ताज़ा खबर
 

बेंगलुरुः कुंभ मेले में गई महिला बनी सुपरस्प्रेडर, लौटने के बाद 33 लोगों को किया संक्रमित

हरिद्वार में आयोजित किए गए कुम्भ मेले में शामिल होने वाली एक महिला अप्रैल के पहले सप्ताह में पहले तो खुद कोविड -19 संक्रमित हुईं और बाद में फिर बेंगलुरु में 33 और लोगों को संक्रमित किया।

हरिद्वार में कुंभ मेला आयोजित किया गया था। (पीटीआई)।

हरिद्वार में आयोजित किए गए कुम्भ मेले में शामिल होने वाली एक महिला अप्रैल के पहले सप्ताह में पहले तो खुद कोविड -19 संक्रमित हुईं और बाद में फिर बेंगलुरु में 33 और लोगों को संक्रमित किया। 67 वर्षीय महिला द्वारा संक्रमित किए गए लोगों में पश्चिम बेंगलुरु के स्पंदना हेल्थकेयर एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर के 13 मनोरोगी भी थे।

दरअसल, वृद्ध महिला की बहू,जो स्पंदना हेल्थकेयर की मनोचिकित्सक है, 13 मरीजों का इलाज कर रही थी जब उसे पता चला कि उसकी सास कोविड -19 पॉजिटिव पाई गई है। मनोचिकित्सक ने कुछ दिनों बाद खुद का टेस्ट कराया और वह भी संक्रमित पाई गईं लेकिन उन्हें कोई लक्षण नहीं था। इस बात के सामने आने के बाद, नंदिनी लेआउट के बीबीएमपी अधिकारियों ने मामले को अपने हाथों में लिया और संपर्क ट्रेसिंग की प्रक्रिया शुरू की। स्पंदन अस्पताल को मनोचिकित्सक के संपर्क में आए लोगों की टेस्टिंग करने के लिए कहा गया। अस्पताल के स्टाफ के दो सदस्य भी संक्रमित पाए गए। यहां तक कि महिला के परिवार के 18 लोग भी संक्रमित पाए गए।

नंदिनी लेआउट के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के एक बीबीएमपी चिकित्सा अधिकारी ने कुंभ मेले से लौटने वाली महिला को वायरस के फैलने के लिए जिम्मेदार ठहराया। महिला को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया और बाद में वह ठीक हो गई थी।

स्पंदना के प्रमुख डॉ महेश आर गौड़ा ने कहा कि लगभग 16 रोगियों और कर्मचारियों के संक्रमित पाए जाने के बाद अस्पताल को एक मंजिल को बंद करना पड़ा और अस्पताल को कोविड अस्पताल घोषित करना पड़ा।

उन्होंने आगे कहा कि संक्रमित लोगों का इलाज अस्पताल में ही किया गया। जिससे ये अधिक लोगों तक ने फैले। उन्होंने बताया, “सास के संक्रमित पाए जाने के बाद हमारी सहयोगी ने अस्पताल आना बंद कर दिया था।’

सूत्रों के अनुसार, कुंभ मेले में कितने लोग शामिल हुए और क्या उन्होंने वापसी पर कोविड टेस्ट कराया है, इस पर अभी भी कोई ठोस जानकारी नहीं है।

हालांकि, विशेषज्ञों ने सरकार को कोविड के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए मेले से लौटने वालों पर नज़र रखने की सलाह दी है।

कुंभ मेला उत्तराखंड के हरिद्वार में आयोजित किया गया था। देश में कोरोना की दूसरी लहर और बढ़ते कोविड -19 मामलों के बावजूद मेला आयोजित किया गया था।

Next Stories
1 दिल्लीः फोन में बजने वाले मैसेज पर HC की केंद्र को फटकार, कहा- वैक्सीन हैं ही नहीं तो लगवाएगा कौन
2 लाइव डिबेट में पसीने से भीगे थे संबित पात्रा, तबीयत के बारे में ऐंकर ने पूछा तो बताया, घर में सुबह से बिजली नहीं
3 दर्दनाक! 12 दिन में कोरोना ने छीन ली चार जिंदगियां, अब परिवार में केवल 6 और 8 साल की दो बच्चियां
यह पढ़ा क्या?
X