भोपाल के राशिद मियां ने आठ मासूमों को बचाया पर अपने भतीजे को नहीं बचा सके; कहा- सोचा था मेरे बच्चों को अल्लाह बचा लेगा

बता दें कि राशिद खान की बहन इरफाना भोपाल के गौतम नगर की रहने वाली हैं। शादी के 12 साल बाद सामान्य डिलीवरी हुई थी। जन्म के समय बच्चे को सांस लेने में दिक्कत थी।

Bhopal Hospital Fire, Madhya pradesh
राशिद खान ने आठ नवजातों को बचाया लेकिन अपने भतीजे राहिल को नहीं बचा सके(फोटो सोर्स: PTI)।

ईराम सिद्दीकी

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित कमला नेहरू अस्पताल में लगी आग ने कई परिवारों में मातम पसार दिया। बता दें कि इस हादसे में चार मासूम बच्चों की जान गई और 36 नवजातों को बचाया गया है। आग लगने की इस घटना ने कई लोगों को ऐसा अनुभव दिया जिसे वो जीवनभर नहीं भूल पाएंगे।

इस भवायह हादसे में 8 मासूमों को बचाने वाले भोपाल के राशिद खान अपने भतीजे को नहीं बचा सके। राशिद खान की बहन इरफाना ने शादी के 12 साल बाद दो नवंबर को बच्चे को जन्म दिया था। लेकिन सात दिन बाद ही इस आग ने उसकी गोद उजाड़ दी। अपने भतीजे को दफनाने के बाद राशिद ने अपने आंसू रोकते हुए उस भयानक मंजर की कहानी बताई।

राशिद ने कहा कि उस रात वो घर पर खाना खा रहे थे कि तभी उनकी बहन इरफाना ने फोन पर अस्पताल में आग लगने की जानकारी दी। इरफाना काफी घबराई हुई थी। राशिद जब अस्पताल की तीसरी मंजिल पर स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) पहुंचे, तो देखा कि अफरा-तफरी का माहौल था। हताश डॉक्टर और नर्स नवजात बच्चों को लेकर वार्ड से बाहर ले जाने के लिए दौड़ रहे थे।

उस मंजर को याद करते हुए राशिद ने कहा कि उस अफरा-तफरी में वह अपने नवजात भतीजे की तलाश करने के बजाय, डॉक्टरों और नर्सों के साथ बचाव काम में लग गए। राशिद ने कहा कि मेरे मन ख्याल आया कि अगर मैं इन मासूम बच्चों की जान बचा लूंगा, तो अल्लाह मेरे भी बच्चे की रक्षा करेंगे।

खान ने बताया कि उन्होंने आठ नवजातों को बचाया लेकिन अपने भतीजे राहिल को वो नहीं बचा सके। उन्होंने कहा कि वहां कमरा धुएं से भरा हुआ था लेकिन आग की लपटें कम थीं। हमने तारों को काटना शुरू कर दिया, बिजली से चल रहे उपकरणों को बाहर निकाला और बच्चों को दूसरे वार्ड में ले गए।

उन्होंने बताया कि इस भयानक हादसे के चलते हड़बड़ी में, मैंने अपने भतीजे की तलाश नहीं की। आठ बच्चों को बचाने के बाद, जब मुझे पता चला कि सभी शिशुओं को वार्ड से निकाल लिया गया है, तो मैंने राहत की सांस ली। इसके करीब 30 मिनट बाद मैंने अपने भतीजे की तलाश शुरू की। तड़के 3 बजे मुझे मुर्दाघर में पता करने के लिए कहा गया। बता दें कि राशिद खान को वहां अपने भतीजे की लाश मिली।

राशिद खान की बहन इरफाना भोपाल के गौतम नगर की रहने वाली हैं। शादी के 12 साल बाद सामान्य डिलीवरी हुई थी। जन्म के समय बच्चे को सांस लेने में दिक्कत थी। जिसके चलते उसे कमला नेहरू चिल्ड्रेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बता दें कि इरफाना के साथ-साथ अस्पताल की आग ने तीन और घरों के चिराग बुझा दिए हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
और तल्ख हो सकते हैं केंद्र व सपा सरकार के रिश्ते
अपडेट