ताज़ा खबर
 

लौटते प्रवासी मजदूरों और कोरोना के बढ़ते केस के बाद बिहार सरकार ने बदली पॉलिसी, अब इन 11 शहरों से आए श्रमिक ही भेजे जाएंगे क्वारंटीन सेंटर

जिन 11 शहरों की लिस्ट तैयार की गई है, वहां कोरोना संक्रमण के मामले काफी ज्यादा सामने आए हैं और देखा गया है कि इन शहरों से आने वाले प्रवासी मजदूर काफी संख्या में पॉजिटिव पाए जा रहे हैं।

बिहार में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

बिहार में प्रवासी मजदूरों के लौटने के चलते कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े हैं। बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर बिहार लौट रहे हैं, ऐसे में सरकार के लिए सभी को क्वारंटीन करना बेहद मुश्किल भरा काम साबित हो रहा है। यही वजह है कि बिहार सरकार ने अपनी पॉलिसी में थोड़ा बदलाव किया है। इस बदलाव के तहत सिर्फ 11 शहरों से आने वाले मजदूरों को ही क्वारंटीन सेंटर्स में रखा जाएगा।

जिन शहरों से लौटे मजदूर क्वरांटीन सेंटर में रखे जाएंगे, उनमें सूरत, दिल्ली, पुणे, अहमदाबाद, मुंबई, गाजियाबाद, नोएडा, फरीदाबाद, गुरुग्राम, कोलकाता और बेंगलुरु शामिल हैं। इसके साथ ही जिलाधिकारियों को यह छूट दी गई है कि वह कोरोना संक्रमण के ट्रेंड्स को देखते हुए किसी अन्य शहर को भी इस लिस्ट में शामिल कर सकते हैं।

बता दें कि बिहार में जिन 11 शहरों की लिस्ट तैयार की गई है, वहां कोरोना संक्रमण के मामले काफी ज्यादा सामने आए हैं और देखा गया है कि इन शहरों से आने वाले प्रवासी मजदूर काफी संख्या में पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। यही वजह है कि बिहार सरकार ने इस शहरों से आने वाले प्रवासियों पर खास ध्यान देने के निर्देश दिए हैं।

देश के अन्य शहरों से आ रहे प्रवासियों को उनके घर में ही क्वारंटीन रहने के निर्देश दिए जा रहे हैं। डिजास्टर मैनेजमेंट विभाग और राज्य के मुख्य सचिव के बीच हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला किया गया है और इसे तुरंत प्रभाव से राज्य में लागू कर दिया गया है।

राज्य के सभी जिलाधिकारियों, एसएसपी और एसपी को पत्र लिखकर इस गाइडलाइंस की जानकारी दे दी गई हैं। डिजास्टर मैनेजमेंट विभाग के मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया है कि ‘होम क्वारंटीन होने वाले मजदूरों को एक सेल्स अटेस्ट फॉर्म के जरिए सभी गाइडलाइंस की जानकारी दी जाएगी। इसके साथ ही 11 शहरों से आने वाले प्रवासियों को 14 दिन क्वारंटीन सेंटर में बिताने के बाद अपने घर पर भी 7 दिनों तक क्वारंटीन रहना होगा।’

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक तीन मई से अब तक 1,184 प्रवासी श्रमिक इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 333 लोग दिल्ली से आए हैं जबकि महाराष्ट्र से 212, हरियाणा से 80, पश्चिम बंगाल से 65, राजस्थान से 45, उत्तर प्रदेश से 41 और तेलंगाना से 38 श्रमिक लौटे हैं। राज्य सरकार के आंकड़ों के अनुसार अन्य राज्यों से शुक्रवार को 85 ट्रेनों से 1.40 लाख लोग आए हैं। इसके अलावा शनिवार को 90 ट्रेनों से 1.50 लाख लोगों के लौटने की संभावना है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब GST पर सेस लगाने की तैयारी, दो राज्यों ने कहा- सही नहीं होगा पहले से खराब हालत पर और बोझ लादना
2 RBI गवर्नर की घोषणा से कंपनियों को राहत, पर बैंक परेशान, 2020-21 की दूसरी छमाही में 30% NPA बढ़ने की चिंता
3 Weather Forecast Highlights: दिल्ली में पारा 45 डिग्री के पार, अगले कुछ दिन नहीं मिलेगी गर्मी से राहत, जानिए पूरे हफ्ते के मौसम का हाल