ऐक्ट्रेस श्राबंती चटर्जी ने भी तोड़ा भाजपा से नाता, कहा- बंगाल के लिए यह जरूरी

इससे पहले इसी साल मार्च में जब श्राबंती चटर्जी भाजपा में शामिल हुईं थी को उन्होंने कहा था कि वाम दलों और तृणमूल कांग्रेस के शासन में बंगाल का उतना विकास नहीं हो पाया है जितना होना चाहिए था, इसलिए भाजपा को एक मौका मिलना चाहिए।

srabanti chatterjee, BJP
बंगाली अभिनेत्री श्राबंती चटर्जी(फोटो सोर्स: Instagram/@srabanti.smile)।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को हार मिलने के बाद लगातार झटके लग रहे हैं। बता दें कि चुनाव के बाद से ही कई नेताओं ने पार्टी का साथ छोड़ दिया है। इनमें उनकी संख्या अधिक है जो लोग चुनाव से पहले टीएमसी या किसी और पार्टी से भाजपा में आए थे। वहीं अब इसी साल मार्च में भाजपा में शामिल हुईं बंगाली अभिनेत्री श्राबंती चटर्जी ने भी पार्टी से नाता तोड़ लिया है।

अपने एक ट्वीट में उन्होंने कहा, “मैं भाजपा से अपने सभी रिश्ते तोड़ रही हूं। वह पार्टी जिसके लिए मैंने पिछला विधानसभा चुनाव लड़ा था। पहल करने और गंभीरता के साथ बंगाल के हितों को आगे बढ़ाने में कमी के कारण ऐसा कर रही हूं।”

बता दें कि इससे पहले इसी साल मार्च में बंगाली अभिनेत्री श्राबंती चटर्जी ने बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय व दिलीप घोष की मौजूदगी में भाजपा का दामन थामा था। बता दें कि श्राबंती चटर्जी ने बांग्ला फिल्मों में 1997 में ‘मायार बंधोन’ से डेब्यू किया था। इसके अलावा उन्होंने एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्मों में काम किया है।

बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान कई बंगाली अभिनेता व अभिनेत्रियों ने बीजेपी ज्वाइन की थी लेकिन नतीजों के बाद अधिकांश ने पार्टी से दूरी बना ली है।

पिछले महीने भाजपा से इस्तीफा देने वाले विधायक कृष्ण कल्याणी भी ममता सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी की मौजूदगी में टीएमसी में शामिल हो गए थे। उन्होंने कहा था कि मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ से सभी परेशान हैं। ऐसे में मैं बीजेपी का हिस्सा नहीं रह सकता। वहीं अक्टूबर में ही बीजेपी नेता सव्यसाची दत्ता भी पार्टी छोड़ TMC में शामिल हुए थे। दो साल पहले वो तृणमूल कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए थे।

दत्ता बीजेपी में पश्चिम बंगाल के सचिव और विधाननगर महानगर पालिका के पूर्व महापौर थे। उनके टीएमसी में जाने पर केंद्रीय मंत्री निशित प्रमाणिक ने कहा था कि अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं के लिए कुछ लोग दूसरी पार्टी में जा रहे हैं लेकिन जब वे इसे हासिल करने में विफल होते हैं, तो वे वापस लौट जाते हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट