ताज़ा खबर
 

सैनिक बनना चाहता था 11 साल का मासूम, मां को सैल्यूट कर गया था ट्यूशन, फिर नहीं लौटा, हादसे से निकलीं दर्दनाक कहानियां

दिशु की मां ने कहा, 'ट्यूशन जाने से पहले उसने मुझे रिहर्सल करते हुए सलामी भी दी थी।' दिशु के साथ ही इस हादसे में 10 वर्षीय कीर्ति त्यागी की भी मौत हो गई। कीर्ति भी गणतंत्र दिवस समारोह में डांस करने वाली थी।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

भजनपुरा बिल्डिंग हादसे में जान गंवाने वाले 4 बच्चों में एक 11 साल का दिशु कुशवाहा भी शामिल है। दिशु गणतंत्र दिवस समारोह में सैनिक बनकर जाना चाहता था, इसके लिए उसने आर्मी की यूनिफॉर्म भी खरीद ली थी और रिहर्सल भी की थी। परिजन भी अपने बेटे को परफॉर्म करता देखने के लिए उत्साहित थे, लेकिन अचानक हादसा हुआ और उनका बेटा दुनिया छोड़ गया। शनिवार (25 जनवरी) की शाम को भजनपुरा में एक तीन मंजिला इमारत गिरी थी, इसी इमारत में दिशु कोचिंग पढ़ रहा था। मृतकों में एक टीचर भी शामिल है।

डांस की तैयारी कर रही थी कीर्तिः डांस की तैयारी कर रही थी कीर्तिः दिशु के पिता महिपाल सिंह ने कहा, ‘मेरा बेटा सेना में भर्ती होना चाहता था। वह बहुत प्रतिभाशाली था, हमेशा परीक्षा में पूरे नंबर लाता था। हमेशा उसके चेहरे पर मुस्कुराहट रहती थी।’ वहीं दिशु की मां ने कहा, ‘ट्यूशन जाने से पहले उसने मुझे रिहर्सल करते हुए सलामी भी दी थी।’ दिशु के साथ ही इस हादसे में 10 वर्षीय कीर्ति त्यागी की भी मौत हो गई। कीर्ति भी गणतंत्र दिवस समारोह में डांस करने वाली थी।

Hindi News Live Hindi Samachar 27 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कई बच्चे घायल हुएः सुभाष विहार की गली नंबर 17 में स्थित कीर्ति के घर पर उसके पिता विक्की त्यागी भी अपनी बेटी के लिए परफॉर्मेंस की यूनिफॉर्म लाए थे। कीर्ति ने अपनी चाची को डांस का वीडियो बनाने के लिए भी कहा था। इस हादसे में 9 वर्षीय कृष्णा की भी मौत हो गई। वहीं उमा भारती (6), बुशरा परवीन (11), सिद्रा परवीन (9), आरती (9), सौरभ (9) और नितिन (12) घायल हो गए।

थर्ड फ्लोर पर चल रहा था निर्माणः कृष्णा की मामी सावित्री देवी ने कहा, ‘बच्चे कैसे बच पाते? उन पर लोहे की गार्डर, एक हजार लीटर का पानी का टैंक समेत भारी-भरकम सामान गिर गए।’ एजुकेशन पॉइंट नाम का यह ट्यूशन सेंटर इस इलाके में काफी प्रसिद्ध है। इस कोचिंग के दो फ्लोर पर बच्चों के लिए जगह नहीं बची थी, इसीलिए संचालक तीसरी मंजिल पर भी निर्माण करवा रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कर लीजिए 500 रुपए देने की कोशिश- ये तस्वीरें शेयर कर शाहीन बाग प्रदर्शन को प्रायोजित कहने वालों को जवाब दे रहे लोग
2 विधानसभा से पारित प्रस्ताव महाभूल, कोई शक्ति कश्मीरी पंडितों को लौटने से नहीं रोक सकती : राजनाथ
3 उत्तर प्रदेश में बारिश का पूर्वानुमान, कश्मीर में सर्दी से राहत
ये पढ़ा क्या?
X