ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव की जानकारी: एक नजर में चुनावी समीकरण

1- बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं। बहुमत का आंकड़ा 122 का है। 2- 2015 में नीतीश कुमार की अगुआई में जद (एकीकृत) ने लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के साथ चुनाव लड़ा था। तब जद (एकी), राजद, कांग्रेस और अन्य दलों का महागठबंधन बना था। नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने और […]

बिहार चुनाव के लिए चुनाव आयोग और प्रशासनिक अफसरों की तैयारियां पूरी हो गई हैं।

1- बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं। बहुमत का आंकड़ा 122 का है।
2- 2015 में नीतीश कुमार की अगुआई में जद (एकीकृत) ने लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के साथ चुनाव लड़ा था। तब जद (एकी), राजद, कांग्रेस और अन्य दलों का महागठबंधन बना था। नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने और लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री।

3- 2017 में नीतीश कुमार ने राजद से गठबंधन तोड़ लिया और भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाई। तब भाजपा के पास 53 विधायक थे।

4- कांग्रेस ने पिछला चुनाव राजद, जद (एकी) और अन्य दलों के महागठबंधन में साथ मिलकर लड़ा था और उसे 27 सीटें मिली थीं। भाजपा की सहयोगी लोकजनशक्ति पार्टी दो सीटें ही जीत सकी थी।

5- 2020 के गठबंधन : इस बार के चुनाव में चार गठबंधन मैदान में हैं। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और महागठबंधन के अलावा बिहार में इस बार ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट और प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन ऐसे हैं, जो चुनाव से ठीक पहले बने हैं।

6- राजद की कवायद : सत्ता में वापसी की कोशिश में लगी राजद ने पिछले चुनाव में ही महागठबंधन बनाया था। महागठबंधन में इस बार वामपंथी दलों को भी साथ लिया गया है। कांग्रेस उनके साथ पहले से ही है। महागठबंधन में राजद 144 सीटों पर, कांग्रेस 70 सीटों पर और वामपंथी पार्टियां 29 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं।

7- राजग की कवायद : राजग गठबंधन में इस चुनाव में भाजपा और जद (एकी) के अलावा वीआइपी के मुकेश साहनी, हम के जीतन राम मांझी भी शामिल हैं। लोजपा इस बार राजग गठबंधन का हिस्सा नहीं है। जद (एकी) 122 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और भाजपा 121 सीटों पर। जद (एकी) ने अपने खाते से सात सीटें जीतन राम मांझी की हम पार्टी को दिया है, वहीं भाजपा मुकेश सहनी की वीआइपी को अपने हिस्से से 11 सीटें दे रही हैं।

8- तीसरा गठबंधन : रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा, बहुजन समाजवादी पार्टी की मायावती, एआइएमआइएम के असदुद्दीन ओवैसी, जनवादी पार्टी (समाजवादी) के संजय चौहान और सोहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने भी गठबंधन बनाया है, जिसे ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट का नाम दिया गया है।

9- चौथा गठबंधन : जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन यानी पीडीए बनाने की घोषणा की है। इस गठबंधन में चंद्रशेखर आजाद की अध्यक्षता वाली आजाद समाज पार्टी, एमके फैजी के नेतृत्व वाली सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आॅफ इंडिया यानी एसडीपीआइ और बीपीएल मातंग की बहुजन मुक्ति पार्टी शामिल हैं। इंडियन यूनियन मुसलिम लीग अब इस गठबंधन का हिस्सा नहीं है।

10- महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव राघोपुर सीट से चुनाव लड़ेंगे। वहीं उनके बड़े भाई तेज प्रताप ने अपना विधानसभा क्षेत्र महुआ से बदलकर हसनपुर कर लिया है।

11- राजग नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ रही है। जद (एकी) के उम्मीदवारों में चर्चा लालू प्रसाद के समधी और उनके बड़े बेटे तेजप्रताप के ससुर चंद्रिका राय की है। वे राजद में थे। मंत्री भी थे।
12- जद (एकी) ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले से चर्चा में आईं मंजू वर्मा को भी उम्मीदवार बनाया है। अब इन्हें चेरियाबरियारपुर से फिर टिकट मिला है।

13- बिहार चुनाव में इस बार एक चर्चित चेहरा पुष्पम प्रिया चौधरी का भी है। खुद को बिहार का सीएम उम्मीदवार बताने वालीं पुष्पम प्रिया चौधरी पटना के बांकीपुर और मधुबनी के बिस्फी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगी। पुष्पम प्रिया जद (एकी) से एमएलसी रह चुके विनोद चौधरी की बेटी हैं। वे लंदन से पढ़कर लौटीं और बिहार चुनाव में उतर गईं। उन्होंने प्लूरल्स नाम की एक पार्टी बनाई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सत्ता समर: ऐ भाई…राजनीतिक घमासान के मुद्दे क्या-क्या
2 सत्ता समर: चुनावी दंगल में वही पुराने दांव-पेच
3 चुनावी रंग: बिहार चुनाव में लोकगीतों के जरिये छा गईं नेहा और मैथिली
यह पढ़ा क्या?
X