ताज़ा खबर
 

ऑनलाइन फ्रॉड रोकने के लिए प्रति खाता तीन रुपए भी खर्च नहीं करती भारत सरकार, साइबर सिक्योरिटी पर ₹ 2 हजार करोड़ है जेपी मोर्गन का खर्च

नोटबंदी के बाद लोगों को परेशानी हो रही है। परेशानी से बचने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों से वक्त-वक्त पर अपील करते रहे हैं कि हमें कैशलेस सोसाइटी की तरफ बढ़ना चाहिए।
फोन इस्तेमाल करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (Photo Source: quora.com)

नोटबंदी के बाद लोगों को परेशानी हो रही है। परेशानी से बचने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों से वक्त-वक्त पर अपील करते रहे हैं कि हमें कैशलेस सोसाइटी की तरफ बढ़ना चाहिए। लेकिन यह ना तो इतना आसान है और ना ही उतना सुरक्षित। एनडीटीवी पर रवीश कुमार ने ऑनलाइन बैंकिग के मुद्दे पर अपने शो ‘प्राइमटाइम’ में डिबेट की। उस डिबेट में यह बात निकलकर आई कि ऑनलाइन बैंकिंग के कई खतरे भी हैं। शो में डिबेट के लिए तीन लोग आए हुए थे। उसमें से एक थे साकेत मोदी। वह लुसिडियस नाम की कंपनी के सीईओ हैं। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन चोरी होने के खतरे से आम लोगों के साथ-साथ बैंक भी ग्रसित हैं। उन्होंने बैंकिंग दुनिया के सबसे बड़े बैंक जेपी मोर्गन चैन की बात की। उन्होंने कहा कि वह हर साल 2 हजार करोड़ साइबर सिक्योरिटी पर खर्च करता है। उसके बादजूद वह दो साल पहले हैक हो गया था। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि ऑनलाइन बैंकिंग के अलावा भी लोगों को खतरा होता है। उन्होंने लोगों को सलाह भी दी कि एक बैंक में सारा पैसा नहीं रखना चाहिए। यानी लोगों को बहुत सारे खाते खुलवाने चाहिए। गौरतलब है कि भारत में फिलहाल 40 करोड़ बैंक खाते हैं। इनमें जनधन खाते भी शामिल हैं। लेकिन करीब 23 प्रतिशत जनधन खाते अभी भी ऐसे हैं जिनमें एक पैसा भी नहीं है।

डिबेट शो में एक सर्वे का भी जिक्र किया गया। उसमें कहा गया कि भारत के 34 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो अपनी सीक्रेट जानकारियां किसी से भी साझा कर लेते हैं। शो में एसोचैम, अन्सर्ट एंड यंग की रिपोर्ट का भी जिक्र था। उसके मुताबिक, पिछले तीन सालों में क्रेडिट, डेबिट कार्ड फ्रॉड छह गुना बढ़ गए हैं।

शो में बांग्लादेश का भी जिक्र किया गया। वहां के सेंट्रल बैंक से 660 करोड़ की ऑनलाइन चोरी हो गई थी। वह अबतक की सबसे बड़ी ऑनलाइन चोरी मानी जाती है। बांग्लादेश का सेंट्रल बैंक अबतक उस पैसे को वापस नहीं ले पाया है।

इस वक्त की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

वीडियो: नोटबंदी: विपक्ष के सवालों पर सरकार कर रही है फैसले का बचाव, देखिए दोनों के तर्क

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.