ताज़ा खबर
 

वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारियों पर अरुंधति रॉय बोलीं, ‘इमरजेंसी की घोषणा होने वाली है’

पुणे पुलिस ने मंगलवार को महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में देश के पांच राज्यों में करीब आठ जगहों पर छापे मारे। पुलिस ने इस दौरान वामपंथी विचारक प्रो.वारवरा राव, अरुण परेरा, गौतम नवलखा, वर्नन गोंजाल्वेज और सुधा भारद्वाज समेत छह लोग गिरफ्तार किए गए।

मशहूर लेखिका अरुंधति रॉय। (एक्सप्रेस फोटोः रेणुका पुरी)

जानी-मानी लेखिका अरुंधति रॉय ने मंगलवार (28 अगस्त) को देश में जगह-जगह वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी की निंदा की है। उन्होंने कहा है कि यह स्थिति देखकर लगता है कि देश में इमरजेंसी की घोषणा होने वाली है। वहीं, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के वरिष्ठ नेता प्रकाश करात ने इन छापेमारी को लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमले जैसा करार दिया।

आपको बता दें कि पुणे पुलिस ने मंगलवार को महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले में देश के पांच राज्यों में करीब आठ जगहों पर छापे मारे। पुलिस ने इस दौरान वामपंथी विचारक प्रो.वारवरा राव, अरुण परेरा, गौतम नवलखा, वर्नन गोंजाल्वेज और सुधा भारद्वाज समेत छह लोग गिरफ्तार किए गए। पुलिस ने इससे पहले इस मामले में एक जनवरी को नौ कार्यकर्ताओं के यहां छापे मारे थे, जिसमें से पांच को गिरफ्तार किया गया था।

लेखिका ने वामपंथी विचारकों की हालिया गिरफ्तारी पर बताया, “दिनदहाड़े लोगों के कत्ल करने वालों और मॉब लिंचिंग करने वालों की जगह पर वकीलों, कवियों, लेखकों, दलित अधिकारों के लिए लड़ने वाले कार्यकर्ताओं और विचारकों के घर पर ये छापेमारी हो रही हैं। यह हमें दर्शाता है कि भारत कहां जा रहा है। हत्यारों को सम्मानित किया जाएगा और उसका जश्न भी मनेगा। पर न्याय और हिंदू बहुसंख्यकवाद के खिलाफ जो बोलेगा, वह अपराधी बनाया जा रहा है।”

लेखिका आगे चेताते हुए बोलीं, “यह आगामी चुनावों के लिए की जा रही तैयारी है। लेकिन हम ऐसा होने नहीं देंगे। हमें इसके खिलाफ एक साथ आना पड़ेगा। अन्यथा हम हर किस्म की आजादी खो देंगे, जिस पर हमें नाज होता है। यह बिल्कुल इमरजेंसी की घोषणा होने वाली स्थिति जैसा है।”

उधर, करात ने एएनआई से बातचीत में कहा, “यह (गिरफ्तारियां) लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमले जैसा है। हमारी मांग है कि इन लोगों पर लगाए गए सभी मामले वापस लिए जाएं और जल्द से जल्द उन्हें रिहा किया जाए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App