ताज़ा खबर
 

‘साध्वी प्रज्ञा के दिमाग से पाकिस्तान का सफाया करना चाहती होगी मोदी सरकार’, कमल नाथ के मंत्री का बड़ा बयान

लोकसभा सचिवालय की तरफ से बुधवार (20 नवंबर) को जारी बुलेटिन के अनुसार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) की अध्यक्षता वाली रक्षा मामलों संबंधी संसदीय समिति की 21 सदस्यीय समिति में प्रज्ञा को शामिल किया गया है।

बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा। (Photo-Indian Express)

भोपाल से बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Bhopal MP Sadhvi Pragya) पर मध्य प्रदेश की कमल नाथ सरकार (MP CM Kamal Nath) के वरिष्ठ मंत्री गोविंद सिंह ने चुटकी लेते हुए बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा, ‘हो सकता है साध्वी प्रज्ञा के दिमाग का इस्तेमाल कर बीजेपी के नेतृत्व वाला एनडीए का इरादा पाकिस्तान का सफाया करने का हो।’ सिंह का यह बयान साध्वी प्रज्ञा को डिफेंस से जुड़ी एक समिति में शामिल किए जाने के बाद सामने आया।

‘बीजेपी की कथनी और करनी में फर्क’: गोविन्द सिंह मध्य प्रदेश के सामान्य प्रशासन मंत्री हैं। उन्होंने रक्षा मामलों से संबंधित एक संसदीय समिति में बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा को शामिल किए जाने पर तंज कसा। बता दें कि साध्वी प्रज्ञा मालेगांव बम धमाकों (Malegaon Bomb Blast Case) की आरोपी हैं। भिंड जिले के लहार विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे सिंह से जब पूछा गया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक तरफ कहते हैं कि वह उन्हें माफ नहीं कर पाएंगे और दूसरी तरफ प्रज्ञा को इतनी बड़ी जिम्मेदारी दे दी गई है, तो इस पर उन्होंने कहा कि बीजेपी की ‘कथनी और करनी’ में फर्क रहता है।

Hindi News Today, 22 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

लोकसभा सचिवालय की तरफ से बुधवार (20 नवंबर) को जारी बुलेटिन के अनुसार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) की अध्यक्षता वाली रक्षा मामलों संबंधी संसदीय समिति की 21 सदस्यीय समिति में प्रज्ञा को शामिल किया गया है। 2008 के मालेगांव बम धमाकों की आरोपी साध्वी प्रज्ञा फिलहाल जमानत पर हैं। उन्होंने इस साल हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को भोपाल लोकसभा सीट पर करारी मात दी थी।

विवादित बयानों से साध्वी का नाताः अपने विवादित बयानों के लिये सुर्खियों में रहने वालीं प्रज्ञा ने इस साल हुए लोकसभा चुनाव के दौरान महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को ‘देशभक्त’ बताया था, जिस पर काफी बवाल हुआ था। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कहा था कि वह इस बयान के लिए उन्हें कभी मन से माफ नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा लोकसभा चुनाव के दौरान ही उन्होंने बयान दिया था कि महाराष्ट्र के तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमलों (26/11 Mumbai Attack) में उनके “श्राप” के कारण मारे गए थे।

Next Stories
1 राम-कृष्ण के इतिहास पर AAP नेता ने उठाए सवाल! कुमार विश्वास बोले- आत्ममुग्ध बौने के मंत्री, विधानसभा चुनाव में मिल जाएगा जवाब
2 Maharashtra Government Formation: संजय राउत बोले- इंद्र का सिंहासन मिल जाए तो भी बीजेपी से गठबंधन नहीं करेगी शिवसेना
3 जज ने गलत कानून के तहत सुना दिया फैसला, हाईकोर्ट ने तलब किया तो जवाब मिला- मेरे पहले वाले ने सुनाया, मुझे बुलाने का क्या मतलब!
ये पढ़ा क्या?
X