ताज़ा खबर
 

बिहार: महागठबंधन में सीएम फेस पर रार, कांग्रेस ने मीरा का नाम आगे कर बढ़ाई तेजस्वी की बेचैनी, दो और ने ठोका दावा

हिंदुस्तान अवाम मोर्चा (हम) के जीतनराम मांझी और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के उपेंद्र कुशवाहा ने भी दबी जुबान में अपनी दावेदारी पेश कर दी है।

बिहार में महागठबंधन में सीएम चेहरे पर रार। (एक्सप्रेस फोटो)

बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। सत्ताधारी जदयू, भाजपा और लोजपा गठबंधन नीतीश कुमार को ही सीएम बनाने के लिए एकमत दिखाई दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ राजद-कांग्रेस-रालोसपा-हम के महागठबंधन में सीएम चेहरे को लेकर स्थिति साफ नहीं है।

महागठबंधन के घटक दल कांग्रेस के एक धड़े की तरफ से पार्टी की वरिष्ठ नेता मीरा कुमार का नाम सीएम पद के लिए उछाले जाने से महागठबंधन में सीएम चेहरे पर रार होने की आशंका पैदा हो गई है। इस पूरे मामले ने राजद नेता तेजस्वी यादव की बेचैनी बढ़ा दी है।

इतना ही नहीं महागठबंधन की दो अन्य पार्टियों हिंदुस्तान आवाम मोर्चा और रालोसपा की तरफ से भी अपने-अपने नेताओं को सीएम पद का दावेदार बताया जा रहा है। हिंदुस्तान आवाम मोर्चा की तरफ से जीतनराम मांझी और रालोसपा की तरफ से उपेन्द्र कुशवाहा दबी जुबान में अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं।

बता दें कि राष्ट्रीय जनता दल ने तेजस्वी यादव को अगले चुनावों में सीएम प्रत्याशी घोषित कर दिया है। ऐसे में अब महागठबंधन के अन्य घटक दलों की तरफ से भी सीएम प्रत्याशियों के नाम उछाले जाने से राजद की परेशानी बढ़ सकती है।

राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने सीएम पद के लिए तेजस्वी यादव के नाम की वकालत करते हुए कहा है कि ‘हम गठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी हैं। तेजस्वी यादव विपक्ष के नेता भी हैं।’ झारखंड का उदाहरण देते हुए राजद प्रवक्ता ने कहा कि झारखंड में भी गठबंधन के सबसे बड़े दल झामुमो के नेता को सीएम प्रत्याशी बनाया गया था।”

कांग्रेस के विधान परिषद सदस्य प्रेमचंद मिश्र ने मीरा कुमार का नाम सीएम पद के लिए आगे करते हुए कहा कि कांग्रेस में चेहरों की कमी नहीं है। उन्होंने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को बिहार का बड़ा चेहरा बताते हुए कहा कि ‘राजद के साथ विचारधारा को लेकर गठबंधन है। कांग्रेस बिहार सहित देश के कई राज्यों में सत्ता में रही है और पार्टी हर जिम्मेदारी को उठाने के लिए तैयार है।’

एमएलसी प्रेमचंद मिश्र ने सीट शेयरिंग को लेकर कहा कि इस बार उनकी पार्टी गत विधानसभा चुनावों से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बीते चुनावों में कांग्रेस को सिर्फ 43 सीटें ही मिली थी। ऐसे में कांग्रेस ने इस बार अभी से ही ज्यादा सीटों के लिए महागठबंधन पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुंबई मैराथन में दौड़ रहे 7 लोगों को पड़ा दिल का दौरा, 64 वर्षीय बुजुर्ग की हुई मौत
2 शाहीन बाग में विरोध कर रही महिला ने PM मोदी से पूछा- ‘तुम कब आओगे’, कहा- आओ करें चाय पे चर्चा, सुनो हमारे ‘मन की बात’
3 उत्तराखंडः उर्दू की जगह अब संस्कृत में लिखे जाएंगे रेलवे स्टेशनों के नाम, सरकार बोली- नियम के तहत हो रहा बदलाव
यह पढ़ा क्या?
X