ताज़ा खबर
 

गणतंत्र दिवस परेडः मोटरसाइकिल पर ‘सीमा भवानी’ की नायाब प्रस्तुति ने नहीं थमने दी तालियों की गड़गड़ाहट

’सीमा सुरक्षा बल की 113 महिलाओं ने मोटरसाइकिलों पर हैरतअंगेज करतब दिखाकर रचा इतिहास, ’यह टुकड़ी पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुई है

Author नई दिल्ली | January 27, 2018 9:35 AM
सीमा भवानी’ ने 350 सीसी की 26 रायल एनफील्ड मोटरसाइकिलों पर सवार होकर एरोबेटिक्स व अन्य कलाबाजी में अपना कौशल दिखाया। चलती मोटरसाइकिल पर सधे संतुलन की नायाब प्रस्तुति ने तालियों की गड़गड़ाहट को थमने नहीं दिया।

राजपथ पर शुक्रवार को गणतंत्र दिवस समारोह में न केवल उभरती महिला ताकत बल्कि दक्ष महिला शक्ति का परिचय मिला। देश की पहली पूर्णकालिक महिला रक्षामंत्री की मौजूदगी में यहां निकली झांकियों में जिस एक टुकड़ी ने सबका दिल जीत लिया वह रही बीएसएफ की 106 महिला बाइकर्स की टुकड़ी ‘सीमा भवानी’। समारोह देख कर लौट रहे देसी-विदेशी मेहमानों में भी हर ओर इसी टुकड़ी की चर्चा रही। ‘सीमा भवानी’ ने 350 सीसी की 26 रायल एनफील्ड मोटरसाइकिलों पर सवार होकर एरोबेटिक्स व अन्य कलाबाजी में अपना कौशल दिखाया। चलती मोटरसाइकिल पर सधे संतुलन की नायाब प्रस्तुति ने तालियों की गड़गड़ाहट को थमने नहीं दिया। लद्दाख क्षेत्र में बीएसएफ की सब इंस्पेक्टर स्टैंजीन नॉरयांग (28) की अगुआई में महिला बाइकर्स ने पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय सैन्य शक्ति और सांस्कृतिक दिलेरी का प्रदर्शन किया।

जहां समारोह में अतिथियों की मेजबानी में लगीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण उन्हें परेड की बारीकियां व झांकियों की खासियतें बता रही थीं वहीं गणतंत्र दिवस की परेड में सीमा सुरक्षा बल की महिला बाइकर्स इतिहास रच रही थीं। मोटरसाइकिलों पर साहसिक करतब दिखाने वाली यह टुकड़ी पहली बार गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बनी है। शुक्रवार को फोर्स की 113 महिलाओं ने मोटरसाइकिलों पर 16 तरह के हैरतअंगेज स्टंट और एक्रोबेटिक्स दिखाए। इस महिला टुकड़ी को ‘सीमा भवानी’ नाम दिया गया है। इनके करतबों में अहम थे चलती मोटरसाइकिल पर मोर व मछली की आकृति बनाना और मोटरसाइकिल पर ही योग क्रिया करके दिखाना।

इसके अलावा पिरामिड बना कर एक बाइक पर सवार होकर दुश्मनों के दांत खट्टे करने को मुस्तैद सात महिला जांबाजों की प्रस्तुति को देख दर्शक दीर्घा में बैठे विदेशी पत्रकार खुशी से देर तक तालियां बजाते रहे। एक पत्रकार चित्रा ने कहा कि हमें भारतीय महिलाओं के एक और शक्तिशाली रूप का परिचय मिला। अंत में सात बाइक पर 29 महिलाकर्मियों द्वारा एक समान रफ्तार व संतुलन का नायाब नमूना पेश किया गया, जिसे देख कर हर कोई रोमांचित था। इसके साथ ही माइक पर उद्घोषणा की बाकी पेज 8 पर उङ्मल्ल३्र४ी ३ङ्म स्रँी 8
जा रही थी कि कृपया आप इस स्टंट को न आजमाएं। यह अदम्य साहस, धैर्य व प्रशिक्षण का कार्य है।

नौसेना की झांकी में महिलाकर्मियों की ओर से नाविका सागर परिक्रमा को दर्शाया गया वही वायु सेना की झांकी में तीन महिला वायुसेना अधिकारी फ्लाइट लेफ्टिनेंट चंदा, फ्लाइट लेफ्टिनेंट अदिति बाली व फ्लाइट लेफ्टिनेंट अमरदीप कौर की सशक्त मौजूदगी दिखी। समारोह के दौरान राजपथ पर इसके सहित समेत कुल छह मार्चिंग दस्तों में महिला शक्ति की सशक्त मौजूदगी नजर आई। इस बार गणतंत्र दिवस समारोह में देश की महिला सैन्यशक्ति ने हर मोर्चे पर यह साफ संदेश दिया कि हम किसी से कम नहीं, आसमां हो या जमीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App