ताज़ा खबर
 

Bhaiyyu Maharaj: सामने आया सुसाइड नोट, महज चंद शब्दों में बता गए कि क्यों छोड़ रहे दुनिया

Bhaiyyu Maharaj Suicide Indore Latest News: हाईप्रोफाइल माने जाने वाले भैय्यू महाराज धार्मिक और सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने के लिए भी जाने जाते हैं। सद्गुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट उनके ही देखरेख में चलता है।

Bhaiyyu Maharaj Suicide Indore Latest News: भैय्यू जी महाराज का सुसाइड नोट।

मशहूर आध्यात्मिक गुरु भैय्यूजी माहाराज ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली है। भैय्यू जी महाराज ने मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में खुद को गोली मारा। उन्हें फौरन अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अभी तक घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है। फिलहाल उनकी मौत के बाद पुलिस को उनका सुसाइड नोट बरामद हुआ है। चंद लाइनों के इस सुसाइड नोट में भैय्यू जी महाराज बता गए हैं कि वह कितने तनाव में थे। भय्यूजी महाराज ने एक पन्‍ने के सुसाइड नोट में लिखा कि वो जिंदगी के तनाव से परेशान हो चुके हैं। सुसाइड नोट के अनुसार, ‘परिवार के दायित्व को संभालने के लिए किसी को वहां होना चाहिए। मैं बेहद परेशान होकर तनाव के साथ जा रहा हूं।’ बता दें कि मध्य प्रदेश में भैय्यू जी महाराज को राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त था। कुछ वक्त पहले ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा दिया था।

Bhaiyyu Maharaj Suicide Indore Latest News: भैय्यूजी का सुसाइड नोट।

1968 में जन्मे भैय्यू जी महाराज का असली नाम उदयसिंह देखमुख है। वह कपड़ों के एक ब्रांड के लिए कभी मॉडलिंग भी कर चुके हैं। भैय्यू महाराज का देश के दिग्गज राजनेताओं से संपर्क था। हालांकि वह शुजालपुर के जमींदार परिवार से ताल्लुक रखते थे। भैय्यू जी महाराज तब चर्चा में आए थे जब 2011 में अन्ना हजारे के अनशन को खत्म करवाने के लिए तत्कालीन केंद्र सरकार ने उन्हें अपना दूत बनाकर भेजा था। इसी के बाद ही अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था। इसके अलावा जब पीएम बनने के पहले गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मोदी सद्भावना उपवास पर बैठे थे। तब उपवास खुलवाने के लिए उन्होंने भय्यू महाराज को आमंत्रित किया था।

हाईप्रोफाइल माने जाने वाले भैय्यू महाराज धार्मिक और सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने के लिए भी जाने जाते हैं। सद्गुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट उनके ही देखरेख में चलता है। उनका मुख्य आश्रम इंदौर के बापट चौराहे पर है। पूर्व प्रेसिडेंट प्रतिभा पाटिल, पीएम नरेंद्र मोदी, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम विलासराव देशमुख, शरद पवार, लता मंगेशकर, उद्धव ठाकरे और मनसे के राज ठाकरे, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल भी उनके आश्रम आ चुके हैं।

Next Stories
1 ईस्टर्न पेरिफेरल को भी चोरों ने नहीं बख्शा, उद्घाटन के 15 दिनों में हुई करोड़ों की चोरी, टोटी तक निकाल ले गए लोग
2 27 साल जेल में रहकर भी नहीं हारा पेरारिवलन, मुरीद हुए कैदी, बाहर भी लोग ले रहे प्रेरणा
3 कांग्रेसी कराएं राहुल गांधी की शादी, तभी देख पाएंगे ‘विकास’, बोले बीजेपी के मंत्री
ये पढ़ा क्या?
X