबुलेंस से तिरपाल हटा दिया।

पूर्व सांसद यादव रूडी पर एंबुलेंस का उपयोग नहीं करने के लिए जमकर बरसे। पप्पू यादव ने कहा कि जब कोविड मरीज आपातकालीन सेवाओं के अभाव में मर रहे हैं। ऐसे में ये एंबुलेंस यहां क्यों खड़ी हैं? पप्पू यादव ने कहा, “लोग कोविड रोगियों को अस्पतालों ले जाने के लिए 12,000 रुपये तक का भुगतान कर रहे हैं, भले ही अस्पताल सिर्फ 1 किमी दूर है। एम्बुलेंस की बहुत कमी है और सारण सांसद ने लगभग 100 एम्बुलेंस को रखा हुआ है।”

जन अधिकार पार्टी प्रमुख ने कहा, “उन्होंने अपने स्वयं के लोगों के बीच कुछ एंबुलेंस वितरित की हैं। मामले की जांच होनी चाहिए। एमपीलैड फंड जनता का पैसा है।” रूडी के एक समर्थक ने जेएपी नेता के खिलाफ पुलिस को शिकायत देने और एंबुलेंस के साथ छेड़छाड़ करने की शिकायत दी है।

उन्होंने इस मुद्दे पर राजनीति करने के लिए यादव पर हमला किया और एंबुलेंस के उपयोग के लिए ड्राइवरों की व्यवस्था करने की चुनौती दी। यादव ने तेजी से पलटवार किया और पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में कुछ ड्राइवरों के बारे में बताया जो कि एंबुलेंस को चलाने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से ऐसी गतिविधियों को रोकने और इन ड्राइवरों की सेवाओं का उपयोग करने की अपील की जो काम करने के लिए तैयार हैं।

Next Stories
1 कोरोना संक्रमण के डर के चलते भाईयों ने बहन को घर से बाहर निकाला, अस्पताल के बाहर सड़क पर डेरा जमाकर कर रही गुजर बसर
2 विज्ञापनों पर खर्च का ब्योरा देकर संबित पात्रा ने कसा अरविंद केजरीवाल पर तंज, यूजर्स ने लिए मजे
3 एमपीः दुकानें बंद कराने गई पुलिस पर भड़का लोगों को गुस्सा, महिलाओं ने भी बरसाए पत्थर, देखें
यह पढ़ा क्या?
X