ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश में 10 साल में 80 लाख लोगों को मिला गरीबी से छुटकारा, आनंद महिंद्रा बोले, कहीं हम पड़ोसी से पीछे न रह जाएं

विश्व आर्थिक मंच (WEF) के वीडियो में दिखाया गया है कि बांग्लादेश दुनिया के सबसे तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था में से एक है। इसमें बताया गया है कि बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था भारत से तेजी से आगे बढ़ रही है।

anand mahindraमहिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा। (फाइल फोटो)

प्रसिद्ध उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने एक ट्वीट करके कहा है कि बांग्लादेश में 10 साल में 80 लाख लोगों को मिला गरीबी से छुटकारा, कहीं हम पड़ोसी से पीछे न रह जाएं। उन्होंने इसे प्रेरणादायक कहा और लिखा-जैसा कि अब यह हमारे बजट बनाने का वक्त है, हमें ऐसी नीतियां बनाने की जरूरत है, जो यह तय कर सके कि हम इस शानदार प्रदर्शन वाले पड़ोसी के प्रदर्शन से पीछे न हों…।

विश्व आर्थिक मंच (WEF) के वीडियो में दिखाया गया है कि बांग्लादेश दुनिया के सबसे तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था में से एक है। इसमें बताया गया है कि बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था भारत से तेजी से आगे बढ़ रही है। 2010 से अब तक आठ मीलियन लोग गरीबी रेखा से ऊपर उठ चुके हैं और प्रति व्यक्ति आय केवल दस वर्ष में ही तीन गुनी हो चुकी है।

वीडियो के पूछा गया है कि आखिर इसकी अर्थव्यवस्था इतनी तेजी से कैसे बढ़ रही है? इस जवाब देते हुए बताया गया है कि इसकी चार वजह है। पहला बांग्लादेश के पास चीन के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा वस्त्र उद्योग है। और इसका निर्यात अब भी प्रति वर्ष 16 फीसदी की दर से बढ़ रहा है। दूसरा उसके पास भारी भरकम युवाओं की फौज है। बांग्लादेश न केवल दुनिया का आठवां सर्वाधिक आबादी वाला देश है, बल्कि देश की कुल आबादी की आधी की उम्र 25 वर्ष से कम है। साथ ही युवा कर्मचारी नई तकनीकी को जल्दी सीख जाते हैं।

तीसरा इसका डिजिटल पॉवर होना है। बांग्लादेश के पास छह लाख आईटी फ्रीलांसर हैं, जो विश्व में सर्वाधिक है। तकनीकी बांग्लादेश को नई अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में मदद कर रही है। देश में ऑनलाइन बैंक एकाउंट्स को अधिक से अधिक लोग अपना रहे हैं। चौथा ज्ञान आधारित समाज की तरह लोगों का रुझान बढ़ा है। बंगलादेश खेती और विनिर्माण से परे विविधतापूर्ण है। देश की राजधानी ढाका में अपना तकनीकी हब बना रहा है।

उदारतापूर्ण टैक्स ब्रेक उद्यमियों को प्रोत्साहित कर रहे हैं, और निवेश को आकर्षित करने के लिए 100 विशेष आर्थिक क्षेत्र (SEZ) विकसित किए जा रहे हैं। इस वर्ष आठ फीसदी की वृद्धि के साथ आर्थिक विकास की भविष्यवाणी की गई है। बताया गया है कि बढ़ते समुद्र के स्तर के कारण विस्थापन के जोखिम में आबादी का एक तिहाई हिस्सा होने के बावजूद बांग्लादेश की आर्थिक सफलता से बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तमिलनाडु में भी बज उठा चुनावी बिगुल, पोंगल पर मोहन भागवत, नड्डा और राहुल का दौरा
2 ममता बनर्जी पढ़ रही हैं रोहिंग्या संविधान, बोले भाजपा प्रवक्ता, कहा- चार टीके लगवा लेंगी ममता बनर्जी
3 कैसे बना था राम सेतु? ASI ने रिसर्च को दी हरी झंडी, सामने आ सकते हैं कई रहस्य
किसान आंदोलन LIVE:
X