ताज़ा खबर
 

हरीश साल्वे से पहले उनके सीनियर ने भी ICJ में पाकिस्तान को दी थी पटखनी

कारगिल की जंग खत्म होने के कुछ दिन बाद ही 10 अगस्त 1999 को भारतीय वायुसेना ने कच्छ के रण में एक पाकिस्तानी विमान ब्रेके ऐटलैंटिक को मार गिराया था।
पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी (File Photo)

देश के पूर्व सॉलिसिटर जनरल और सुप्रीम कोर्ट के वकील हरीश साल्वे को देश के सबसे महंगे वकीलों में गिना जाता हैं। इंटरनेशनल कोर्ट में कुलभूषण जाधव मामले में भारत को मिली का सारा श्रेय एडवोकेट साल्वे को जाता है। इंटरनेशनल कोर्ट में साल्वे ने सुनवाई के दौरान इस तरह से दलीलें रखीं कि पाकिस्तान के हर झूठ का पर्दाफाश हो गया। महज एक रुपये में केस लड़कर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में भारत को जीत दिलाने वाले हरीश साल्‍वे की सोशल मीडिया पर खूब वाह-वाही हो रही है। वहीं पाकिस्‍तान की तरफ से लड़ने वाले खावर कुरैशी के खिलाफ पाक की जनता में रोष है।

सोशल मीडिया पर कुरैशी की खूब आलोचना हो रही है। पाकिस्तान की जनता इस बात पर अपना भड़ास निकाल रहे हैं कि पाकिस्‍तान को अपना पक्ष रखने के लिए 90 मिनट का समय मिला, लेकिन कुरैशी ने केवल 50 मिनट में ही अपनी दलील पूरी कर ली। उनके उलट भारत की तरफ से साल्‍वे ने जबर्दस्‍त ढंग से डेढ़ घंटे के समय में दमदार दलीलें देकर भारतीय पक्ष को खूबसूरती से पेश किया। उनकी मेहनत भी खूब रंग लाई। इस मामले में भारत की जीत हुई। इंटरनेशनल कोर्ट ने अपने फैसले में कुलभूषण की फांसी पर रोक लगा दी। हालांकि, यह कोई पहली मर्तबा नहीं है जब भारत को इंटरनेशनल कोर्ट में जीत मिली हो, इससे पहले भी भारत इंटरनेशनल कोर्ट में अपनी जीत दर्ज करा चुका है।

मालूम हो कि 1999 में ब्रेके ऐटलैंटिक विमान को मार गिराये जाने को लेकर पाकिस्तान ने इंटरनेशनल कोर्ट में याचिका दायर की थी। उस समय भारत की तरफ से केस लड़ रहे पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी की दलीलों के सामने इंटरनेशनल कोर्ट में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी थी। सोराबजी ने कोर्ट में यह साबित कर दिया था कि पाकिस्तान की ओर से दाखिल किया गया मामला कोर्ट के दायरे में ही नहीं आता है।

दरअसल, कारगिल की जंग खत्म होने के कुछ दिन बाद ही 10 अगस्त 1999 को भारतीय वायुसेना ने कच्छ के रण में एक पाकिस्तानी विमान ब्रेके ऐटलैंटिक को मार गिराया था। पाकिस्तान ने अपनी याचिका में कहा था कि उसकी नेवी के टोही विमान को भारत ने मार गिराया है। पाकिस्तान 21 सितंबर 1999 को भारत के खिलाफ अपनी याचिका लेकर इंटरनेशनल कोर्ट पहुंचा था। भारत ने अपने जवाब में साफ तौर पर कहा था कि विमान ने भारतीय वायुक्षेत्र में अनाधिकृत ढंग से प्रवेश किया और बार-बार चेतावनी देने के बावजूद वापस नहीं गया।

इंटरनेशनल कोर्ट ने 21 जून 2000 को अपना फैसला सुनाया था। जिसमें उन्होंने पाकिस्तान की याचिका खारिज की थी। याचिका खारिज करने के पीछे कोर्ट ने दलील दी कि यह मामला दोनों देशों के दि्वपक्षीय रिश्तों के अंतर्गत आता है और इस मामले को दोनों देशों को आपस में ही निपटाना चाहिए। उस समय भारत के पक्ष में कोर्ट ने 14-2 के अंतर से फैसला सुनाया था, कोर्ट ने दोनों पक्षों को अपने विवाद शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाने की हिदायत भी दी थी।

दोनों मामलों में दिलचस्प बात ये भी है कि एडवोकेट हरीश साल्वे और सोराबजी में शुरु से ही एक खास कनेक्शन है। साल्वे ने अपने करियर की शुरुआत सोराबजी के जूनियर के तौर पर ही की थी। अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार में दोनों ही भारत के शीर्ष लॉ ऑफिसर थे। उस समय सोराबजी जहां अटॉर्नी जनरल थे, वहीं साल्वे सॉलिसिटर जनरल के पद पर थे।

देखिए वीडियो -  कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर ICJ ने अंतिम फैसला आने तक लगाई रोक; जानिए क्या है पूरा मामला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.