ताज़ा खबर
 

भोपाल गैस मामले में फिर अदालत में पेश नहीं हुई डॉव केमिकल

1984 में हुए भोपाल गैस हादसे के मामले में अमेरिकी केमिकल कंपनी डॉव भोपाल जिला अदालत में लगातार तीसरी बार भी पेश नहीं हुई..

Author भोपाल | December 20, 2015 23:19 pm
भोपाल में बंद पड़ा यूनियन कार्बाइड का कारखाना। (रॉयटर्स फोटो)

1984 में हुए भोपाल गैस हादसे के मामले में अमेरिकी केमिकल कंपनी डॉव भोपाल जिला अदालत में लगातार तीसरी बार भी पेश नहीं हुई। 1984 की दो और तीन दिसंबर की दरम्यानी रात यूनियन कार्बाइड कारपोरेशन (यूसीसी) के भोपाल स्थित संयंत्र में हुए गैस रिसाव हादसे में 25,000 लोगों की मौत हो गई थी और लाखों लोग प्रभावित हुए थे। इस कारखाने की वर्तमान मालिक कंपनी डॉव भोपाल गैस हादसे मामले में जिला अदालत के समन की लगातार अवहेलना कर रही है।

भोपाल गैस पीड़ित संगठनों की दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी राजेश नंदेश्वर ने शनिवार को डॉव को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए इस मामले में अगली सुनवाई अगले साल 13 जुलाई को निर्धारित की है। सीबीआइ के वकील अजय कुमार ने अदालत को बताया कि भारत के विदेश मंत्रालय के जरिए डॉव केमिकल को समन भेजे गए हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिकी न्याय विभाग को इससे संबंधित कुछ सवाल थे जिनका जवाब दिया गया है।

भोपाल ग्रुप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन (बीजीआइए) की ओर से सिंह ने अदालत में आवेदन दायर कर मांग की है कि डॉव केमिकल के खिलाफ एकपक्षीय कार्रवाई की जाए। उसके खिलाफ अदालत की अवमानना की कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही भारतीय दंड संहिता की धारा 174 और धारा 212 के तहत प्राथमिकी दर्ज की जाए। बीजीआइए ने अपील की है कि यूसीसी के खिलाफ भी आपराधिक मुकदमा शुरू किया जाए।

इस बीच, भोपाल गैस पीड़ितों के पांच संगठनों ने भोपाल जिला न्यायालय में चल रहे मुकदमे में डॉव केमिकल का बचाव करने के प्रयासों के लिए अमेरिकी प्रशासन की निंदा की है। भोपाल गैस पीड़ित महिला स्टेशनरी कर्मचारी संघ की प्रमुख रशीदा बी और भोपाल गु्रप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन के संयोजक सतीनाथ सारंगी और रचना ढींगरा ने कहा कि भोपाल जिला अदालत के नोटिस की लगातर तीसरी बार अवहेलना कर डॉव केमिकल अदालत में हाजिर नहीं हुआ है।

डॉव-कार्बाइड के खिलाफ बने संगठन की साफरीन खान, भोपाल गैस पीड़ित महिला-पुरुष संघर्ष मोर्चे के नवाब खान और भोपाल गैस पीड़ित निराश्रित पेंशनभोगी संघर्ष मोर्चे के अध्यक्ष बालकृष्ण नामदेव ने कहा कि अमेरिकी न्याय विभाग ने सीबीआइ को जानकारी दी है कि डॉव केमिकल को नोटिस नहीं देने का फैसला किया गया है क्योंकि डॉव केमिकल भोपाल गैस हादसे के लिए जिम्मेदार नहीं है।

भोपाल ग्रुप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन संगठन के वकील अवि सिंह ने बयान में कहा कि अमेरिकी न्याय विभाग की ओर से डॉव केमिकल को नोटिस नहीं भेजने का फैसला अपराधों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए स्थापित आपसी कानूनी सहायता संधि के सिद्धांतों के खिलाफ है। सिंह ने बताया कि डॉव केमिकल ने अपनी स्वयं की वेबसाइट में अदालत के नोटिस का जिक्र किया है इसलिए डॉव को और नोटिस भेजने की जरूरत नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App