ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: DM की मॉब लिंचिंग में जेल काट रहे नेता की पत्नी, बेटे को तेजस्वी ने RJD में लिया

आरजेडी में शामिल होने के बाद लवली आनंद ने कहा कि खुले मन से हम लोग आरजेडी में आए हैं क्योंकि प्रदेश की नीतीश सरकार ने धोखा देने का काम किया है।

Author Translated By Ikram पटना | September 29, 2020 11:18 AM
bihar electionsपटना में लवली आनंद और उनके बेटे चेतन आनंद के साथ आरजेडी नेता तेजस्वी यादव। (PTI)

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले नेताओं का विभिन्न राजनीतिक दलों में शामिल होने का सिलसिला लगातार जारी है। इसी क्रम में 1990 के दशक के बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद सोमवार (28 सितंबर, 2020) को अपने बेटे चेतन आनंद के साथ आरजेडी में शामिल हो गईं। लवली आनंद पूर्व में खुद सांसद रह चुकी हैं। राजपूत समुदाय के आनंद मोहन 1990 के दशक की शुरुआत में तत्कालीन सीएम लालू यादव को चुनौती देकर सुर्खियों में आए थे।

आनंद मोहन वर्तमान में 1995 में गोपालगंज के जिला मजिस्ट्रेट (DM) जी कृष्णैया की मॉब लिंचिंग के केस में उम्र कैद की सजा काट रहे हैं। साल 1994 और 1996 में वैशाली लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधि कर चुकी उनकी पत्नी लवली आनंद आरजेडी में शामिल होने के लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के आवास पर पहुंची और पार्टी में शामिल हो गईं। यहां उन्होंने राज्य के सीएम और जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार पर विश्वासघात का आरोप लगाया।

उन्होंने बताया कि ‘इस साल जनवरी में महाराणा प्रताप की जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में नीतीश ने कानूनी सलाह लेकर आनंद नोहन की ‘मदद’ करने के संकेत दिए थे। तब नीतीश ने आनंद मोहन को एक पुराने सहयोगी के रूप में संदर्भित भी किया था।’ आनंद मोहन 1990 के दशक में समता पार्टी के साथ नीतीश के साथ थे। नवंबर 2005 में नीतीश के मुख्यमंत्री बनने के बाद मोहन जेडीयू में शामिल हो गए थे।

आरजेडी में शामिल होने के बाद लवली आनंद ने कहा कि खुले मन से हम लोग आरजेडी में आए हैं क्योंकि प्रदेश की नीतीश सरकार ने धोखा देने का काम किया है। पुरूषार्थियों को जेल भेजकर शासन चलाने वालों को जनता जवाब देगी। उन्होंने आगे कहा कि नीतीश कुमार के काम और शब्द मेल नहीं खाते हैं। लवली आनंद के आरजेडी में शामिल होने के बाद उनके बेटे के भी राजनीति के क्षेत्र में उतरने की अटकलें लगाई जानी शुरू हो गई हैं।

उल्लेखनीय है कि इसी तरह आरएलएसपी के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी ने सोमवार को लालू प्रसाद की पार्टी का दामन थाम लिया। आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के राजनीतिक उत्तराधिकारी माने जाने वाले उनके छोटे पुत्र तेजस्वी यादव ने भूदेव को अपनी पार्टी की सदस्यता आरएलएसपी के संस्थापक उपेंद्र कुशवाहा के दिल्ली से लौटने के कुछ देर बाद दिलाई। कुशवाहा के एडीए में वापसी को लेकर भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ मुलाकात होने की चर्चा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रक्षा खरीद प्रक्रिया में हुआ बदलाव, लीज पर लिए जा सकेंगे सैन्य साजो-सामान, तीनों सेनाओं को मिलेगा फायदा
2 Unlock 5.0 Guidelines HIGHLIGHTS: ओडिशा ने जारी की गाइडलाइंस, सूबे में 31 अक्टूबर तक सभी धार्मिक स्थल बंद
3 बाबरी विध्वंस केस: ‘जो भी फैसला हो, बेल नहीं लूंगी’, उमा का BJP चीफ से सवाल- ऐसी स्थिति में टीम में रखेंगे?
ये पढ़ा क्या?
X