ताज़ा खबर
 

IT रिटर्न को लेकर आपको तो नहीं आया इनकम टैक्स विभाग के नाम पर ऐसा मेल? हो जाएं सावधान

आईटी विभाग के एक अधिकारी का कहना है कि हमनें अपनी वेबसाइट पर एक अलर्ट भी जारी कर दिया है और टेक्स्ट मैसेज के द्वारा भी लोगों को इस ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में जानकारी दी जा रही है।

इन्कम टैक्स विभाग का कहना है कि उसकी तरफ से कभी भी लोगों से बैंक डिटेल्स के लिए मेल नहीं किया जाता है। (file photo)(प्रतीकात्मक तस्वीर)

इन दिनों लोग इन्कम टैक्स रिटर्न जमा करने में व्यस्त हैं क्योंकि इन्कम टैक्स जमा करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई नजदीक ही है। ऐसे में ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले लोग भी सक्रिय हो गए हैं। बता दें कि टैक्स जमा करने वाले लोगों को इन दिनों कुछ ईमेल मिले हैं, जो कि देखने में इन्कम टैक्स विभाग की ओर से भेजे गए सरकारी ईमेल लगते हैं। दरअसल इन फर्जी ईमेल्स में टैक्स जमा करने वाले लोगों से उनकी नेट बैंकिंग डिटेल्स की जानकारी मांगी जा रही है। जानकारी मिलने के बाद हैकरों द्वारा लोगों के बैंक अकाउंट हैक किए जा रहे हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के अनुसार, आईटी विभाग के एक अधिकारी का कहना है कि हमनें अपनी वेबसाइट पर एक अलर्ट भी जारी कर दिया है और टेक्स्ट मैसेज के द्वारा भी लोगों को इस ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में जानकारी दी जा रही है। अधिकारी का कहना है कि लोग ऐसे किसी भी संदिग्ध ईमेल का जवाब ना दें और अपनी बैंक अकाउंट या क्रेडिट कार्ड डिटेल्स भी किसी के साथ साझा ना करें क्योंकि हम किसी भी व्यक्ति से ऐसी कोई जानकारी नहीं मांगते हैं। व्हाट्सएप पर भी एक नोट सर्कुलेट किया गया है, जिसमें कहा गया है कि “जिन लोगों ने अपना आईटीआर भर दिया है, उन लोगों के लिए एक जरुरी सूचना है। दरअसल कुछ लोगों को ऐसे मैसेज मिले हैं, जिनमें कहा जा रहा है कि टैक्स कैलकुलेशन और रिफंड कैलकुलेशन में कुछ खराबी आ गई है। जिसके बाद रिफंड के लिए लोगों से उनकी बैंक डिटेल्स मांगी जा रही है। यदि आपने अपनी बैंक डिेटेल्स दीं तो आपका बैंक खाता हैक हो सकता है।”

HOT DEALS
  • Moto Z2 Play 64 GB Fine Gold
    ₹ 16230 MRP ₹ 29999 -46%
    ₹2300 Cashback
  • Honor 8 32GB Pearl White
    ₹ 14210 MRP ₹ 30000 -53%
    ₹1500 Cashback

मुंबई बेस्ड एक टैक्स रिटर्न प्रीपेयर सुषमा बंदेलकर का कहना है कि आईटीआर जमा करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई के नजदीक आते ही इस तरह के फ्रॉड काफी बढ़ गए हैं। सुषमा बंदेलकर के अनुसार, यदि आपको आईटी विभाग की तरफ से कोई रिफंड मिलना है तो उसके लिए आपसे रेक्टिफिकेशन फॉर्म भरवाया जाएगा और यह रिफंड एनईएफटी द्वारा आपके खाते में आएगा। इसलिए किसी के साथ भी अपनी बैंक डिटेल्स शेयर ना करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App