ताज़ा खबर
 

Bihar Elections: तब जवाहर लाल नेहरू और जय प्रकाश नारायण का हुआ था आमना-सामना, पढ़ें किस्सा

जोरदार चुनावी भिड़ंत के दौरान नेहरू पूर्णिया के दौरे पर गए थे। जिस एयरपोर्ट पर वह उतरे थे, उसी के पास उनका भाषण हुआ था। जबरदस्त भीड़ भी हुई थी। इसी बीच, जेपी की सभा कर रहे थे और वह गुलाबबाग में कार्यक्रम हुआ था।

Bihar Elections 2020, Bihar Elections, Congress, Jawaharlal NehruBihar Elections: बिहार के पूर्णिया में तब एक ही वक्त पर नेहरू और जेपी की जन सभाएं हुई थीं। (फाइल फोटो)

Bihar Elections हमेशा से ही बेहद रोचक रहे हैं। कभी किसी की जीत-हार को लेकर, तो किसी के बीच की टक्कर को। ऐसा ही एक वाकया है, जब आम चुनाव के प्रचार के दौरान पंडित जवाहर लाल नेहरू और जय प्रकाश नारायण बिहार पहुंचे थे। इन दोनों दिग्गजों की रैलियां एक ही वक्त पर हुई थीं और दोनों की सभाओं में खचाखच भीड़ जुटी थी। क्या हुआ था, तब? पढ़ें, पूरा किस्सा:

साल था 1952। पहला आम चुनाव। विधानसभा सीट थी- पूर्णिया सदर। Congess के कमलदेव नारायण सिन्हा कैंडिडेट थे। कांग्रेस को टक्कर देने वाली तब बड़ी सबसे तगड़ी पार्टी थी- सोशलिस्ट पार्टी। पार्टी से नाता तोड़ कई नामचीन चेहरे सोशलिस्ट पार्टी में एक्टिव थे। नेहरू कांग्रेस की तरफ से प्रचार को पहुंचे थे। वहीं, सोशलिस्ट पार्टी का झंडा जेपी बुलंद किए थे। पूर्णिया में इन दोनों दिग्गजों की सभा हुई। सोशलिस्ट पार्टी से देवनाथ राय उन्हें मुकाबला दे रहे थे।

कांग्रेस चुनावी जंग स्थानीय कांग्रेस समिति की अगुवाई में लड़ रही थी। बताया जाता है कि तब दल को 500 रुपए की मदद और कुछ पोस्टर व पर्चे मिले थे। एक गाड़ी भी दी गई थी, जिससे चार से पांच दिनों के भीतर क्षेत्रों का दौरा किया जाना था। हालांकि, उस दौरान गांव-गांव पैदल और बैलगाड़ी पर पार्टी कार्यकर्ता जाकर प्रचार करते थे। वे दिन रात घूमते और प्रचार करते। इसी बीच, सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार थोड़ा इस मामले में आगे थे। चूंकि, वह पैसों में मजबूत थे, लिहाजा उन्होंने प्रमुख जगहों पर चुनावी कैंप खुलवाए थे।

जोरदार चुनावी भिड़ंत के दौरान नेहरू पूर्णिया के दौरे पर गए थे। जिस एयरपोर्ट पर वह उतरे थे, उसी के पास उनका भाषण हुआ था। जबरदस्त भीड़ भी हुई थी। इसी बीच, जेपी की सभा कर रहे थे और वह गुलाबबाग में कार्यक्रम हुआ था। हालांकि, दोनों ही सभाओं में भारी भीड़ जुटी थी। पर जेपी की रैली में भीड़ में बड़ा वर्ग गरीबों का था। वोटिंग चार जनवरी से चालू होकर 23 जनवरी तक चली। 24 को मतगणना हुई, जिसमें सिन्हा ने जीत हासिल की।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली से मेरठ के बीच दौड़ेगी रैपिड रेल: 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली देश की पहली ट्रेन
2 कोशिश करेंगे, महाराष्ट्र में कृषि विधेयक लागू नहीं हों : कांग्रेस, राकांपा
3 “आपकी कंपनी की दिक्कत है इसके लिए यात्री क्यों सफर करें?’ लॉकडाउन में रद्द हुई उड़ानों को लेकर बोला सुप्रीम कोर्ट, सुरक्षित रखा फैसला
IPL Records
X