ताज़ा खबर
 

सुशील मोदी ने लालू पर लिख दी 200 पेज की किताब, केंद्रीय मंत्री ने किया ‘लालू लीला’ का विमोचन

बिहार के डिप्टी सीएम ने किताब में आरजेडी मुखिया और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार कर कई संपत्तियां हड़पने का आरोप लगाया है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को पटना में सुशील मोदी की नई किताब का विमोचन किया। (फोटोः एजेंसियां)

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के मुखिया और चारा घोटाला मामले में  सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव पर करीब 200 पेज की किताब लिखी है। किताब का नाम लालू लीला रखा गया है, जिसका विमोचन गुरुवार (11 अक्टूबर) को राजधानी पटना में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने किया। सुशील मोदी ने इस किताब में लालू और उनके परिजन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। दावा किया है कि आरजेडी मुखिया व उनके परिवार के लोगों ने बिहार और अन्य राज्यों में अवैध तरीके से 141 जमीनें, 30 फ्लैट और लगभग आधा दर्जन मकान अपने नाम पर जुटाईं।

आपको बता दें कि यह बिहार के डिप्टी सीएम की दूसरी किताब है। उन्होंने इससे पहले ‘बीच समर में’ लिखी थी। यह किताब आपात्काल के दौरान उनके जेल में होने के इर्द-गिर्द थी, जिसका विमोचन लगभग दो साल पहले हुआ था। बिहार के डिप्टी सीएम ने इस किताब में लालू के 15 सालों के शासनकाल के दौरान सूबे की खस्ता हालत के बारे में बताया है।

सुशील मोदी ने अपनी नई किताब के जरिए सवाल उठाया कि कैसे 29 वर्षीय तेजस्वी यादव 20 संपत्तियों के मालिक बन गए? बकौल मोदी, “तेजस्वी के पास कोई पुश्तैनी जमीन नहीं है। वह क्रिकेट में भी फ्लॉप हुए, जबकि उनके बड़े भाई तेज प्रताप के पास 28 संपत्तियां हैं और बहन मीसा भारती के नाम 23 संपत्तियां हैं। वहीं, लालू की पत्नी के नाम पर 43 प्लॉट और करीब 30 फ्लैट हैं।”

वहीं, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है कि लालू लीला नाम से ही लोग समझ जाएंगे कि इस किताब में क्या होगा। बिहारवासियों ने उन्हें ताकत दी थी। लेकिन उन्होंने उसका प्रयोग किया, जिसका नतीजा उन्हें अब भुगतना पड़ा।

उधर, आरजेडी ने मोदी और उनकी किताब का विरोध किया है। स्थानीय पत्रकारों को रामचंद्र पूर्वे ने बताया कि मोदी जानते हैं कि वह अगर लालू पर नहीं लिखेंगे या बोलेंगे तो सुर्खियों में उन्हें जगह नहीं मिलेगी। यही कारण है कि वह गरीबों के मसीहा लालू के बारे में उल्टा-पुल्टा कहते और लिखते रहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App