नए वित्त वर्ष से बैंकों से लोन लेना हुआ सस्ता, EMI का भार होगा कम - Jansatta
ताज़ा खबर
 

नए वित्त वर्ष से बैंकों से लोन लेना हुआ सस्ता, EMI का भार होगा कम

आरबीआई पांच अप्रैल को रेपो रेट में 0.25 से 0.50 फीसदी की कटौती कर सकता है। ऐसे में बाकी बैंकों को भी अपनी ब्याज दर में कटौती करनी होगी।

आरबीआई पांच अप्रैल को रेपो रेट में 0.25 से 0.50 फीसदी की कटौती कर सकता है।

बैंकों से होमलोन के साथ-साथ अन्य लोन लेना अब सस्ता होना शुरू हो गया है। 15 साल के लिए 50 लाख रुपए का लोन लेने वालों की ईएमआई 300 रुपए से ज्यादा सस्ती हो सकती है देश के अग्रणी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने एक अप्रैल से होम लोन रेट सस्ती कर दी है। पहले यह रेट 9.5 फीसदी थी, जिसे घटाकर 9.4 फीसदी कर दिया गया है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा दिसंबर 2015 में जारी किए गए नियम को वापस ले लिया गया, जिसमें बैंकों को अपनी मर्जी से रेट रिवाइज करने की आजादी दी गई थी। अब रेट मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स के आधार पर आधारित की जाएगी। बैंकों को नियमित तौर पर अपने फंड की कॉस्ट को कैलकूलेट करना होगा। नए फॉर्मूले को मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट(एमसीएलआर) का नाम दिया गया है।

Read Also: आज से महंगी हुईं ये चीजें, पड़ेगा आपके बजट पर असर

एसबीआई ने होम लोन पर ब्याज दर मौजूदा 9.5 फीसदी से घटाकर 9.4 फीसदी कर दी है। आईसीसीआई बैंक ने एसबीआई की तरह एक साल के लिए 9.2 फीसदी रेट घोषित की है, लेकिन बैंक ने अभी बेस रेट में कोई कटौती नहीं की है। एचडीएफसी बैंक ने भी अपने 9.2 फीसदी एमसीएलआर की घोषणा कर दी है। इसकी बेस रेट 9.3 फीसदी है। आईसीआईसीआई बैंक ने एक करोड़ रुपए के ज्यादा के डिपॉजिट पर पर ब्याज दर घटा दी है। इसमें 0.55 फीसदी की कटौती की गई है।

Read Also: Facebook यूजर्स को चंद घंटों में मिल सकता लाख रुपए का लोन, जानें कैसे?

इसके साथ ही संभावना जताई जा रही है कि ब्जाज दर में और ज्यादा कटौती देखने को मिल सकती है। आरबीआई पांच अप्रैल को रेपो रेट में 0.25 से 0.50 फीसदी की कटौती कर सकता है। ऐसे में बाकी बैंकों को भी अपनी ब्याज दर में कटौती करनी होगी। गौरतलब है कि आरबीआई ने बैंकों को निर्देश दिए थे कि जब वह अपने प्रमुख रेट में कटौती करता है तो बाकी बैंकों को भी अपने रेट में कटौती करनी होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App