ताज़ा खबर
 

ओबामा तो राहुल को 5 मिनट में पहचान गए लेकिन आप अब तक नहीं पहचान पाए, शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस नेता पर कसा तंज

शहजाद पूनावाला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के रिश्तेदार हैं। वो प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा के बहनोई तहसीन पूनावाला के भाई हैं।

TV DEBATE TRENDING NEWSकांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और राजनीतिक विश्लेषक शहजाद पूनावाला। (पीटीआई)

टीवी चैनल न्यूज24 के डिबेट शो ‘राष्ट्र की बात’ में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का जिक्र कर कांग्रेस के पूर्व नेता और राजनीतिक विश्लेषक शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा। उन्होंने कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम की एक टिप्पणी पर तंज कसते हुए कहा कि बराक ओबामा ने पांच मिनट में राहुल गांधी को पहचान लिया मगर कांग्रेस पार्टी के नेता उन्हें अभी भी नहीं पहचान पाए।

बराक ओबामा ने हाल में रिलीज हुई अपनी एक किताब में राहुल गांधी पर टिप्पणी करते हुए लिखा है कि वो एक नर्वस और तैयारी करते छात्र की तरह लगे जो अपने शिक्षक को प्रभावित करना चाहता है मगर उसके भीतर ‘विषय का मास्टर’ बनने के लिए जुनून या योग्यता की कमी है। ओबामा ने अपने कार्यकाल के संस्मरणों पर लिखी किताब ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में इसका जिक्र किया है। शहजाद पूनावाला इन्हीं संस्मरणों के आधार पर राहुल पर निशाना साधा।

डिबेट में उन्होंने कहा कि आचार्य जी बराक ओबामा तो पांच मिनट में पहचान गए, आप नहीं पहचान पाए। उन्होंने कहा कि जब राहुल गांधी से हेमंत बिस्व सरमा मिलने गए थे, मगर कुत्ते को बिस्कुट खिलाने वाले राहुल गांधी ने उन्हें नजरअंदाज किया। मगर उन्होंने नोर्थ ईस्ट में क्या किया ये सब देख रहे हैं। इसमें किसकी गलती है। बता दें कि इस नाराजगी के बाद सरमा ने कांग्रेस छोड़ दी और भाजपा में शामिल हो गए। आज पूर्वोत्तर राज्यों में भाजपा की सरकार बनवाने में उनका बड़ा योगदान माना जाता है।

कौन हैं शहजाद पूनावाला
शहजाद पूनावाला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के रिश्तेदार हैं। वो प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा के बहनोई तहसीन पूनावाला के भाई हैं। जिनकी शादी रॉबर्ट वाड्रा की बहन से हुई है। पूर्व में शहजाद डिबेट्स में कांग्रेस का पक्ष रखते हुए नजर आते थे। हालांकि राहुल गांधी को निर्विरोध कांग्रेस का अध्यक्ष चुने जाने पर उन्होंने नाराजगी जताई थी। उनका कहना था कि अगर चुनाव निष्पक्ष होते तो वो भी कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए खड़े होते।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संकट में एक और बैंक! लक्ष्मी विलास बैंक से नकदी निकालने पर एक महीने की रोक, केवल 25 हजार रुपए ही निकाल सकेंगे ग्राहक
2 अवमानना का केस झेल रहे कुणाल कामरा ने फिर उड़ाया सुप्रीम कोर्ट का मजाक!
3 कांग्रेस अल्‍पसंख्‍यक कमेटी अध्‍यक्ष ने त्‍यागपत्र में नेतृत्‍व पर उठाया सवाल, पार्टी से हुआ सस्‍पेंड
यह पढ़ा क्या?
X