ताज़ा खबर
 

महागठबंधन एससी-एसटी-ओबीसी का 5% आरक्षण छीनने की जुगत में: मोदी

आरक्षण मुद्दे से जुड़े विवाद को नया मोड़ देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महागठबंधन के नेताओं सोनिया गांधी, नीतीश कुमार और लालू प्रसाद पर सीधे आरोप लगाया कि वे वोट बैंक...

Author बक्सर/सीवान (बिहार) | October 26, 2015 10:26 PM
सोमवार को बिहार के बक्सर में चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

आरक्षण के साथ छेड़छाड़ के आरोपों से घिरे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को जवाबी हमला करते हुए बिहार के महागठबंधन पर आरोप लगाया कि वे वोट बैंक की राजनीति के चलते दलितों, महादलितों और पिछड़े वर्गों के आरक्षण कोटे में पांच प्रतिशत की कटौती करके उसे किसी सम्प्रदाय विशेष को देने का षड्यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस षड्यंत्र को विफल बनाने के लिए वह अपनी जान की बाजी लगा देंगे।

मोदी ने कहा कि ‘‘महास्वार्थ’’ गठबंधन के नेता आरक्षण के मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। क्योंकि संविधान धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं देता। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने भी आरक्षण के लिए 50 प्रतिशत की सीमा तय की है।

उन्होंने कहा, ‘‘ये नेता एक कुटिल योजना बना रहे हैं। वह दलितों, महादलितों, पिछड़ों और अति पिछड़ों का 5 प्रतिशत आरक्षण लेकर उसे एक खास समुदाय को देना चाहते हैं।’’

प्रधानमंत्री ने बक्सर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मैं एक अति पिछड़े वर्ग से आया हूं और एक गरीब महिला के यहां पैदा होने की पीड़ा समझता हूं। मैं ऐसा होने नहीं दूंगा। मैं बिहार के पिछड़ों, अति पिछड़ों, दलितों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि अगर कोई आपके आरक्षण में से रत्ती भर भी छीनने की कोशिश करेगा और उसे किसी और सम्प्रदाय को देकर वोट बैंक की राजनीति करेगा तो मोदी आपके आरक्षण की सुरक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगा देगा। आज इस षड्यंत्र का खुलासा करना जरूरी हो गया था।’’

मोदी ने महागठबंधन के नेताओं नीतीश कुमार, लालू प्रसाद और सोनिया गांधी पर आरक्षण को लेकर लोगों को भ्रमित करने का आरोप लगाया और कहा कि वह धार्मिक आधार पर आरक्षण कभी नहीं होने देंगे।

मोदी ने चेतावनी देने के अंदाज में कहा कि अगर भाजपा विरोधी गठबंधन को सत्ता सौंपी गई तो जंगलराज लौट आएगा और अपहरण और महिलाओं पर अत्याचार जैसे अपराधों में इजाफा होगा।

मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद को भी भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई न करने पर आड़े हाथों लिया और कुछ हालिया घटनाओं का जिक्र किया, जिनमें उनके विधायक और उम्मीदवार कथित रूप से रिश्वत लेते और ‘‘सौदे कराते’’ पाए गए।

महागठबंधन के नेताओं पर अपने करारे प्रहार जारी रखते हुए उन्होंने कहा कि जद (यू) का एक विधायक और लालू प्रसाद की राजद का एक उम्मीदवार रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया, लेकिन उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मैं इन लोगों से पूछना चाहता हूं, कैमरे पर घूस लेते पकड़े जाने के बाद वे भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मौन क्यों हैं। चुनाव से पहले ही वह बिहार को बेच रहे है और सौदे करवा रहे हैं।’’

मोदी ने सवाल किया, ‘‘क्या बिहार को ऐसे लोगों के हवाले कर दिया जाए, जो इसे बेचने पर आमादा हैं। क्या बिहार इन्हें दिया जाना चाहिए। ऐसे लोगों को जो भ्रष्टाचार में शामिल हैं और भ्रष्टाचारियों को संरक्षण दे रहे हैं उन्हें बिहार में सरकार बनाने की इजाजत दी जानी चाहिए।’’

मोदी ने कहा कि महागठबंधन के नेता बिहार को पिछड़ा बनाए रखने के लिए एक लड़ाई लड़ रहे हैं और वह (मोदी) इसे आगे ले जाने के लिए लड़ रहे हैं। ‘‘यह फैसला मतदाताओं को करना है कि उन्हें किस ओर जाना है।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस, राजद और जद (यू) नेतृत्व ने पिछले 60 बरस के अपने सामूहिक शासन में बिहार की पीढ़ियों को बर्बाद कर दिया। मोदी ने अपनी जनसभाओं में पहुंची भारी भीड़ को परिवर्तन का मेला करार दिया।

तांत्रिक विवाद की पृष्ठभूमि में नीतीश कुमार और लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, ‘‘ये 18वीं सदी की सोच वाले हैं। क्या ताबीज बांधकर देश राज्य चलायेंगे। बिहार के लोगों को जादू टोना नहीं चाहिए, उन्हें नौकरी चाहिए, उन्हें रोजगार चाहिए।’’

उन्होंने कहा कि इसलिए बिहार के लिए मेरा छह सूत्री एजेंडा है जो बिजली, पानी, सड़क से लेकर पढ़ाई, कमाई और दवाई है। गरीब से गरीब का बच्चा पढ़े और उसे पढ़ने और रोजगार के लिए अपना घर और बूढे मां बाप को छोड़कर नहीं जाना पड़े यही मेरा प्रयास होगा।

प्रधानमंत्री ने महिला मतदाताओं को लुभाने का भी प्रयास करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से सवाल किया कि संसद एवं विधानसभाओं में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का घोर विरोध करने वाले नीतीश की पार्टी जदयू और लालू प्रसाद की पार्टी राजद के साथ उन्होंने गठबंधन क्यों किया?

मोदी ने राज्य की समस्याओं के लिए बड़े भाई (लालू प्रसाद) और छोटे भाई (नीतीश कुमार) को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि केवल राजग ही राज्य में विकास ला सकता है। उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने राज्य में 25 वर्षों तक शासन किया और अब उन्हें इन 25 वर्षो का हिसाब देना होगा।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि चुनाव में कांग्रेस कहीं दिखाई ही नहीं दे रही है और महागठबंधन में उसे मिलीं 40 सीटें तो वैसे ही राजग की झोली में आ गई हैं क्योंकि कोई मुकाबला नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App