बांग्लादेश में हिंदुओं पर हुए हमलों पर बोले BJP सांसद, नहीं थमा सिलसिला तो भारत करे आक्रमण, हसीना सरकार के मंत्री का दावा- प्री-प्लांड था हमला

बांग्लादेश के गृह मंत्री ने कहा कि, “हिंसा से जुड़े सभी सबूत मिलने के बाद हम इसे सार्वजनिक करेंगे और इसमें जो भी लोग शामिल होंगे उनको कड़ी सजा दी जाएगी।”

bangladesh,Durga Puja Violence
राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा कि, बांग्लादेश में अगर हिन्दुओं पर अत्याचार नहीं रुके तो भारत आक्रमण करे(फोटो सोर्स: Twitter)।

दुर्गा पूजा के दौरान बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के बाद वहां रह रहे हिंदू अल्पसंख्यकों पर हमले होने की खबरें सामने आ रही हैं। ऐसे में भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने एक ट्वीट में कहा है कि, अगर हमलों का सिलसिला नहीं रुका तो भारत को बांग्लादेश पर आक्रमण कर देना चाहिए। गौरतलब है कि, बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान कुछ अज्ञात मुस्लिम उपद्रवियों ने हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की, जिससे वहां हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं।

लगातार सामने आ रही हमले की खबर को लेकर राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट में लिखा कि, “बांग्लादेश में अगर हिन्दुओं पर अत्याचार नहीं रुके तो भारत बांग्लादेश पर आक्रमण करे।” जहां स्वामी बांग्लादेश पर आक्रमण करने की बात कर रहे हैं तो वहीं बांग्लादेश के गृह मंत्री ने इन हमलों को पूर्व नियोजित बताया है।

हमले की साजिश पूर्व नियोजित: गौरतलब है कि, बांग्लादेश में बने दंगों के हालात के बीच प्रधानमंत्री शेख हसीना के गृह मंत्री असदुज्जमां खान ने रविवार को कहा कि दुर्गा पूजा मंडपों पर किए गए हमले ‘पूर्व नियोजित’ थे। इसका उद्देश्य देश में सांप्रदायिक सद्भाव को भंग करना था। उन्होंने कहा कि, “हमें मालूम पड़ता है कि यह हमले एक निहित समूह द्वारा उकसाया गया कार्य था।” बता दें कि असदुज्जमां का यह बयान बांग्लादेश में हुई हिंसा के सिलसिले में पुलिस द्वारा 4,000 से अधिक लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद आया है।

उन्होंने कहा कि, “कोमिला में ही नहीं, बल्कि रामू और नसीरनगर में सांप्रदायिक हिंसा के जरिए देश की शांति भंग करने का प्रयास किया गया।” कोमिला में हुई घटना को लेकर मंत्री ने कहा, “सभी सबूत मिलने के बाद हम इसे सार्वजनिक करेंगे और इसमें शामिल लोगों को कड़ी सजा दी जाएगी।” वहीं, भारतीय जनता पार्टी ने भी रविवार को दावा किया कि बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान हुई हिंसा धार्मिक अल्पसंख्यक समूहों पर एक व्यवस्थित हमले का हिस्सा है।

गौरतलब है कि, बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान हुई हिंसा से बने हालात को देखते हुए शेख हसीना सरकार को स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए 22 जिलों में अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती करनी पड़ी। सामने आई मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुरुवार को संघर्ष में चार लोगों की जान चली गई मौत हो गई और कई घायल भी हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।