ताज़ा खबर
 

वाजपेयी की भतीजी पर बीजेपी का पलटवार, कहा- पूर्व पीएम की मौत पर कर रहीं राजनीति

मामले में भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली ने पत्रकारों से कहा कि करुणा शुक्ला कांग्रेस के साथ है और पूर्व में कांग्रेस के ही टिकट पर चुनाव भी लड़ चुकी हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बीते शुक्रवार (24 अगस्त, 2018) पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला पर पटलवार किया है। पार्टी ने कहा है कि पूर्व पीएम की भतीजी उनकी मौत पर राजनीति कर रही हैं। भाजपा का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पूर्व में करुणा शुक्ला ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी अटल की मौत पर राजनीतिकरण कर रही है। भाजपा 2019 के आम चुनाव में लाभ उठाने के लिए पूरे देश में अटल जी की अस्थियां ले जा रही है। अब मामले में भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली ने पत्रकारों से कहा कि करुणा शुक्ला कांग्रेस के साथ है और पूर्व में कांग्रेस के ही टिकट पर चुनाव भी लड़ चुकी हैं। उन्होंने कहा, ‘वह वाजपेयी की मौत का राजनीतिकरण करने की कोशिश कर रही हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।’

भाजपा प्रवक्ता ने आगे कहा, ‘हम अटल की कलश यात्रा को राजनीतिक इस्तेमाल के रूप में नहीं देखते। कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि भाजपा क्यों अटल जी के अस्थि कलश को देशभर में घुमा रही है। ऐसा अटल जी से पहले भी कई प्रधानमंत्रियों के साथ हुआ है। नेहरु और इंदिरा गांधी की अस्थियों को कई राज्यों में ले जाया गया था।’ नलिन कोहली के मुताबिक उन्हें लगता है कि यह लोगों को अपने प्रिय नेताओं को श्रद्धांजलि देने का एक अवसर है। यह कोई राजनीतिक मौका नहीं है। बता दें कि राजनीतिक पार्टियों के करीब सभी नेताओं और धार्मिक गुरुओं ने शिलांग के भाजपा मुख्यालय में पूर्व पीएम को श्रद्धांजलि दी।

वहीं अस्थि कलश यात्रा का बचाव करते हुए भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली ने कहा देश भर के विभिन्न राज्यों में वाजपेयी की अस्थि ले जाने का विचार उन लोगों के लिए एक अवसर था जो उन्हें प्यार करते थे और अब उन्हें श्रद्धांजलि देना चाहते हैं कि वह अब हमारे साथ नहीं है। ये इसी काम का एक मौका था। वाजपेयी लंबे समय तक भारत के गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे हैं। वह एक ऐसी व्यक्ति थे जिन्हें लोग पार्टी लाइन से अलग प्रेम करते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App