ताज़ा खबर
 

Bihar Elections Highlights: तेजस्वी, तेजप्रताप और पप्पू यादव के खिलाफ कोविड-19 प्रोटोकॉल तोड़ने के आरोप में मामला दर्ज

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, तेज प्रताप यादव, जन अधिक्कार पार्टी (जाप) के नेता पप्पू यादव सहित पांच लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है, जबकि 150 अन्य को गैर नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

Bihar Elections Updates, Bihar Elections LIVE, Bihar Elections, BiharBihar Elecकोरोना के बीच बिहार में इस बार का विस चुनाव तीन चरण में होगा, जिसके नतीजे 10 नवंबर को जारी किए जाएंगे।

बिहार की प्रमुख विपक्षी पार्टी राजद के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, उनके बड़े भाई तेज प्रताप यादव, जन अधिकार पार्टी (जाप) नेता राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव और 150 अन्य लोगों के खिलाफ कृषि विधेयकों के विरोध में बिना अनुमति जुलूस निकालने को लेकर पटना शहर के कोतवाली थाना में प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सहित कई किसान संगठनों और विपक्षी दलों ने शुक्रवार को संसद से पारित किए गए तीन कृषि विधेयकों को किसान विरोधी बताते हुए इसके खिलाफ राज्य की राजधानी में प्रदर्शन किया और जुलूस निकाला था। कोतवाली थाना अध्यक्ष सुनील कुमार ने बताया कि दंडाधिकारी द्वारा की गयी शिकायत के आधार पर शुक्रवार को उक्त प्रथामिकी दर्ज की गई है। बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, तेज प्रताप यादव, जन अधिक्कार पार्टी (जाप) के नेता पप्पू यादव सहित पांच लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है, जबकि 150 अन्य को गैर नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

उधर, बिहार के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय के शनिवार को जदयू के प्रदेश मुख्यालय जाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। इसके बाद उनके जदयू में शामिल होने और प्रदेश के विधानसभा का आसन्न चुनाव लड़ने की अटकलें तेज हो गयीं हैं पर गुप्तेश्वर ने नीतीश से हुई इस मुलाकात के राजनीतिक होने से इंकार किया है।

पटना स्थित जदयू मुख्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश से मुलाकात करने के बाद गुप्तेश्वर ने कहा, ”मेरी कोई राजनीतिक बात नहीं हुई है। उनको धन्यवाद देने आया था कि उन्होंने मुझे पूरी स्वतंत्रता काम (पुलिस महानिदेशक के पद रहने के दौरान दायित्वों के निर्वहन में) करने की दी। सेवानिवृत्ति के बाद मैं सिर्फ उनके समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहता था।” यह पूछे जाने पर कि वह जदयू में कब शामिल होने वाले हैं, उन्होंने कहा, ”मैंने चुनाव लडने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं किया है।” पांडेय ने कहा, ” अगर मैं किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होने का फैसला करता हूं, तो मैं सभी को अवगत करा दूंगा।”

Live Blog

Highlights

    20:00 (IST)26 Sep 2020
    नीतीश ने बिहार चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा का स्वागत किया, 'सात निश्चय' के दूसरे चरण की घोषणा

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्वाचन आयोग द्वारा बिहार विधानसभा के चुनाव के लिए तारीखों के ऐलान का स्वागत किया और कहा कि अगर राज्य के लोग उन्हें एक बार फिर सेवा का मौका देंगे तो वह और विकास कार्यक्रमों की शुरुआत करेंगे। कुमार ने यहां जदयू दफ्तर में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मौजूदा कार्यकाल के 'सात निश्चय' की तरह ही उनकी सरकार विकास की पहल के दूसरे चरण की शुरुआत करेगी। कुमार प्रशासन ने 2015-20 के कार्यकाल के लिए 'सात निश्चय' की घोषणा की थी, जिनमें बुनियादी जरूरतों को सुनिश्चित करने वाली सात योजनाएं शामिल हैं, जैसै पाइप से पीने का पानी पहुंचाना, शौचालयों का निर्माण, पक्की नालियां और हर घर में बिजली का कनेक्शन। जदयू के प्रमुख कुमार ने कहा कि 'सात निश्चय-2' में नौकरी की संभावना को उज्ज्वल करने के लिए युवाओं के कौशल को बढ़ाना, महिलाओं को आर्थिक सहायता देकर उनकी उद्यमशीलता को बढ़ावा देना, हरेक खेत को सिंचाई की सुविधा और लोगों तथा पशुओं को अतिरिक्त स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना शामिल होगा।

    18:54 (IST)26 Sep 2020
    संजय राउत ने बिहार चुनाव को लेकर उठाए सवाल

    शिवसेना सांसद संजय राउत ने शनिवार को यह जानना चाहा कि कोरोना वायरस महामारी के बीच बिहार में विधानसभा चुनाव कैसे कराये जाएंगे। राज्य में तीन चरणों में--28 अक्टूबर, तीन और सात नवंबर-- विधानसभा चुनाव होंगे। राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा कि चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी गई है क्योंकि बिहार विधानसभा का कार्यकाल समाप्त होने को है, ‘‘ऐसे में सवाल यह है कि क्या कोविड-19 समाप्त हो गया है?’’ शिवसेना के राज्यसभा सदस्य ने कहा, ‘‘इस तरह के माहौल में चुनाव कैसे होगा? देश जरूर जानना चाहेगा। चुनाव प्रचार और रैलियां कैसे होंगी? मतदान ऑनलाइन नहीं हो सकता। आपको कतार में खड़ा होना होगा। ’’ उन्होंने कहा कि महामारी के डर से लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं, ऐसे में मतदान प्रतिशत नहीं गिरना चाहिए।

    17:20 (IST)26 Sep 2020
    बिहार विधान परिषद की आठ सीटों पर 22 अक्टूबर को मतदान

    निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को घोषणा की कि बिहार विधान परिषद की आठ सीटों पर द्विवार्षिक चुनाव 22 अक्टूबर को होगा। इससे पहले आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा की थी। परिषद की आठ सीटों में से चार स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से हैं और चार शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से हैं। आयोग ने एक विज्ञप्ति में बताया कि आठ सदस्यों का कार्यकाल छह मई को समाप्त हो गया था। पटना, दरभंगा, तिरहुत और कोसी के स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों तथा पटना, दरभंगा, तिरहुत और सारण के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों के लिए मतदान होगा। कोविड-19 की स्थिति और दिशा-निर्देशों तथा संबंधित अधिकारियों की ओर से जारी आदेशों के मद्देनजर आयोग ने तीन अप्रैल को चुनाव स्थगित कर दिया था और कहा था कि आठ सीटों पर चुनाव स्थिति की समीक्षा करने के बाद किसी और तारीख को कराएं जाएंगे।

    14:59 (IST)26 Sep 2020
    बिहार चुनाव से पहले क्या है जनता का मूड?

    बिहार में विधान सभा चुनाव का शेड्यूल जारी हो चुका है। इस बार सूबे में किसकी सरकार बनेगी और वोटर्स के लिए क्या चीजें मायने रहेंगी? हिंदी अखबार 'दैनिक भास्कर' ने इसी को लेकर हाल में एक पोल (DB Poll) कराया है, जिसमें इस बार 94.6 फीसदी लोगों ने कहा कि वे पढ़े लिखे लोगों को वोट देंगे। 58 फीसदी जनता ने माना कि राज्य हित सोचने वाला कैंडिडेट बहुत जरूरी है, जबकि 97.6 फीसदी की राय है कि टिकट बंटवारे के दौरान पार्टियों को जनता का दर्द समझने वाले व्यक्ति को प्राथमिकता देनी चाहिए।

    दरअसल, सर्वे में पूछा गया कि लोग चुनाव में किसको वोट देना पसंद करेंगे? 94.6 फीसदी ने कहा कि वे प्रत्याशियों को शैक्षणिक योग्यता के आधार पर चुनेंगे। 3.1 फीसदी ने कहा कि वे जातिगत आधार पर वोट देंगे और 2.3 प्रतिशत ने बताया कि वह उसकी दबंग छवि को ध्यान में रखते हुए वोट देंगे। बिहारियत क्या जरूरी मुद्दा है? 58.3 फीसदी का मानना है कि यह बहुत जरूरी है। 23.9 फीसदी ने कहा कि यह समय की मांग है। वहीं, 17.8 प्रतिशत लोगों का कहना है कि यह गैर-जरूरी मुद्दा है।

    14:51 (IST)26 Sep 2020
    RJD में दरार के संकेत? क्या बोले CM नीतीश

    बिहार विधानसभा के चुनाव तीन चरणों- 28 अक्टूबर, तीन नवंबर और सात नवंबर को होंगे तथा 10 नवबंर को नतीजों का ऐलान किया जाएगा। कुमार से पूछा गया कि लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) प्रमुख चिराग पासवान अक्सर उनपर निशाना साधते हैं जिससे राजग में दरार पड़ने का संकेत मिलता है, इसपर मुख्यमंत्री ने कहा कि वह इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं कि कौन क्या बोल रहा है। हम चाहते हैं कि राजग के सभी घटक मिलकर चुनाव लड़ें और जीतें। उन्होंने कहा कि भाजपा भी इसके लिए काम कर रही है। कुमार ने कहा कि 15 साल बनाम 15 साल निश्चित रूप से चुनाव अभियान का विमर्श रहेगा।

    13:59 (IST)26 Sep 2020
    बिहार चुनाव से पहले पप्पू यादव के बड़े दावे

    जाप सुप्रीमो पप्पू यादव ने कहा है कि वह एक साल के अंदर एक डीसीमल जमीन देंगे। बिहार में सबसे ज्यादा रोजगार होगा। पर्यटन विभाग सबसे ज्यादा विकसित होगा। सरकारी स्कूल में पढ़ना अनिवार्य होगा। कोरोना से मारे गए लोगों का सीएम जवाब देंगे और प्राइवेट से अधिक सुंदर सरकारी अस्पताल होंगे।

    12:25 (IST)26 Sep 2020
    मांझी को Z+ सुरक्षा

    बिहार चुनाव से ऐन पहले HAM चीफ जीतन राम मांझी को Z+ सिक्योरिटी दी गई है।

    11:54 (IST)26 Sep 2020
    बिहार विधान परिषद की आठ सीटों पर 22 अक्टूबर को मतदान

    निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को घोषणा की कि बिहार विधान परिषद की आठ सीटों पर द्विवार्षिक चुनाव 22 अक्टूबर को होगा। इससे पहले आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा की थी। परिषद की आठ सीटों में से चार स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से हैं और चार शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से हैं। आयोग ने एक विज्ञप्ति में बताया कि आठ सदस्यों का कार्यकाल छह मई को समाप्त हो गया था। पटना, दरभंगा, तिरहुत और कोसी के स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों तथा पटना, दरभंगा, तिरहुत और सारण के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों के लिए मतदान होगा। कोविड-19 की स्थिति और दिशा-निर्देशों तथा संबंधित अधिकारियों की ओर से जारी आदेशों के मद्देनजर आयोग ने तीन अप्रैल को चुनाव स्थगित कर दिया था और कहा था कि आठ सीटों पर चुनाव स्थिति की समीक्षा करने के बाद किसी और तारीख को कराएं जाएंगे।

    11:06 (IST)26 Sep 2020
    नीतीश ने बिहार चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा का स्वागत किया, 'सात निश्चय' के दूसरे चरण की घोषणा की

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्वाचन आयोग द्वारा बिहार विधानसभा के चुनाव के लिए तारीखों के ऐलान का स्वागत किया और कहा कि अगर राज्य के लोग उन्हें एक बार फिर सेवा का मौका देंगे तो वह और विकास कार्यक्रमों की शुरुआत करेंगे। कुमार ने यहां जदयू दफ्तर में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मौजूदा कार्यकाल के 'सात निश्चय' की तरह ही उनकी सरकार विकास की पहल के दूसरे चरण की शुरुआत करेगी। कुमार प्रशासन ने 2015-20 के कार्यकाल के लिए 'सात निश्चय' की घोषणा की थी, जिनमें बुनियादी जरूरतों को सुनिश्चित करने वाली सात योजनाएं शामिल हैं, जैसै पाइप से पीने का पानी पहुंचाना, शौचालयों का निर्माण, पक्की नालियां और हर घर में बिजली का कनेक्शन। जदयू के प्रमुख कुमार ने कहा कि 'सात निश्चय-2' में नौकरी की संभावना को उज्ज्वल करने के लिए युवाओं के कौशल को बढ़ाना, महिलाओं को आर्थिक सहायता देकर उनकी उद्यमशीलता को बढ़ावा देना, हरेक खेत को सिंचाई की सुविधा और लोगों तथा पशुओं को अतिरिक्त स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना शामिल होगा।

    10:38 (IST)26 Sep 2020
    उठो बिहारी, करो तैयारी- जेल में बंद लालू की शायरी, कहा- अबकी बार जनता राज
    Next Stories
    1 अनिल अंबानी ने बयां किया माली हाल- कोर्ट के खर्चे में बिक गए सारे गहने, मेरे पास सिर्फ़ एक कार, खर्च चला रहे परिवारवाले
    2 हिल गए नरेंद्र मोदी, अब दिल्ली के तख्त को हिलाना है- BJP के पुराने दोस्त अकाली सुखबीर सिंह बादल की हुंकार
    3 Bihar Elections: तब जवाहर लाल नेहरू और जय प्रकाश नारायण का हुआ था आमना-सामना, पढ़ें किस्सा
    यह पढ़ा क्या?
    X