ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी के क़रीबी रहे पूर्व IAS अधिकारी को यूपी बीजेपी में बड़ी जिम्मेदारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाने वाले पूर्व नौकरशाह एके शर्मा को उत्तर प्रदेश में बीजेपी का उपाध्यक्ष बनाया गया है, जहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं।

अरविंद कुमार शर्मा को यूपी बीजेपी का उपाध्यक्ष बनाया गया है।(एक्सप्रेस फोटो)।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाने वाले पूर्व नौकरशाह एके शर्मा को उत्तर प्रदेश में बीजेपी का उपाध्यक्ष बनाया गया है, जहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। हफ्तों से अटकलें लगाई जा रही थीं कि उत्तर प्रदेश में विधान परिषद के सदस्य और भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी शर्मा को यूपी में मंत्री बनाया जाएगा। उन्हें इस साल की शुरुआत में COVID-19 के खिलाफ लड़ाई की निगरानी के लिए पीएम मोदी के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी भेजा गया था। बता दें कि शर्मा का संबंध यूपी के मऊ से है।

शर्मा को यूपी में मंत्री बनाए जाने की बात पिछले महीने उन अटकलों के बाद शुरू हुई थी जिनमें कहा गया था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी सरकार द्वारा महामारी से निपटने के लिए दिल्ली में भाजपा नेतृत्व के साथ परेशानी में पड़ सकते हैं। हालांकि बीजेपी ने यूपी के नेतृत्व में किसी भी तरह के बदलाव से इनकार किया है। ये साफ है कि भाजपा उत्तर प्रदेश का चुनाव मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में और स्वतंत्र देव सिंह के राज्य अध्यक्ष के रूप में लड़ेगी।

इससे पहले भाजपा नेता बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह को इस महीने की शुरुआत में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की सिफारिश पर यूपी भेजा गया था। टीम ने मुख्यमंत्री, पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, मंत्रियों और विधायकों से मुलाकात की और केंद्रीय नेतृत्व से फीडबैक लिया। सूत्रों ने बताया कि दोनों नेता एक बार फिर यूपी जा रहे हैं। नेता तीन दिवसीय दौरे पर सोमवार को लखनऊ में रहेंगे और शासन और संगठनात्मक मामलों के मुद्दों पर बैठक करेंगे।

सूत्रों ने बताया कि कथित तौर पर योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में फेरबदल के खिलाफ एक निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा नेतृत्व ने केंद्र में पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में यूपी के एक दलित सांसद को मंत्री के रूप में नियुक्त करने की सिफारिश की है, और यूपी में एक जाट नेता को एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जा सकती है।

11 जून को, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली का दौरा किया था और 24 घंटे के अंतराल में पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा से मुलाकात की थी। लखनऊ और दिल्ली में बैठकें तब हुई जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने कथित तौर पर चुनावों से पहले यूपी सरकार के बारे में चिंता व्यक्त की, जिसका असर 2024 के राष्ट्रीय चुनाव पर भी पड़ेगा।

Next Stories
1 राकेश टिकैत बोले, उत्तर प्रदेश में इनको निपटाएंगे, ये नहीं तो 2024 में दूसरी सरकार वापस लेगी कानून
2 7th Pay Commission: सरकार का न्यूनतम वेतन तय करने में देरी का कोई इरादा नहीं : श्रम मंत्रालय
3 नेहरू के कहने पर गए थे PAK, देखी थीं कई पीढ़ियां, जानें- मोदी पर क्या थे मिल्खा के विचार?
ये पढ़ा क्या?
X