scorecardresearch

भारत बायोटेक को इंट्रानेजल वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी, स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी

भारत बायोटेक ने 5,000 लोगों पर क्लिनिकल ट्रायल किया है, जिसमे 50 फीसदी कोविशील्ड और 50 फीसदी कोवैक्सीन लगवाए हुए लोग शामिल हुए।

भारत बायोटेक को इंट्रानेजल वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी, स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी
सांकेतिक फोटो

भारत बायोटेक को इंट्रानेजल वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए डीसीजीआई से मंजूरी मिल गई है। भारत में कोरोना के लिए इस्तेमाल की जाने वाली यह भारत की पहली इंट्रानेजल वैक्सीन होगी। इसकी जानकारी खुद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दी। यह भारत में कोविड की पहली वैक्सीन होगी जो नाक के जरिए लगाई जाएगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट करते हुए बताया, ” COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत को सफलता। भारत बायोटेक के ChAd36-SARS-CoV-S COVID-19 (चिंपांज़ी एडेनोवायरस वेक्टरेड) रीकॉम्बिनेंट नेज़ल वैक्सीन को सीडीएससीओ द्वारा अनुमोदित किया गया है, जो आपातकालीन स्थिति में उपयोग के लिए 18+ आयु वर्ग में COVID-19 के खिलाफ प्राथमिक टीकाकरण के लिए है।”

स्वास्थ्य मंत्री ने आगे ट्वीट करते हुए लिखा, “यह कदम महामारी के खिलाफ हमारी सामूहिक लड़ाई को और मजबूत करेगा। भारत ने पीएम मोदी जी के नेतृत्व में COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में अपने विज्ञान, अनुसंधान एवं विकास और मानव संसाधन का उपयोग किया है। विज्ञान संचालित दृष्टिकोण और सबका प्रयास के साथ हम COVID-19 को हरा देंगे।”

बता दें कि वैक्सीन की खुराक नाक के माध्यम से दी जाती है। वैक्सीन को या तो एक विशिष्ट नाक स्प्रे के जरिए या एरोसोल डिलीवरी के माध्यम से इंजेक्ट किया जाता है। भारत बायोटेक ने पिछले महीने ही अपने इंट्रानेजल कोविड-19 वैक्सीन के लिए तीसरे चरण और बूस्टर खुराक का परीक्षण पूरा किया था। भारत बायोटेक ने कहा था कि इंट्रानेजल कोविड वैक्सीन के लिए दो अलग-अलग परीक्षण किए हैं। एक पहली डोज के रूप में और दूसरा बूस्टर डोज के रूप में।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक सार्स-सीओवी-2 जैसे कई वायरस आम तौर पर म्यूकोसा के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं। यह नाक में मौजूद एक ऊतक है। वायरस म्यूकोसल झिल्ली में मौजूद कोशिकाओं और अणुओं को संक्रमित करते हैं। ऐसे में नेजल शॉट के माध्यम से वायरस को शरीर में प्रवेश करने से पहले ही खत्म किया जा सकता है।

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 4,417 नए मामले सामने आने से संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़कर 4,44,66,862 हो गई है। संक्रमण के नए मामले पिछले तीन माह में सबसे कम हैं। संक्रमण से 23 और मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 5,28,030 हो गई है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 06-09-2022 at 03:17:26 pm