बाघंबरी मठः नरेंद्र गिरी के बाद अब बलबीर संभालेंगे गद्दी, आनंद गिरी से इस वजह से हो गई थी अनबन, अब होंगे उत्तराधिकारी

5 अक्टूबर को मठ में सुबह 11:00 से 1:00 के बीच पट्ठाभिषेक कार्यक्रम होगा। इस दौरान फूल मालाओं के साथ महंतई चादर की रस्म अदा की जाएगी।

5 अक्टूबर को बाघंबरी मठ के महंत की कमान दिवंगत नरेंद्र गिरी के करीबी बलवीर गिरी को सौंपी जाएगी। (फोटो – पीटीआई)

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद अब बलबीर गिरी उनके उत्तराधिकारी होंगे। बलवीर गिरी ही अब नरेंद्र गिरी की जगह बाघंबरी मठ की गद्दी संभालेंगे। बाघंबरी मठ की गद्दी संभालने वाले बलबीर गिरी महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में आरोपी बनाए गए आनंद गिरी के रवैये की वजह से उन्हें पसंद नहीं करते थे। इन्हीं वजहों से दोनों अनबन भी हो गई थी। 

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद उनके उत्तराधिकारी के रूप में बलवीर गिरी के नाम की घोषणा की गई। हरिद्वार में निरंजनी अखाड़े के पंचों ने यह फैसला लिया और अखाड़ा के आचार्य कैलाशानंद गिरी ने बलवीर गिरी के नाम की घोषणा की। दरअसल बलवीर गिरी को उत्तराधिकारी बनाए जाने के कयास पहले से ही लगाए जा रहे थे। महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद पुलिस को मिले नोट में भी बलवीर गिरी को ही बाघंबरी मठ का महंत बनाए जाने की बात लिखी गई थी।

बलवीर गिरी को दिवंगत नरेंद्र नरेंद्र गिरी का सबसे करीबी माना जाता है। बलवीर गिरी मूल रूप से उत्तराखंड के रहने वाले हैं। अखाड़ा से जुड़ने के लिए उन्होंने साल 2005 में ही अपना घर परिवार छोड़ दिया था। बाद में महंत नरेंद्र गिरी ने बलवीर गिरी को हरिद्वार आश्रम का प्रभारी बनाया था। बलवीर गिरी और आनंद गिरी दोनों एक साथ ही महंत नरेंद्र गिरी के नजदीकी बने थे। लेकिन आनंद गिरी के रवैये की वजह से उन्होंने उनसे दूरी बना ली थी। बलवीर गिरी के दूर रहने का फायदा उठाते हुए आनंद गिरी एक समय महंत नरेंद्र गिरी के सबसे प्रिय शिष्य बन गए थे।

5 अक्टूबर को बाघंबरी मठ के महंत की कमान बलवीर गिरी को सौंपी जाएगी। इसी दिन नरेंद्र गिरी का षोडशी संस्कार भी होगा। 5 अक्टूबर को मठ में सुबह 11:00 से 1:00 के बीच पट्ठाभिषेक कार्यक्रम होगा। इस दौरान फूल मालाओं के साथ महंतई चादर की रस्म अदा की जाएगी। इस दौरान कई बड़े राजनेताओं और अधिकारियों के भी मौजूद रहने की संभावना है। हालांकि अभी तक इस मामले में मठ की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट