ताज़ा खबर
 

पनपने वाला है बड़ा श्रमिक संकट? बेबस मजदूरों के पलायन से घबराईं सरकारें, गुजारिश कर बोलीं- चालू हो रहे काम, न लौटें घर

शनिवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपील करते हुए कहा- उद्योग शुरू हो गए हैं, जो नहीं खुले हैं वो भी कल से शुरू हो जाएंगे, इसलिए मैं प्रवासी श्रमिकों से अनुरोध करता हूं कि आप अभी अपने घर न जाएं, आपको यहां कोई परेशानी नहीं आएगी।

COVID-19 और Lockdown के बीच बस की छत पर सवार होकर गृह राज्यों के लिए रवाना होते प्रवासी मजदूर। (फोटोः पीटीआई)

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच देश में बड़ा श्रमिक संकट पैदा हो सकता है। ऐसी आशंका इसलिए, क्योंकि काम व पैसों के अभाव में प्रवासी मजदूर, श्रमिक और कामगार गृह राज्यों को लौट रहे हैं। पहले पैदल, फिर ट्रक, साइकिल व अन्य वाहनों (सरकारी बसें भी) से, जबकि अब सरकार द्वारा चलाई गई खास ट्रेनों (श्रमिक ट्रेन) से इन्हें घर पहुंचाया जा रहा है।

हालांकि, चौपट काम-धंधे के माहौल के बीच एकदम से इनका पलायन राज्य सरकारों के लिए चिंता का सबब बन रहा है। कुछ सूबों में तो सरकारों ने तो इन श्रमिकों से गुजारिश कि वे कहीं न जाएं। परेशान न हों, क्योंकि उनके खाने-पीने से लेकर रहने और काम का प्रबंध वहां की सरकार करेगी। फिर भी मजदूरों के मन में घर कर चुका असुरक्षा का भाव उन्हें घर लौटने पर मजबूर कर रहा है।

COVID-19 in India LIVE Updates

शनिवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपील करते हुए कहा- उद्योग शुरू हो गए हैं, जो नहीं खुले हैं वो भी कल से शुरू हो जाएंगे, इसलिए मैं प्रवासी श्रमिकों से अनुरोध करता हूं कि आप अभी अपने घर न जाएं, आपको यहां कोई परेशानी नहीं आएगी।

Bihar Coronavirus LIVE Updates

इसी बीच, कर्नाटक और तेलंगाना में भी राज्य सरकारों ने पलायन करने वाले ऐसे लोगों से अपील की कि वे जहां हैं, वहीं बने रहे। कर्नाटक सीएम बीएस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा था- हमने नियोक्ताओं से अपील की है कि वे अपने कर्मचारियों को सैलरी दें। मेरा सभी मजदूरों से निवेदन है कि वे पलायन न करें।

वहीं, तेलंगाना सरकार ने भी अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि वे ऐसे मजदूरों को यकीन दिलाएं और सुनिश्चित करें कि लोग जहां हैं, वहीं रहें। दरअसल, एक्सपर्ट्स और विश्लेषकों की मानें तो प्रवासी मजदूरों पर कई मायनों में अर्थव्यवस्था निर्भर करती है। अगर इनमें से 50 फीसदी भी गांव-घर लौट गए तो सीधे तौर पर इकनॉमी पर बुरा असर पड़ेगा।

पंजाब के उद्योगों को प्रवासी मजदूरों के ‘पलायन’ की आशंका: केंद्र द्वारा फंसे हुए मजदूरों को उनके घर वापस जाने की अनुमति देने के बाद पंजाब में उद्योगों को राज्य से प्रवासी मजदूरों के ‘‘पलायन’’ की आशंका सता रही है। उद्योग प्रतिनिधि इस बात को लेकर चिंतित हैं कि यदि मजदूर अपने मूल स्थानों पर वापस चले जाते हैं तो संयंत्रों कैसे चालू होंगे। यूनाइटेड साइकिल एंड पार्ट्स मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डी एस चावला ने शनिवार को कहा, ‘‘हमें यह सुनकर दुख हुआ कि सरकार ने प्रवासी श्रमिकों को उनके घर वापस जाने की अनुमति दी है। यदि सरकार चाहती है कि हम अपनी इकाइयों को फिर शुरू करें, तो यह कैसे संभव हो सकता है।’’

Rajasthan Coronavirus Live Updates

उन्होंने कहा कि राज्य में जो भी प्रवासी मजदूर हैं, वे अपने मूल स्थानों पर लौट जाएंगे, क्योंकि सरकार ने उन्हें भेजने के लिए विशेष रेलगाड़ी चलाई है। चावला ने कहा, ‘‘ जब प्रवासी मजदूर यह जानेंगे कि रेलगाड़ियों ने उन्हें ले जाना शुरू कर दिया है, तो जिन लोगों ने वापस जाने की योजना नहीं बनाई है, वे भी निश्चित रूप से राज्य से बाहर चले जाएंगे।’’

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कर्नाटक: तब्लीगी जमात पर ट्वीट कर नोटिस पाने वाले IAS अफसर बोले- नहीं कर सकता हर किसी को खुश, दूंगा जवाब
2 VIDEO: लॉकडाउन में फंसे मजदूर सीमेंट मिक्सर टैंक में छिप महाराष्ट्र से आ रहे थे लखनऊ, धराने पर FIR
3 भारत में हुआ है COVID-19 में ‘म्यूटेशन’? ICMR लगाएगी पता