ताज़ा खबर
 

Ambedkar Jayanti: मायावती ने पीएम मोदी से कहा- नीयत साफ है तो एससी-एसटी एक्‍ट पर अध्‍यादेश लाएं

Ambedkar Jayanti 2018: आंबेडकर का जीवन संघर्षों से भरा रहा था। माता-पिता की 14वीं संतान आंबेडकर बचपन में अनाथ हो गए

1935-36 में अंबेडकर ने ‘वेटिंग फॉर ए वीजा’ नाम से 20 पेज की ऑटोबायोग्राफी लिखी। इसका इस्तेमाल कोलंबिया यूनिवर्सिटी एक टेक्स्ट बुक के तौर पर करती है।

Ambedkar Jayanti: भारत के संविधान निर्माता डॉक्टर भीम राव आंबेडकर की आज यानी 14 अप्रैल को 127वीं जयंती है। आंबेडकर की जयंती पर देशभर में हर राजनीतिक दल अलग-अलग तरीकों से उन्हें श्रद्धांजलि देने की कोशिशों में जुटा है। देशभर की सभी पार्टियों के बीच बाबा साहब के प्रति सम्मान जताने की होड़ सी मची है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती ने आंबेडकर जयंती के मौके पर शनिवार को कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीयत साफ है तो उन्हें अदालत के फैसले का इंतजार करने के बजाए एससी-एसटी अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाकर अध्यादेश जारी करना चाहिए। बाबा साहेब आंबेडकर की जयंती के मौके पर मायावती ने एक बयान जारी कर कहा कि बाबा साहेब के नाम से योजनाएं शुरू करने और उनसे जुड़े स्मारकों के उद्धघाटन से दलितों का विकास नहीं होने वाला है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं मोदीजी से कहना चाहती हूं कि अगर आपकी नीयत साफ है तो आपको अदालत के फैसले का इंतजार करने के बजाए एससी-एसटी अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाकर अध्यादेश जारी करना चाहिए। सरकार ने इस अधिनियम को प्रभावी बनाने के लिए अगर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद अध्यादेश जारी कर दिया होता तो दलितों को भारत बंद नहीं करना पड़ता।”

Ambedkar Jayanti 2018 Updates:

– भाजपा पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा, “आज देशभर में दलितों का उत्पीड़न किया जा रहा है। दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान एससी-एसटी अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन करनेवालों पर बड़े पैमाने पर कार्रवाई की गई। भाजपा को बाबा साहेब के अनुयायियों के उत्थान की दिशा में ईमानदारी से काम करना चाहिए, तभी वह दलितों के दिल में कुछ जगह बना सकती है।”

– छत्तीगढ़ में एक सभा को संबोधित करते हुए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगर वह देश के प्रधानमंत्री है तो यह भीम राव आंबेडकर के योगदान की वजह से है।

– दिल्ली के पंडित दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर स्थित भाजपा कार्यलय में पार्टी अध्यक्ष अमित ने डॉक्टर भीमराव आंडबेकर को श्रद्धांजलि दी।

– मायावती का मोदी सरकार पर हमला- बाबा साहब के नाम पर योजनाओं से नहीं होगा दलितों का विकास।

– आंबेडकर जयंती पर आयोजित अहमदाबाद के एक कार्यक्रम में हंगामा। विधायक जिग्नेश मेवानी के समर्थकों ने भाजपा विधायक और सांसदों को आंबेडकर की मूर्ति को माला पहनाने से रोकने की कोशिश की।

– सीतुपर के बाद अब ग्रेटर नोएडा में आंबेडकर की मूर्ति तोड़ी गई है। घटना शुक्रवार की बताई जाती है, जहां रिछपाल गढ़ी में संविधान निर्माता की मूर्ति तोड़ दी गई। हालात के देखते हो हुए घटना स्थल पर सुरक्षा दस्ता तैनात किया गया है। एसपी (देहात) सुनीती सिंह ने कहा है कि अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कियागया है।

– उत्तर प्रदेश के सीतापुर में अराजक तत्वों ने आंबेडकर की मूर्ति तोड़ दी है। हालांकि मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए स्थानीय पुलिस प्रशासन ने मूर्ति ठीक करा दी है।

– भाजपा के प्रदेश महामंत्री विजय बहादुर पाठक ने ‘भाषा‘ को बताया कि उनकी पार्टी आंबेडकर जयन्ती के मौके पर प्रदेश के सभी एक लाख 40 हजार बूथों पर कार्यक्रम आयोजित करेगी। इसके अलावा सभी जिला मुख्यालयों पर भी बड़े कार्यक्रम आयोजित होंगे।

– आंबेडकर जयंती पर कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि आंबेडकर मेमोरियल बनाने का फैसला यूपीए शासनकाल में लिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App