ताज़ा खबर
 

BCCI पर भड़के मियांदाद, बोले- भारत के बुरे दिन शुरू, पाकिस्‍तान से क्रिकेट खेलने के लिए एक दिन जोड़ेगा हाथ

मियांदाद ने यह बात बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर के उस बयान के जवाब में कही, जिसमें उन्‍होंने कहा था, ''क्रिकेट संबंध बहाल करने के लिए पाकिस्‍तान सरकार को भारत सरकार के साथ बात करनी चाहिए। इस कदम से माहौल को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।

Author इस्‍लामाबाद | October 28, 2015 2:39 PM
पाकिस्‍तान के पूर्व क्रिकेटर जावेद मियांदाद। (फाइल फोटो)

पाकिस्‍तान के पूर्व क्रिकेटर और अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम के समधी जावेद मियांदाद ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को जमकर खरी खोटी सुनाई है। उन्‍होंने कहा कि बीसीसीआई कोई क्रिकेट बोर्ड नहीं बल्कि गवर्नमेंट बोर्ड है। भारत जिस प्रकार से तेवर दिखा रहा है, उन्‍हें देखकर लगता है कि उसके डाउनफाल की शुरुआत हो चुकी है। मियांदाद ने कहा कि वो दिन ज्‍यादा दूर नहीं है, जब बीसीसीआई को पाकिस्‍तान के साथ क्रिकेट सीरीज खेलने के लिए हाथ जोड़ने पड़ेंगे।

मियांदाद ने यह बात बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर के उस बयान के जवाब में कही, जिसमें उन्‍होंने कहा था, ”क्रिकेट संबंध बहाल करने के लिए पाकिस्‍तान सरकार को भारत सरकार के साथ बात करनी चाहिए। इस कदम से माहौल को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।

जावेद मियांदाद ने कहा कि पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्‍यक्ष शहरयार खान जब बीसीसीआई के बुलावे पर भारत गए थे, तब उनके साथ कैसा बर्ताव किया गया था। इससे पता चलता है कि न तो बीसीसीआई और न ही भारत सरकार दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंधों को लेकर संजीदा हैं। मियांदाद ने कहा कि पाकिस्‍तान को भी विरोध दर्ज कराना चाहिए और अगले साल भारत में होने वाले टी-20 वर्ल्‍ड कप का बॉकॉट करना चाहिए।

शिवसेना के विरोध की वजह से बीसीसीआई अध्‍यक्ष ने रद्द कर दी शहरयार खान से मुलाकात

पीसीबी चीफ शहरयार खान इसी महीने भारत आए थे, लेकिन शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बीबीसीआई ऑफिस में घुसकर नारेबाजी बीसीसीआई को धमकी दी थी, जिसकी वजह से बीबीसीआई ने शहरयार के साथ मुलाकात रद्द कर दी थी। इसके बाद शहरयार ने धमकी दी थी कि अगर दिसंबर में प्रस्तावित सीरीज को लेकर भारत ने एक सप्ताह में स्पष्ट बात नहीं की तो पीसीबी टी-20 वर्ल्‍डकप का बॉयकॉट कर देगा।

शहरयार ने कहा था, ”मैं निराश हूं और मुझे ऐसा लगता है कि बीसीसीआई ने हमारी ठीक से मेहमानवाजी नहीं की। मैं उन्हें और आईसीसी को लिखूंगा और हमारे साथ हुए बर्ताव पर नाराजगी जताउंगा। यह कहना गलत है कि हम बिना बुलाए भारत गए थे। मैंने शशांक मनोहर से फोन पर बात की थी और उन्होंने मुझे सोमवार सुबह 11 बजे मुंबई में मिलने के लिए बुलाया था। बाद में हमें लिखित बुलावा भी भेजा गया था। इसके बाद भी मनोहर ने मुलाकात रद्द कर दी।”

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, गूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App