ताज़ा खबर
 

किसान नेता राकेश टिकैत को हत्या की धमकी, बिहार से आया फोन

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने बड़ा खुलासा किया है। टिकैत का कहना है कि उन्हें एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा जान से मारने की धमकी दी जा रही है। टिकैत का कहना है कि उन्हें बिहार से एक धमकी भरा फोन आया था।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: December 26, 2020 10:21 PM
rajesh tikait, kisan andolan, farm bill, farmer protest, BJP, amit shah, ghaziabad-crime,news,state,Ghaziabad Crime, Ghaziabad Crime News, new-delhi-city-general, delhi general, new-delhi-city-crime,jansattaभारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत को जान से मारने की धमकी मिली। (file)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन पिछले 31 दिनों से जारी है। इसी बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने बड़ा खुलासा किया है। टिकैत का कहना है कि उन्हें एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा जान से मारने की धमकी दी जा रही है। टिकैत का कहना है कि उन्हें बिहार से एक धमकी भरा फोन आया था।

किसान नेता ने बताया कि शनिवार शाम करीब पांच बजे उनके मोबाइल पर एक कॉल आई। कॉल करने वाले ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने इसकी अपने साथियों को जानकारी दी। टिकैत ने बताया कि यह फोन उन्हें बिहार से आया था, फोन पर एक शख्स कह रहा था कि तुम्हें मारने का प्लान है। उन्होने कहा “हालांकि, हमने गाजियाबाद के कप्तान को तहरीर दी है। पुलिस जांच कर रही है।”

इंदिरापुराम सीओ के अनुसार, मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और आरोपी की गिरफ्तारी के लिए टीम का गठन कर दिया गया है। इससे पहले दिल्ली पुलिस कमिश्नर एस. एन. श्रीवास्तव शनिवार शाम किसान आंदोलन के चलते सिंघु बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने कहा कि यहां कानून व्यवस्था की स्थिति सामान्य है। हम लोग सावधान हैं। स्थिति नियंत्रण में है। सुरक्षा बल पर्याप्त है।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रमुख हनुमान बेनीवाल ने आज किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए एनडीए का साथ छोड़ दिया। हनुमान ने कहा “केंद्र सरकार कृषि बिलों को वापिस न लेने पर अड़ी हुई है। ये तीनों बिल किसानों के खिलाफ हैं इसीलिए मैंने एनडीए छोड़ दी है, परन्तु कांग्रेस के साथ किसी प्रकार का गठबंधन नहीं करूंगा।”

बता दें कि सोनीपत में आंदोलनरत किसानों ने शुक्रवार को सभी टोल फ्री करा दिया था। सबसे पहले किसानों ने जीटी रोड पर भिगान के पास टोल फ्री कराया। केजीपी-केएमपी पर सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस बल तैनात रहा, लेकिन उन्होंने कहीं भी किसानों को नहीं रोका।

फरीदाबाद में किसान कुंडली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेस-वे के मौजपुर टोल को फ्री कराने के लिए पहुंचे। तिगांव सहायक पुलिस आयुक्त पृथ्वी सिंह के नेतृत्व में भारी पुलिस बल ने इन किसानों को हिरासत में ले लिया। सभी किसानों को बाद छोड़ दिया गया।

Next Stories
1 गांधी पर लिखी किताब का विमोचन करेंगे भागवत, राष्ट्रपिता को बता चुके हैं ‘कट्टर सनातनी हिंदू’
2 होशियारी से कीजिए सैनिटाइजर यूज, हाथ सैनिटाइज कर एक गलती की, परिवार के तीन लोग मार गए
3 पुराने भाजपाई यशवंत सिन्हा ने नरेंद्र मोदी को कहा प्रधान झूठा, लोगों ने दिया ये जवाब
ये पढ़ा क्या?
X