ताज़ा खबर
 

बिहारः Loksabha Elections के फॉर्मूले पर BJP-JDU लड़ेगी विधानसभा चुनाव? हो सकता 50-50 पर सीटों का बंटवारा

बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के दौरान भी जेडीयू के सामने यह शर्त रखी थी की गठनबंधन के सहयोगियों को सीटें बांटने के बाद जो सीटें बच जाए वह दोनों ही दलों के बीच बराबर बांट ली जाए।

Author Edited By मोहित पटना | Updated: January 16, 2020 1:26 PM
बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। (फाइल फोटो)

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में बीजेपी और जेडीयू 50-50 फॉर्मूले के तहत चुनाव लड़ सकते हैं। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में भी दोनों दलों ने इसी फॉर्मूले के तहत चुनाव लड़ा था। दोनों ही दलों को जबदस्त जीत हासिल हुई थी। बीजेपी सूत्रों के हवाले से यह खबर सामने आई है। सूत्रों का कहना है कि अभी सीट शेयरिंग पर बातचीत चल रही है ऐसे में दोनों ही दल लोकसभा चुनाव का फॉर्मूला विधानसभा चुनाव में इस्तेमाल कर सकते हैं।

बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के दौरान भी जेडीयू के सामने यह शर्त रखी थी की गठनबंधन के सहयोगियों को सीटें बांटने के बाद जो सीटें बच जाए वह दोनों ही दलों के बीच बराबर बांट ली जाए। ऐसे में बीजेपी अब विधानसभा चुनाव में भी जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने यह शर्त रख सकती है।

बता दें कि इससे पहले जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर कह चुके हैं कि जेडीयू को 50 प्रतिशत सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा है कि सीट बंटवारा 2010 विधानसभा चुनाव के तहत किया जाना चाहिए। 2010 में जेडीयू 142 सीट पर और बीजेपी ने 101 सीट पर चुनाव लड़ा था। हालांकि तब लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) गठबंधन का हिस्सा नहीं थी।

बहरहाल सीट बंटवारे को लेकर स्थिति अभी पूरी तरह से साफ नहीं है। केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने हाल के दिनों में टीवी साक्षात्कारों में कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए का चेहरा होंगे। बता दें कि महाराष्ट्र के झटके के बाद बीजेपी यहां पर गठबंधन को लेकर बेहद संजीदा है, इसलिए वह एक-एक कदम फूंक-फूंककर ले रही है।

वहीं विपक्षी दलों के महागठबंधन में कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अलावा उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा, जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के भी साथ आने की पूरी संभावना है। ऐसे में संभावना है कि एनडीए पर महागठनबंधन भारी पड़ सकता है। हालांकि इन दलों के बीच भी सीट बंटवारे को लेकर बातचीत जारी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुंबईः Congress पार्षद ने महिला पत्रकार से की बदसलूकी, दागे सवाल तो झटककर मारने लगे; VIDEO हो रहा वायरल
2 आतंक के खात्मे को CDS बिपिन रावत ने सुझाया ‘मंत्र’, कहा- वैसे ही निटपना होगा, जैसे…
3 “PM को अर्थव्यवस्था के बारे में कुछ नहीं पता”, कांग्रेस ने सुब्रमण्यम स्वामी के बयान का हवाला दे यूं कसा तंज
ये पढ़ा क्‍या!
X