शराब पर बैन को राष्‍ट्रीय मुद्दा बना रही जेडीयू, भाजपा शासित झारखंड में फायदे गिनाने जाएंगे नीतीश

सीएम को झारखंड के नारी संघर्ष मोर्चा नाम के संगठन ने बुलावा भेजा, जिसे उन्‍होंने कबूल कर लिया। नीतीश को झारखंड के अलावा यूपी, उत्‍तराखंड, राजस्‍थान और महाराष्‍ट्र में संबोधित करने के लिए ऐसे निमंत्रण भेजे जा रहे हैं।

Bihar legislature, GST bill, Bihar legislature Special session, Bihar legislature GST bill, Bihar legislature News, Bihar GST Bill
पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मीडिया से बात करते हुए। (पीटीआई फाइल फोटो)

बिहार के सीएम नीतीश कुमार बिहार में शराब बैन को लेकर अब देशव्‍यापी समर्थन जुटाने के लिए निकलने वाले हैं। इसी सिलसिले में वे सबसे पहले बीजेपी के शासन वाले राज्‍य झारखंड में अगले महीने जाएंगे। सीएम को झारखंड के नारी संघर्ष मोर्चा नाम के संगठन ने बुलावा भेजा, जिसे उन्‍होंने कबूल कर लिया। नीतीश धनबाद में 10 मई को एक सभा को संबोधित करेंगे।

नीतीश कुमार पड़ोसी राज्‍य झारखंड और यूपी पर भी शराबबंदी के लिए जोर दे रहे हैं। ऐसा लगता है कि वे अपने राष्‍ट्रीय मंसूबों को शराबबंदी की थीम के सहारे आगे बढ़ाना चाहते हैं। नीतीश ने तो पूरे देश में शराब पर बैन लगाए जाने की वकालत की है। जेडीयू के नेशनल प्रेसिडेंट नीतीश को कई गांधीवादी संगठनों और सामाजिक संस्‍थाओं ने निमंत्रण भेजा हैं। बुलावा भेजने वालों में अधिकतर महिलाएं हैं। नीतीश को झारखंड, यूपी, उत्‍तराखंड, राजस्‍थान और महाराष्‍ट्र में संबोधित करने के लिए ये निमंत्रण भेजे जा रहे हैं।

जेडीयू प्रवक्‍ता और सांसद केसी त्‍यागी ने द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में बताया कि नीतीश ने झारखंड से आए बुलावे को कबूल कर लिया है। उन्‍होंने कहा कि बिहार में शराब पर लगा बैन दूसरे राज्‍यों में महिलाओं के बीच काफी तेजी से एक बेहतर संदेश की तौर पर फैल रहा है। त्‍यागी ने बताया कि नीतीश कुमार 15 मई को लखनऊ में एक कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां एक स्‍वयंसेवी संगठन बिहार में शराब पर बैन लगाने के लिए नीतीश को सम्‍मानित करेगा। क्‍या नीतीश शराबबंदी के मुद्दे को लेकर अपने राष्‍ट्रीय योजनाओं को परवान चढ़ाना चाहते हैं, इस सवाल के जवाब में त्‍यागी ने कहा, ”देश भर में महिलाओं की एक बड़ी तादाद है, जो शराब के सेवन की बुराई की वजह से प्रभावित हैं। बिहार में लिया गया फैसला निश्‍च‍ित तौर पर देश भर की महिलाओं को पसंद आ रहा है। शराबबंदी के विषय पर बोलने के लिए नीतीश कुमार की बड़ी डिमांड है। बिहार में उठाए गए कदम ने एक सामाजिक क्रांति की शुरुआत की है।”

जेडीयू के सूत्रों ने बताया, ”पार्टी के थिंकटैंक को लगता है कि शराबबंदी एक बड़ा राष्‍ट्रीय मुद्दा बन सकता है और सिर्फ बिहार के परिप्रेक्ष्‍य में इस पर चर्चा नहीं होनी चाहिए। उल्‍लंघन करने वालों से सख्‍ती से निपटकर हम कड़ा मैसेज दे रहे हैं। हमारी पुलिस ने एक कांग्रेसी विधायक के खिलाफ शराब पीने को बढ़ावा देने का मामला दर्ज किया है।” सूत्र ने यह भी बताया कि झारखंड और यूपी के बाद सीएम दूसरे राज्‍यों का भी दौरा करेंगे।

Next Story
बिहार: सीएम नीतीश कुमार की अपील-एक अप्रैल से शराब की भट्टियों को तबाह करने से न हिचकें महिलाएंNitish Kumar, Narendra Modi, JNU, Rohith Vemula, Patna